Home /News /uttarakhand /

राजनीति में चरित्र हनन की परंपरा ठीक नहीं - सीएम

राजनीति में चरित्र हनन की परंपरा ठीक नहीं - सीएम

आपदा राहत कार्यों और सीएम के पूर्व सचिव मोहम्मद शाहिद के स्टिंग के बाद अब प्रदेश में घोटालों को लेकर राजनीति जारी है. घोटालों को लेकर राज्य सरकार पर हमलावर भाजपा को सत्ताधारी कांग्रेस अपने तरीके से घेरने में जुट गई है.

आपदा राहत कार्यों और सीएम के पूर्व सचिव मोहम्मद शाहिद के स्टिंग के बाद अब प्रदेश में घोटालों को लेकर राजनीति जारी है. घोटालों को लेकर राज्य सरकार पर हमलावर भाजपा को सत्ताधारी कांग्रेस अपने तरीके से घेरने में जुट गई है.

आपदा राहत कार्यों और सीएम के पूर्व सचिव मोहम्मद शाहिद के स्टिंग के बाद अब प्रदेश में घोटालों को लेकर राजनीति जारी है. घोटालों को लेकर राज्य सरकार पर हमलावर भाजपा को सत्ताधारी कांग्रेस अपने तरीके से घेरने में जुट गई है.

    आपदा राहत कार्यों और सीएम के पूर्व सचिव मोहम्मद शाहिद के स्टिंग के बाद अब प्रदेश में घोटालों को लेकर राजनीति जारी है. घोटालों को लेकर राज्य सरकार पर हमलावर भाजपा को सत्ताधारी कांग्रेस अपने तरीके से घेरने में जुट गई है.

    इसी रणनीति के तहत कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने सीएम हरीश रावत को एक ज्ञापन दिया. पीसीसी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के नेतृत्व में दिए गए इस ज्ञापन के माध्यम से कांग्रेस ने राज्य गठन के बाद अब तक हुए घोटालों की जांच की मांग की. खास बात ये रही कि ज्ञापन में बात तो राज्य गठन के बाद के घोटालों की थी लेकिन इसमें उठाए गए सभी मामले भाजपा शासनकाल के रहे.

    ज्ञापन देने के साथ ही पीसीसी अध्यक्ष ने भाजपा पर निशाना भी साधा. किशोर उपाध्याय ने कहा कि भाजपा घोटालों की खिलाफत की बात करती है, लेकिन खुद उनके शासनकाल में घोटालों की झड़ी लगी रही. किशोर उपाध्याय ने कहा कि भाजपा शासनकाल में चार सौ उन्नीस मामले रहे जिन पर सवाल खड़े हुए.

    ऐसे में सीएम को ज्ञापन देकर इन सभी मामलों की जांच की मांग की गई है. पहले से हुई जांचों का क्या होगा इस सवाल पर किशोर उपाध्याय ने कहा कि उन्होंने पूरी हो चुकी जांचों की रिपोर्ट सार्वजनिक करने की भी सीएम से मांग की है.

    वहीं मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि ज्ञापन में की गई मांग पर वे उचित कदम उठाएंगे. सीएम हरीश रावत ने भी भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा ने साल दो हजार नौ से साल दो हजार चौदह तक केंद्र में चरित्र हनन की राजनीति की और प्रदेश में भी भाजपा इसी राह पर चल पड़ी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनीति में ये परंपरा ठीक नही और जनता पर सही गलत तय करने का फैसला छोड़ा जाना चाहिए.

    Tags: Harish rawat

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर