Home /News /uttarakhand /

Uttarakhand News : टिहरी झील का जलस्तर बढ़ने से डूब गए रास्ते, ऐसे बढ़ गई दर्जन भर गांवों की परेशानी

Uttarakhand News : टिहरी झील का जलस्तर बढ़ने से डूब गए रास्ते, ऐसे बढ़ गई दर्जन भर गांवों की परेशानी

टिहरी झील का जलस्तर बढ़ने से परेशानियां बढ़ रही हैं. (File Photo)

टिहरी झील का जलस्तर बढ़ने से परेशानियां बढ़ रही हैं. (File Photo)

एक तरफ टिहरी झील को पर्यटन के लिहाज़ से विकसित करने की योजनाएं चल रही हैं, तो दूसरी तरफ इसके जलस्तर को बढ़ाने की भी, लेकिन इन सबके बीच ग्रामीणों की समस्याएं रोज़मर्रा की हो गई हैं, जिनकी कोई सुनवाई नहीं है.

    सौरभ सिंह
    टिहरी गढ़वाल. डैम की झील का जलस्तर बढ़ने के साथ ही झील से सटे गांवों में कई तरह की समस्याएं खड़ी हो रही हैं. कहीं भूस्खलन और भूधंसाव हो रहा है तो इन दिनों गांव से फेरी बोट तक जाने वाला रास्ता पानी में डूब चुका है. ग्रामीण किसी तरह जान जोखिम में डालकर बोट तक पहुंच रहे हैं और कई बार झील में गिरते गिरते बचे हैं, लेकिन पुनर्वास विभाग लापरवाह बना हुआ है. पिछले दिनों ही टिहरी डैम की झील के जलस्तर को बढ़ाए जाने को लेकर मंज़ूरी दी गई थी, जिसका असर अब गांवों पर साफ दिखने लगा है.

    झील बनने के बाद पुनर्वास विभाग द्वारा झील से सटे गांवों में आवागमन के लिए फेरी बोट का संचालन किया जा रहा है. झील से सटे रोलाकोट, नौताड़, गडोली, स्यांसू, सारपूला सहित करीब एक दर्जन से अधिक गांवों के लोग अपने रोज़मर्रा के कामों के लिए इन फेरी बोट से झील को पार करते हैं, लेकिन समस्या है झील का जलस्तर.

    जोखिम उठाना ग्रामीणों की मजबूरी
    शासन द्वारा टीएचडीसी को टिहरी डैम की झील का जलस्तर 830 मीटर तक करने की परमिशन के बाद से टीएचडीसी लगातार झील का जलस्तर बढ़ा रहा है, जिससे गांवों से फेरी बोट तक आने वाले रास्ते पानी में डूब गए हैं और ग्रामीण ऊबड़ खाबड़ और झाड़ियों से होते हुए किसी तरह कूदकर बोट तक पहुंचते हैं. रोलाकोट निवासी बलवीर सिंह का कहना है कि बोट तक जाने के लिए पक्का रास्ता नहीं होने से कई बार दुर्घटनाएं हो चुकी हैं और ग्रामीण झील में डूबने से बाल बाल बचे हैं.

    ‘शिकायत के बावजूद सुनवाई नहीं’
    वही, तिवाड़ गांव के जगदीश पंवार ने कहा कि पुर्नवास विभाग में कई बार इसकी मौखिक और लिखित शिकायत की गई लेकिन इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. वहीं पुर्नवास निदेशक इवा आशीष श्रीवास्तव का कहना है कि केंद्र में हुई बैठक में टीएचडीसी को कुछ नियम और शर्तों के तहत ही झील का जलस्तर बढ़ाने की अनुमति दी गई थी. इसके लिए टीएचडीसी से पत्राचार किया जा रहा है.

    आपके शहर से (टिहरी गढ़वाल)

    टिहरी गढ़वाल
    टिहरी गढ़वाल

    Tags: Tehri Lake, Uttarakhand news, Uttarakhand Tourism

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर