Home /News /uttarakhand /

टिहरी: 10 माह से नहीं मिला वेतन, दुग्ध संघ कर्मचारियों के सामने रोजी रोटी का संकट

टिहरी: 10 माह से नहीं मिला वेतन, दुग्ध संघ कर्मचारियों के सामने रोजी रोटी का संकट

टिहरी गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ नई टिहरी घाटे का सौदा बनकर रह गया है. गठन के बाद से ही घाटे में चल रहे दुग्ध संघ के पास अब अपने कर्मचारियों को वेतन देने तक के पैसे नहीं  है जिसके चलते कर्मचारियों आर्थिकी संकट से जूझ रहे हैं.

टिहरी गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ नई टिहरी घाटे का सौदा बनकर रह गया है. गठन के बाद से ही घाटे में चल रहे दुग्ध संघ के पास अब अपने कर्मचारियों को वेतन देने तक के पैसे नहीं है जिसके चलते कर्मचारियों आर्थिकी संकट से जूझ रहे हैं.

टिहरी गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ नई टिहरी घाटे का सौदा बनकर रह गया है. गठन के बाद से ही घाटे में चल रहे दुग्ध संघ के पास अब अपने कर्मचारियों को वेतन देने तक के पैसे नहीं है जिसके चलते कर्मचारियों आर्थिकी संकट से जूझ रहे हैं. टिहरी गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ नई टिहरी अपने शुरूआती दौर से ही लाखों के घाटे में चल रहा है और वर्तमान में दुग्ध संघ के पास कर्मचारियों को वेतन देने के लाले पड़े हुए हैं.

अधिक पढ़ें ...
    टिहरी गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ नई टिहरी घाटे का सौदा बनकर रह गया है. गठन के बाद से ही घाटे में चल रहे दुग्ध संघ के पास अब अपने कर्मचारियों को वेतन देने तक के पैसे नहीं है जिसके चलते कर्मचारियों आर्थिकी संकट से जूझ रहे हैं. टिहरी गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ नई टिहरी अपने शुरूआती दौर से ही लाखों के घाटे में चल रहा है और वर्तमान में दुग्ध संघ के पास कर्मचारियों को वेतन देने के लाले पड़े हुए हैं.

    दुग्ध संघ में कार्यरत करीब 32 कर्मचारियों को पिछले 10 माह से वेतन नहीं मिला है जिसके चलते कर्मचारियों के सामने रोजी रोटी का संकट खडा हो गया है.
    कर्मचारियों का कहना है कि कई बार आंदोलन करने के बावजूद उन्हें वेतन की जगह सिर्फ मिला तो आश्वासन और अब तो हालात ये हो गए हैं कि उन्हें परिवार के पालन पोषण में कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है.

    दुग्ध संघ कर्मचारी संघ के ध्यक्ष सोभन सिंह पंवार का कहना है कि 10 माह से वेतन नहीं मिलने के चलते वो अपने बच्चों के स्कूल की फीस नहीं दे पा रहे हैं और कई कर्मचारियों के सामने तो रोजी रोटी का संकट बना हुआ है लेकिन शासन द्वारा लगातार कर्मचारियों की उपेक्षा की जा रही है.

    टिहरी गढ़वाल दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ के प्रबंधक एमसी पंत का कहना है कि शुरूआती दौर से ही चल रहे घाटे से दुग्ध संघ उभर नहीं पा रहा है और वर्तमान में दुग्ध संघ करीब 4 करोड़ से ऊपर के घाटे में है जिस कारण कर्मचारियों का वेतन नहीं दे पा रहे हैं.

    Tags: Tehri news, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर