टिहरी में रचा गया इतिहास, पहली बार झील में हो रही है कैबिनेट की बैठक

मुख्यमंत्री ने टिहरी को लेकर बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि टिहरी ही उत्तराखंड का भविष्य है.

News18 Uttarakhand
Updated: May 16, 2018, 11:39 AM IST
टिहरी में रचा गया इतिहास, पहली बार झील में हो रही है कैबिनेट की बैठक
पहली बार किसी कैबिनेट की बैठक पानी में हो रही है. त्रिवेंद्र सरकार की बैठक टिहरी झील मेंं शुरू हो गई है.
News18 Uttarakhand
Updated: May 16, 2018, 11:39 AM IST
उत्तराखंड में आज एक नया इतिहास रचा गया है. पहली बार किसी कैबिनेट की बैठक पानी में हो रही है. त्रिवेंद्र सरकार की बैठक टिहरी झील में शुरू हो गई है. शुरुआती जानकारी के अनुसार इसमें सबसे पहले पर्यटन पर ही चर्चा हुई है.

टिहरी झील में तैर रही मरीना में त्रिवेंद्र कैबिनेट की बैठक हो रही है. सुबह से ही इसमें शामिल होने के लिए मंत्रियों और अधिकारी पहुंचने लगे थे. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के साथ नौ बजे से पहले ही टिहरी पहुंच गए थे. उनके साथ मुख्य सचिव भी थे.



मुख्यमंत्री ने कोटी कॉलोनी में हट्स का निरीक्षण किया. इस दौरान मुख्यमंत्री ने टिहरी को लेकर बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि टिहरी ही उत्तराखंड का भविष्य है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि टिहरी को अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए सरकार कई योजनाएं चला रही है. टिहरी झील से हज़ारों लोगों को रोज़गार मिलेगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का दिन टिहरी के लिए ऐतिहासिक.

करीब पौने 11 बजे टिहरी झील में तैर रही मरीना बोट में शुरू हुई कैबिनेट की बैठक में मुख्यमंत्री की बात की गूंज भी सुनाई दी. वीर चंद्र सिंह गढ़वाली योजना के तहत प्रयोजन का विस्तार किया गया, पहले 9 कार्यों के लिए लोन मिलता था अब 19 कार्यों के लिए लोन मिल सकेगा.

सूत्रों के अनुसार पर्यटन को उद्योग को दर्जा दिया जा सकता है, कई सालों से इसके लिए मांग चल रही थी. मुख्यमंत्री की फ़्लैगशिप योजना ‘13 ज़िले, 13 पर्यटक स्थल’ के तहत टिहरी झील, चोपता, औली को विकसित करने का प्रस्ताव कैबिनेट में रखा गया है.

(टिहरी से सौरभ सिंह और मुकेश कुमार के साथ मनीष कुमार की रिपोर्ट)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...