लाइव टीवी

'उत्तराखंड में निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव पर होगा जोर'


Updated: November 4, 2016, 12:25 PM IST
'उत्तराखंड में निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव पर होगा जोर'
देहरादून में मीडिया से रूबरू सीईसी नसीम जैदी

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त ने साफतौर पर कहा है कि निष्पक्ष, पारदर्शी और सुरक्षित चुनाव के लिए आयोग सभी जरुरी कदम उठाएगा. इसको लेकर राज्य के निर्वाचन से सबंधित अधिकारियों को भी सख्त निर्देश दे दिए गये हैं. साथ ही चुनाव से पहले मतदाताओं को प्रलोभन की शिकायतों और राज्य में चुनाव मार्च में कराने की मांग को भी मुख्य चुनाव आयुक्त ने गंभीरता से लिया है.

  • Last Updated: November 4, 2016, 12:25 PM IST
  • Share this:
उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त ने साफतौर पर कहा है कि निष्पक्ष, पारदर्शी और सुरक्षित चुनाव के लिए आयोग सभी जरुरी कदम उठाएगा. इसको लेकर राज्य के निर्वाचन से सबंधित अधिकारियों को भी सख्त निर्देश दे दिए गये हैं. साथ ही चुनाव से पहले मतदाताओं को प्रलोभन की शिकायतों और राज्य में चुनाव मार्च में कराने की मांग को भी मुख्य चुनाव आयुक्त ने गंभीरता से लिया है.

राज्य में विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग अपनी तैयारियों को आगे बढ़ाने में जुट गया है. चुनावी तैयारियों के तहत ही मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैंदी के साथ चुनाव आयोग के सदस्यों और अधिकारियों की टीम दो दिनों तक देहरादून में रही. अपना दौरा समाप्त करके दिल्ली लौटने से पहले मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैंदी चुनाव आयोग की टीम और राज्य के निर्वाचन अधिकारियों के साथ बैठकर पत्रकारों से रूबरु हुए. सीईसी ने बहुत साफतौर पर कहा है कि उनके इस दौरे में राजनीतिक दलों ने निष्पक्ष, भयरहित, सुरक्षित, प्रलोभन रहित और पारदर्शी चुनाव के लिए जो नए सुझाव दिए हैं.

उनको चुनाव आयोग ने गंभीरता से लिया है और इनपर विचार करेगा. साथ ही विपक्ष द्वारा सरकार पर चुनाव से पहले विवेकाधीन कोष का प्रलोभन के तौर पर इस्तेमाल, और सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग की शिकायत को भी गंभीरता से लिया गया है. इन सभी शिकायतों के संदर्भ में राज्य की मुख्य निर्वाचन अधिकारी और मुख्य सचिव को संज्ञान लेने और दुरुपयोग रोकना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गये हैं.

देहरादून के दो दिनों के दौरे पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने राज्य के मुख्य सचिव और डीजीपी से लेकर जिला अधिकारियों, पुलिस अधिकारियों और निर्वाचन में लगने वाले संबधित विभागों के अधिकारियों से मैराथन बैठकें की हैं. मुख्य चुनाव आयुक्त का कहना है कि चुनाव में धन, शराब और किसी भी तरीके से प्रलोभन रोकने, मतदाता को भयमुक्त होकर वोट करने का माहौल सुनिश्चित करने के भी अधिकारियों को निर्देश दिए गये हैं.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा है कि राज्य में नए वोटर की संख्या अनुमान से कम है इसके लिए अभियान चलाया जा रहा है. चुनाव से 10 दिन पहले तक नए मतदाता बनाए जाने की व्यवस्था की जा रही है. राज्य में चुनाव मार्च के अंतिम सप्ताह में करने की राजनीतिक दलों और अफसरों की मांग पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा है कि चुनाव की तारीखों को तय करते समय इसका ध्यान रखा जाएगा.

इसबार विधानसबा चुनावों में निर्वाचन आयोग द्वारा आईटी सैक्टर का भी इस्तेमाल किया जाएगा. शिकायतों, अनुमति आवेदनों जैसे मामल आईटी प्लेटफार्म पर शीघ्र हल किए जा सकेंगे. साथ ही इसबार मतदाता यह भी देख सकेगा कि उसका वोट वहीं गया है जहां वो देना चाहता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागेश्‍वर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2016, 12:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...