Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड सचिवालय में पसरा सन्नाटा, अफसरों को 'नेतागिरी' से राहत

उत्तराखंड सचिवालय में पसरा सन्नाटा, अफसरों को 'नेतागिरी' से राहत

उत्तराखंड सचिवालय

उत्तराखंड सचिवालय

उत्तराखंड सचिवालय में इन दिनों सन्नाटा पसरा हुआ है. सचिवालय में आपना काम कराने आने वाले लोगों की तादाद भी घटकर एक चौथाई रह गई है. अपने कामों को लेकर आने वाले लोगों में ज्यादातर राजनीति से जु़ड़े लोग होते थे. शासन में कोई नया काम भी नहीं हो रहा है. केवल पहले से स्वीकृत योजनाओँ और कामों की फाइलें ही एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर पहुचाईं जा रही हैं.

अधिक पढ़ें ...
उत्तराखंड सचिवालय में इन दिनों सन्नाटा पसरा हुआ है. सचिवालय में आपना काम कराने आने वाले लोगों की तादाद भी घटकर एक चौथाई रह गई है. अपने कामों को लेकर आने वाले लोगों में ज्यादातर राजनीति से जु़ड़े लोग होते थे. शासन में कोई नया काम भी नहीं हो रहा है. केवल पहले से स्वीकृत योजनाओँ और कामों की फाइलें ही एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर पहुचाईं जा रही हैं.

सचिवालय में इन दिनों सन्नाटा पसरा हुआ है. सचिवालय परिसर के सभी भवनों के परिसरों में एक जैसे ही हालात हैं. ना ज्यादा लोगों की भीड़ है ना ही गाड़ियों की आवाजाही. ये हालात विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद बनने शुरु हुए और अब शासन में शांति रहती है. सचिवालय में प्रतिदिन करीब 900 से एक हज़ार लोग अपने काम कराने आते थे. इनमें ज्यादातर तादाद राजनीतिक लोगों की होती थी. लेकिन अब ऐसा नहीं है. शासन में आने वाले बाहरी लोगों की तादाद घटकर करीब एक चौथाई रह गई है.

ऐसा नहीं है कि चुनाव आचार संहिता लगने के बाद शासन में कामकाज एकदम ठप हो गया हैं. लेकिन अब ना तो कोई नये काम सेंक्शन्ड हो रहे हैं और ना ही नई योजनाओं की फाइलें तैयार हो रही हैं. शासन में किसी नई नियुक्ति और ट्रांसफर की फाइल भी अब तैयार नहीं हो रही है. किसी फाइल को आगे बढ़ाने या तैयार करने के लिए भी नेता अब सचिवालय के चक्कर नहीं लगा रहे हैं.

क्योंकि आचार सहिंता के कारण ऐसा कोई भी नया काम नहीं हो रहा है. हालांकि जो योजनाएं और काम आचार संहिता से पहले ही स्वीकृत हो चुके हैं. उनपर शासन में काम हो रहा है. वित्त विभाग के सचिव अमित नेगी कहते हैं कि आचार संहिता में कोई नया काम शुरु नहीं किया जाता है, लेकिन पहले शुरु हो चुके कार्यों को लेकर रुटीन के काम शासन में हो रहे हैं.

जो योजनाएं और काम पहले से स्वीकृत हैं, उनपर भी काम आगे बढ़ाने के लिए निर्वाचन आयोग ने मुख्य सचिव की अध्यक्षता में अफसरों की एक कमेटी बना दी है. ये कमेटी ऐसे कार्यों की फाईलों को निर्वाचन आयोग को भेजेगी जिनको आगे बढ़ाने से पहले निर्वाचन आयोग की मंजूरी लेना जरुरी है. हालांकि शासन में काम कम है लिहाज़ा इन दिनों मुख्य सचिव भी एक हफ्ते की छुट्टी पर है. आचार संहिता लगने के बाद सरकारी विभागों के ज्यादातर अधिकारियों और कर्मचारियों की चुनाव में ड्यूटी की तैयारियां भी की जा रही है.

Tags: Uttarakhand news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर