तीन नई शराब फ़ैक्ट्रियां लगी हैं देवभूमि में... नौकरी मिलेगी सिर्फ़ सवा तीन सौ को

उद्योग विभाग के निदेशक सुधीर नौटियाल ने कहा कि फैक्ट्रियों में अभी सिर्फ बॉटलिंग हो रही है जिस दिन शराब बनाई जाने लगेगी उस दिन ज्यादा रोज़गार पैदा होगा.

Manish Kumar | News18 Uttarakhand
Updated: July 23, 2019, 3:23 PM IST
तीन नई शराब फ़ैक्ट्रियां लगी हैं देवभूमि में... नौकरी मिलेगी सिर्फ़ सवा तीन सौ को
उत्तराखंड में शराब की तीन नई फैक्ट्री लगाई गई हैं.
Manish Kumar
Manish Kumar | News18 Uttarakhand
Updated: July 23, 2019, 3:23 PM IST
देवप्रयाग में शराब की फैक्ट्री को लगाए जाने पर जो बवाल मचा था अब उस पर धुंध पड़ गई है. लग रहा था कि विपक्षी और सामाजिक कार्यकर्ता इस मसले पर सरकार की ईंट से ईंट बजा देंगे लेकिन अब सब कुछ शांत है. लेकिन, इस दरम्यान न्यूज़ 18 की रिसर्च जारी रही जिससे कुछ चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं. राज्य सरकार नौजवानों को रोज़गार के नाम पर जिस शराब फ़ैक्ट्री की वकालत कर रही है उससे मिलने वाला रोज़गार ऊंट के मुंह में जीरे के समान है.

टिहरी में दो, पौड़ी में एक शराब फ़ैक्ट्री 

जब देवप्रयाग में शराब की फैक्ट्री लगाए जाने पर हो हल्ला हो रहा था उस समय सीएम त्रिवेन्द्र रावत ने एक बयान के जरिए इस मामले पर सफाई दी थी. उन्होंने कहा था कि फैक्ट्री लग रही है तो यह अच्छा है क्योंकि इससे न सिर्फ स्थानीय उत्पादों की वहां खपत होगी बल्कि स्थानीय लोगों को बड़े पैमाने पर रोज़गार भी मिलेगा. न्यूज़ 18 सीएम के इसी बयान की सच्चाई आपके सामने रखने वाला है कि आखिर शराब की फैक्ट्रियों से प्रदेश के कितने बेरोजगार नौजवानों को रोज़गार मिल रहा है.

देवप्रयाग में व्हिस्की प्लांट: सीएम ने कहा, ‘अच्छी चीज़ है, लोगों को रोज़गार मिलेगा’

प्रदेश में शराब की तीन नई फैक्ट्री लगाई गई हैं. पौड़ी के देवप्रयाग में विश्वेश्वरी एग्ज़िम प्राइवेट लिमिटेड, पौड़ी के ही एकेश्वर ब्लॉक के भण्डाली गांव में समर्थ एण्टरप्राइज़ेज़ प्राइवेट लिमिटेड और टिहरी के थत्यूड़ में लगी हाईलैण्ड बॉटलर्स और ब्लेण्डर्स. अब इनमें मिलने वाले रोज़गार को भी जान लीजिए.

कुल 328 को मिलेगी नौकरी 

इन तीनों फैक्ट्रियों से कुल 328 लोगों को रोज़गार मिल सकेगा. चौंकिए मत, कम्पनियों ने खुद ही खुलासा किया है कि उनके यहां कितने लोग काम करेंगे. देवप्रयाग के विश्वेश्वरी एग्ज़िम प्राइवेट लिमिटेड में 100 लोगों को, एकेश्वर के स्मर्थ एण्टरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड में 90 लोगों को जबकि थत्यूड़ के हाईलैण्ड बॉटलर्स और ब्लेण्डर्स में 138 लोगों को रोजगार दिया जाना है.
Loading...

देवप्रयाग में शराब प्लांट लगाना उत्तराखंड के लिए आत्महत्या करना जैसाः बीसी खंडूड़ी   

क्या यह आंकड़ा ऊंट के मुंह में जीरे के समान नहीं है? और तो और जितने लोगों को रोज़गार मिलेगा वे सभी उत्तराखण्ड के स्थानीय नागरिक होंगे इसकी क्या गारन्टी है?

जितना मिले, राज्य के लिए अच्छा

हालांकि उद्योग विभाग के निदेशक सुधीर नौटियाल इतने आशावादी हैं कि उन्होंने कहा कि फैक्ट्रियों में अभी सिर्फ बॉटलिंग हो रही है जिस दिन शराब बनाई जाने लगेगी उस दिन ज्यादा रोज़गार पैदा होगा. उन्होंने यह भी बताया कि फैक्ट्री के होने से आस-पास के लोगों को दूसरे रोज़गार भी मिलेंगे जैसे ट्रांसपोर्टेशन, होटल.

हिल टॉप व्हिस्की प्लांटः लोगों को न रोज़गार मिला, न पानी... शराब प्लांट के लिए खींची पाइप लाइन

इस मामले में प्रमुख सचिव आबकारी आनन्द वर्द्धन ने कहा कि किसी भी यूनिट से लीगल तौर पर चाहे जितना रोज़गार मिले, वह राज्य के लिए हितकर है. फैक्ट्रियों की जितनी कैपेसिटी होगी अभी तो उतना ही रोज़गार मिलेगा.

 

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें. 
First published: July 23, 2019, 3:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...