लाइव टीवी

दो विभागों के बीच फंसे टिहरीवासी... भुगतान न होने से बोट संचालन ठप, लगाना पड़ रहा 40 किमी का चक्कर

Saurabh Singh | News18 Uttarakhand
Updated: October 25, 2019, 4:01 PM IST
दो विभागों के बीच फंसे टिहरीवासी... भुगतान न होने से बोट संचालन ठप, लगाना पड़ रहा 40 किमी का चक्कर
नावों का संचालन बंद होने से एक दर्जन से ज़्यादा गावों के लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं जो आवाजाही के लिए मुख्यतः इन्हीं पर निर्भर हैं.

पुनर्वास विभाग (Rehabilitation Department) के अधिशासी अभियंता केएन रॉय (KN Roy) ने इस बारे में कहा कि टीएचडीसी (THDC) बजट नहीं दे रहा है जिसकी वजह से भुगतान नहीं हो पाया है.

  • Share this:
 

tehri boat strike, टीएचडीसी और पुनर्वास विभाग (Rehabilitation Department) की आपसी खींचतान का खामियाजा टिहरी झील (Tehri Lake) से सटे गांवों के लोग भुगतने को मजबूर हैं. पुनर्वास विभाग के फेरी बोट (ferry boat) मालिकों का भुगतान नहीं करने से गुस्साए आक्रोशित बोट मालिकों ने नावों का संचालन बंद कर दिया है. इसकी वजह से एक दर्जन से ज़्यादा गावों के लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं जो आवाजाही के लिए मुख्यतः इन्हीं पर निर्भर हैं. 
टिहरी. टीएचडीसी (THDC) और पुनर्वास विभाग (Rehabilitation Department) की आपसी खींचतान का खामियाजा टिहरी झील (Tehri Lake) से सटे गांवों के लोग भुगतने को मजबूर हैं. पुनर्वास विभाग के फेरी बोट (ferry boat) मालिकों का भुगतान नहीं करने से गुस्साए आक्रोशित बोट मालिकों ने नावों का संचालन बंद कर दिया है. इसकी वजह से एक दर्जन से ज़्यादा गावों के लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं जो आवाजाही के लिए मुख्यतः इन्हीं पर निर्भर हैं. 


tehri boat strike, टिहरी बांध की झील बनने के बाद टिहरी झील से सटे गांवों के आवागमन के लिए पुनर्वास विभाग ने फ़ेरी बोट का संचालन शुरु किया था ताकि लोगों को कई किलोमीटर का चक्कर न मारना पड़े. इस बोट सर्विस का सारा खर्चा टीएचडीसी वहन करता है.
टिहरी बांध की झील बनने के बाद टिहरी झील से सटे गांवों के आवागमन के लिए पुनर्वास विभाग ने फ़ेरी बोट का संचालन शुरु किया था ताकि लोगों को कई किलोमीटर का चक्कर न मारना पड़े. इस बोट सर्विस का सारा खर्चा टीएचडीसी वहन करता है. 


tehri boat strike, टिहरी झील के कोटी से रोलाकोट, गडोली, नौताड़, डोबरा, छाम, बुल्डोगी सहित एक दर्जन से अधिक गांव के 5 से 7 हज़ार लोग रोज़ अपने रोज़मर्रा के कामों के लिए फेरी बोट से सफर करते हैं. आज सुबह नाव तक तक पहुंचे ग्रामीणों को पता चला कि नावों का संचालन ठप कर दिया गया है.
टिहरी झील के कोटी से रोलाकोट, गडोली, नौताड़, डोबरा, छाम, बुल्डोगी सहित एक दर्जन से अधिक गांव के 5 से 7 हज़ार लोग रोज़ अपने रोज़मर्रा के कामों के लिए फेरी बोट से सफर करते हैं. आज सुबह नाव तक तक पहुंचे ग्रामीणों को पता चला कि नावों का संचालन ठप कर दिया गया है.


tehri boat strike, ग्रामीण घंटों इंतजार करते रहे लेकिन नावों का संचालन शुरु नहीं हुआ तो उन्हें करीब 40 किमी की दूरी तय कर सड़क मार्ग से आना पड़ा. कुछ लोग दूध, सब्जी के इंतज़ार में भी घंटों खड़े रहे और मायूस होकर घर लौट गए.
ग्रामीण घंटों इंतजार करते रहे लेकिन नावों का संचालन शुरु नहीं हुआ तो उन्हें करीब 40 किमी की दूरी तय कर सड़क मार्ग से आना पड़ा. कुछ लोग दूध, सब्जी के इंतज़ार में भी घंटों खड़े रहे और मायूस होकर घर लौट गए.


tehri boat strike, फेरी बोट मालिकों का कहना है कि पैसा न मिलने की वजह से वह बेरोजगार से हो गे हैं और चार मीहने से अपने कर्मचारियों को पैसा तक नहीं दे पा रहे हैं.
फेरी बोट मालिकों का कहना है कि पैसा न मिलने की वजह से वह बेरोजगार से हो गे हैं और चार मीहने से अपने कर्मचारियों को पैसा तक नहीं दे पा रहे हैं. 


tehri boat strike, पुनर्वास विभाग के अधिशासी अभियंता केएन रॉय ने इस बारे में कहा कि टीएचडीसी बजट नहीं दे रहा है जिसकी वजह से भुगतान नहीं हो पाया है. उन्होंने आश्वासन दिया कि पुनर्वास विभाग अपने पास से 2 महीने का भुगतान आज ही कर देगा और बाकी पैसों का भी जल्द ही इंतज़ाम कर दिया जाएगा. 
पुनर्वास विभाग के अधिशासी अभियंता केएन रॉय ने इस बारे में कहा कि टीएचडीसी बजट नहीं दे रहा है जिसकी वजह से भुगतान नहीं हो पाया है. उन्होंने आश्वासन दिया कि पुनर्वास विभाग अपने पास से 2 महीने का भुगतान आज ही कर देगा और बाकी पैसों का भी जल्द ही इंतज़ाम कर दिया जाएगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टिहरी गढ़वाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 4:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...