Assembly Banner 2021

Corona Virus: टिहरी के कंटेंटमेंट ज़ोन में लोगों ने किया सैंपलिंग से इनकार... समुदाय विशेष को टार्गेट करने का आरोप

स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्हें स्वास्थ्य विभाग की टीम पर विश्वास नहीं है.

स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्हें स्वास्थ्य विभाग की टीम पर विश्वास नहीं है.

29 अगस्त को मुस्लिम मोहल्ले में सैंपलिंग के दौरान एक साथ एक दर्जन से अधिक लोग कोरोना पॉज़िटिव मिले थे.

  • Share this:
टिहरी जिले में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों ने जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की चिन्ताएं बढ़ा दी हैं. वहीं ज़िला मुख्यालय नई टिहरी शहर के मुस्लिम मोहल्ले में एक दर्जन से अधिक कोरोना पॉज़िटिव मरीज मिलने से हड़कंप मचा हुआ है. इसके बाद इस मोहल्ले को कंटेंटमेंट ज़ोन बना दिया गया है. लेकिन मुस्लिम मोहल्ले के लोगों ने प्रशासन पर समुदाय विशेष को टार्गेट करने का आरोप लगाते हुए सैंपलिंग से इनकार कर दिया है और स्वास्थ्य विभाग की टीम को वापस लौटा दिया है. हालांकि प्रशासन ने इस आरोप से इनकार करते हुए कहा है कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लोगों को सहयोग करना चाहिए.

एक साथ दर्जन भर निकले पॉज़िटिव

बता दें कि 29 अगस्त को मुस्लिम मोहल्ले में सैंपलिंग के दौरान एक साथ एक दर्जन से अधिक लोग कोरोना पॉज़िटिव मिले थे. इसके बाद मुस्लिम मोहल्ले को सील करते हुए कंटेंटमेंट ज़ोन में तब्दील कर दिया गया था और डीएम के निर्देश के बाद पूरे कंटेंटमेंट ज़ोन में लोगों की सैंपलिंग कराने को कहा गया था.



लेकिन स्थानीय लोगों ने सैंपलिंग का विरोध शुरू कर दिया. स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्हें स्वास्थ्य विभाग की टीम पर विश्वास नहीं है. लोग आरोप लगा रहे हैं कि मोहल्ले में पहले किसी की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आ रही है तो बाद में पॉज़िटिव आ रही है. किसी की रिपोर्ट पहले पॉज़िटिव आ रही है तो बाद में नेगेटिव. मोहल्ले के लोगों ने स्वास्थ्य विभाग पर कोरोना सैंपल रिपोर्ट में छेड़छाड़ करने का भी आरोप लगाया है.
नेताओं का दबाव

मुस्लिम मोहल्ले के लोगोंं का कहना है कि स्थानीय नेताओं के दबाव में मुसलमानों के मोहल्ले को जबरन कंटेंटमेंट ज़ोन बनाया गया है जबकि जो लोग पॉज़िटिव थे उन्हें कोरोना आइसोलेशन सेंटर सुरसिंगधार में शिफ्ट कर दिया गया है. इसके बावजूद मोहल्ले को कंटेंटमेंट ज़ोन बनाया गया जबकि अन्य कालोनियों में सिर्फ उस बिल्डिंग को ही कंटेंटमेंट ज़ोन बनाया गया है जहां कोरोना पॉज़िटिव लोग मिले.

लोगों ने मांग की कि किसी प्राइवेट डॉक्टर और लैब से लोगों की सैंपलिंग करवाई जाए ताकि हकीकत का पता चल सके.

कोई भेदभाव नहीं, आरोप गलत 

मुस्लिम मोहल्ले के कंटेंटमेंट ज़ोन बनने के बाद यहां के लोगों ने ज़रूरी चीजों के लिए परेशान होने की भी बात कही है. स्थानीय निवासियों का कहना है कि कंटेंटमेंट ज़ोन बनाने से पहले प्रशासन ने लोगों को जानकारी भी नहीं दी जिससे ज़रूरी सामान घर में नहीं लाया जा पा रहा है. तीन दिन से कूड़े की गाड़ी भी मोहल्ले में नहीं आ रही है जिससे गंदगी फैल रही है और लोगों का जीना दूभर हो गया है.

मामले में एसडीएम फींचाराम चौहान का कहना है कि कंटेंटमेंट ज़ोन में ज़रूरी चीजों को लाने-ले जाने के लिए होमगार्ड्स की तैनाती की गई है और कोविड की गाइडलाइन के अनुसार ही सभी की सैंपलिंग की जा रही है. इसमें समुदाय विशेष को लेकर प्रशासन काम नहीं कर रहा है इस तरह के आरोप लगाना गलत है. कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सभी को सहयोग करना चाहिए क्योंकि यह वायरस इंसानों में फ़र्क नहीं कर रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज