Home /News /uttarakhand /

Russia-Ukraine War: यूक्रेन से लौटी अदिति की आपबीती- खतरे के बीच मीलों चले तो रोमानिया बॉर्डर पहुंचे

Russia-Ukraine War: यूक्रेन से लौटी अदिति की आपबीती- खतरे के बीच मीलों चले तो रोमानिया बॉर्डर पहुंचे

Russia-Ukraine War: यूक्रेन से लौटी टिहरी की अदिति कंडारी ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर सुनाई आपबीती.

Russia-Ukraine War: यूक्रेन से लौटी टिहरी की अदिति कंडारी ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर सुनाई आपबीती.

Indian Students in Ukraine : रूस-यूक्रेन युद्ध गंभीर मोड़ पर पहुंच चुका है. रूसी सेना यूक्रेन के कई शहरों में भीतर तक घुस चुकी है, हालात पल-पल बिगड़ते जा रहे हैं. इन हालात में वहां जान की जोखिम के बीच फंसे भारत के लोगों के स्वदेश लौटने का क्रम शुरू हो चुका है. यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के 17 छात्र विशेष विमानों से अब तक लौट चुके हैं. हाल में, दर्जनों स्टूडेंट्स को लेकर जो विमान दिल्ली पहुंचा, उसमें टिहरी गढ़वाल की छात्रा अदिति भी शामिल थी, जिसने अपनी आपबीती और रेस्क्यू का हाल बयां किया.

अधिक पढ़ें ...

टिहरी. यूक्रेन में फंसे भारतीयों के स्वदेश लौटने का सिलसिला शुरू हुआ तो टिहरी के एक परिवार ने भी चैन की सांंस ली है, उनकी बेटी घर लौट आई है. टिहरी की अदिति कंडारी यूक्रेन के चेरनिव्त्सी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की सेकंड इयर की स्टूडेंट थी. उसकी घर वापसी से परिजन काफी खुश हैं. रविवार को यूक्रेन में फंसे कई छात्र रोमानिया के रास्ते विशेष विमान से भारत लौटे, उनमें टिहरी के बौराड़ी की रहने वाली अदिति भी शामिल हैं. दिल्ली से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंची अदिति को लेने के लिए उसके पिता दर्मियान कंडारी और माता राजेश्वरी देवी मौजूद थे. यूक्रेन से दिल्ली तक का अदिति का सफर काफी मुश्किल भरा रहा.

अपनी आपबीती सुनाते हुए अदिति ने कहा जबसे रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध शुरू हुआ, तबसे यूक्रेन में हालात लगातार बिगड़ने लगे और उन्हें घर वापसी की चिंता सता रही थी. उनके कॉलेज मैनेजमेंट ने उन्हें पहले ही बैग पैक करने को कह दिया था और वो मेडिकल हॉस्टल में ही थे, जिसके बाद लगातार हालात बिगड़ते गए.

एम्बेसी की मदद से निकले स्टूडेंट्स

एम्बेसी ने स्टूडेंट्स को निकालने के लिए प्रयास तेज़ किए. इधर, अन्य देशों के स्टूडेंट्स का भी डेटा तैयार किया जा रहा था. अदिति ने बताया पहले बैच को निकलने में कोई दिक्कत नहीं हुई, लेकिन फिर हालात बिगड़े और उनके साथ ही अन्य स्टूडेंट्स को काफी दिक्कतें पेश आईं.

रोमानिया बॉर्डर तक पहुंचना था चैलेंज

अदिति के मुताबिक यूक्रेन में एयरपोर्ट तक पहुंचने में ही जान जोखिम में आ गई थी. रोमानिया बार्डर तक पहुंचने के लिए अदिति समेत कई स्टूडेंट्स को जान की जोखिम के बीच खतरनाक हालातों में बचते हुए 8 किलोमीटर पैदल चलना पड़ा. वहां से उन्हें बसों से एयरपोर्ट तक पहुंचाया गया, जहां से विशेष विमान से दिल्ली लाया गया.

पिता ने सरकार का आभार जताया

अदिति के पिता का कहना है कि यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध की खबरें आते ही उन्हें अपने बच्चों की चिंता सताने लगी थी और वो लगातार अदिति से वीडियो कॉल के ज़रिये बात कर रहे थे. परिजनों ने अदिति की सुरक्षित घरवापसी के लिए सरकार का आभार व्यक्त किया.

Tags: Medical Students, Russia ukraine war, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर