अपना शहर चुनें

States

भूखे नहीं रहेंगे चारधाम के यात्री, स्‍टॉक किया गया तीन माह का राशन

उत्‍तराखंड में मानसून से पहले हुई बारिश से रुद्रप्रयाग में कई स्थानों पर सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं. सोनप्रयाग में पूल बारिश में टूट गया है, जिससे जहां चारधाम की यात्रा प्रभावित हो गई हैं. ऐसे में प्रमुख सचिव खाद्य एंव नागरिक आपूर्ति राधा रतूड़ी ने शनिवार को कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में तीन माह के एडवांस राशन को भेज दिए गए हैं.
उत्‍तराखंड में मानसून से पहले हुई बारिश से रुद्रप्रयाग में कई स्थानों पर सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं. सोनप्रयाग में पूल बारिश में टूट गया है, जिससे जहां चारधाम की यात्रा प्रभावित हो गई हैं. ऐसे में प्रमुख सचिव खाद्य एंव नागरिक आपूर्ति राधा रतूड़ी ने शनिवार को कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में तीन माह के एडवांस राशन को भेज दिए गए हैं.

उत्‍तराखंड में मानसून से पहले हुई बारिश से रुद्रप्रयाग में कई स्थानों पर सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं. सोनप्रयाग में पूल बारिश में टूट गया है, जिससे जहां चारधाम की यात्रा प्रभावित हो गई हैं. ऐसे में प्रमुख सचिव खाद्य एंव नागरिक आपूर्ति राधा रतूड़ी ने शनिवार को कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में तीन माह के एडवांस राशन को भेज दिए गए हैं.

  • Share this:
उत्‍तराखंड में मानसून से पहले हुई बारिश से रुद्रप्रयाग में कई स्थानों पर सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं. सोनप्रयाग में पूल बारिश में टूट गया है, जिससे जहां चारधाम की यात्रा प्रभावित हो गई हैं. ऐसे में प्रमुख सचिव खाद्य एंव नागरिक आपूर्ति राधा रतूड़ी ने शनिवार को कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में तीन माह के एडवांस राशन को भेज दिए गए हैं.

उनका कहना है कि प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश के मौसम में जगह जगह सड़के क्षतिग्रस्त हो जाती है और लोगों को भारी परेशानियां का सामना करना पड़ता है इस तरह की परेशानियां के देखते हुए खाद्य विभाग ने एडवांस में राशन को भेज दिया है.

उनका कहना है कि पर्वतीय क्षेत्रों के जिलाधिकारियों से इस बारे में रिपोर्ट मांगी गई है कि कहीं अगर राशन की अतिरिक्त जरुरत पड़ती है तो तत्काल वहां पर हेलीकॉप्टर से राशन को भेजा जायेगा . प्रदेश में प्रयाप्त मात्रा में राशन उपलब्ध है और खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के अधिकारी लगातार बारिश ग्रस्त क्षेत्रों के अधिकारी के संपर्क में हैं.



प्रमुख सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति का कहना है कि सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं कि वे अपने अपने क्षेत्रों में राशन उपलब्धता को लेकर बराबर मॉनिटरिंग करते रहें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज