Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड संकट: कांग्रेस ने विजय बहुगुणा के बेटे साकेत को पार्टी से निकाला

उत्तराखंड संकट: कांग्रेस ने विजय बहुगुणा के बेटे साकेत को पार्टी से निकाला

उत्तराखंड में पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते कांग्रेस ने आज पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के बेटे साकेत बहुगुणा को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया है.

उत्तराखंड में पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते कांग्रेस ने आज पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के बेटे साकेत बहुगुणा को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया है.

उत्तराखंड में पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते कांग्रेस ने आज पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के बेटे साकेत बहुगुणा को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया है.

    उत्तराखंड सरकार पर आया राजनीतिक संकट गहराता ही जा रहा है. हरीश रावत सरकार पर आए संकट के बादल छंटने का नाम नहीं ले रहे हैं. उत्तराखंड में पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते कांग्रेस ने आज पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के बेटे साकेत बहुगुणा को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया है. वहीं कांग्रेस महासचिव अनिल गुप्ता को भी बाहर का रास्ता दिखाया गया है.

    उत्तराखंड संकट: राहुल के इस गुरु मंत्र से हरीश रावत बचा पाएंगे अपनी सरकार!

    टिहरी लोकसभा सीट के कांग्रेस के टिकट पर सांसद का चुनाव लड़ चुके साकेत बहुगुणा को पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है. पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के पुत्र साकेत बीते दिनों से लगातार भाजपा के खेमें में देखे जा रहे हैं. बताया जा रहा है कांग्रेस के नौ विधायकों द्वारा पार्टी का दामन छोड़ने के मामले में उनकी बड़ी भूमिका रही है. इन सारी बातों को मद्देनजर रखते हुए संगठन ने साकेत को 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है. उधर, संगठन ने साफ कहा कि आने वाले समय में अन्य बागी या फिर उनके करीबी कार्रवाई के लिए तैयार रहें.

    इस घटना को 18 मार्च को उत्तराखंड विधानसभा में कांग्रेस के बागी विधायकों की ओर से सरकार को घेरने की घटना के बाद मुख्यमंत्री हरीश रावत सरकार के पलटवार के रूप में देखा जा रहा है. एक्शन मोड में आई प्रदेश सरकार ने 18 मार्च की घटनाक्रम के बाद क्या-क्या किए पलटवार, आप भी जानिए.

    हरीश रावत के करीबियों पर इनकम टैक्स विभाग ने मारा छापा 

    19 मार्च : बागी विधायकों का नेतृत्व कर रहे कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत पर निशाना साधते हुए सीएम रावत ने सबसे पहले मंत्रिमंडल से उन्हें बर्खास्त करने की कार्रवाई की. हालांकि, हरक सिंह रावत ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वे पहले ही मंत्री पद से इस्तीफा दे चुके हैं.

    19 मार्च को हुई कैबिनेट की बैठक में एडवोकेट जनरल यू.के. उनियाल को भी उनके पद से हटा दिया गया. गौरतलब है कि यूके उनियाल कांग्रेस के बागी विधायक सुबोध उनियाल के भाई हैं.

    उत्तराखंड: हॉर्स ट्रेडिंग से बचाने के लिए कांग्रेस ने विधायकों को पिकनिक पर भेजा

    20 मार्च : सीएम हरीश रावत ने विधानसभा पहुंचकर हरक सिंह रावत का दफ्तर सील कराया. विधानसभा परिसर के दफ्तर में फाइलों को खंगाल कर ताला लगा दिया गया.

    20 मार्च : बागी विधायकों के घर कारण बताओ नोटिस चस्पा किए गए. सभी विधायकों को दल-बदल अधिनियम के तहत नोटिस जारी किए गए.

    20 मार्च : हरक सिंह रावत समर्थक मंडी समिति अध्यक्षों पर गिरी गाज. रावत सरकार ने 6 मंडी समिति अध्यक्ष हटाए, जिनमें हरिद्वार, देहरादून, ऋषिकेश, लक्सर, जसपुर और सितारगंज मंडी अध्यक्ष शामिल हैं.

    20 मार्च : कांग्रेस संगठन की 9 इकाइयां भंग कर दी गईं. बागी विधायकों के क्षेत्र की इकाइयों को प्रदेश अध्यक्ष ने भंग कर दिया.

    21 मार्च : उत्तराखंड में पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते कांग्रेस ने विजय बहुगुणा के बेटे साकेत बहुगुणा को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया गया है.

    21 मार्च : उत्तराखंड में कांग्रेस महासचिव अनिल गुप्ता को भी पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में कांग्रेस से निष्कासित.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर