Home /News /uttarakhand /

अब सिर्फ एक फोन कॉल से होगा मरीजों का इलाज

अब सिर्फ एक फोन कॉल से होगा मरीजों का इलाज

प्रदेश के मरीज अब घर बैठकर टेली मेडिसिन और टेली रेडियोजॉलि के बारे में फोन पर डॉक्टर्स की सलाह ले सकेंगे.

प्रदेश के मरीज अब घर बैठकर टेली मेडिसिन और टेली रेडियोजॉलि के बारे में फोन पर डॉक्टर्स की सलाह ले सकेंगे.

प्रदेश के मरीज अब घर बैठकर टेली मेडिसिन और टेली रेडियोजॉलि के बारे में फोन पर डॉक्टर्स की सलाह ले सकेंगे.

    प्रदेश के मरीज अब घर बैठकर टेली मेडिसिन और टेली रेडियोजॉलि के बारे में फोन पर डॉक्टर्स की सलाह ले सकेंगे.

    शासन ने इस योजना पूरा करने के लिए बैठकों का दौर भी शुरू कर दिया है. ओम प्रकाश प्रमुख सचिव स्वास्थ्य की निगरानी में इस प्रोजेक्ट के ऊपर काम किया जा रहा है. प्रदेश में पिछले आठ साल से चल रही 108 आपातकालीन एम्बुलेंस सेवा की तर्ज पर टेली मेडिसिन को भी शुरू करने का प्लान तैयार किया गया है.

    प्रदेश में डॉक्टर्स की भारी कमी है. करीब 45 फीसदी ही डॉक्टर्स प्रदेश में कार्यरत हैं, ऐसे में सरकार की मंशा है कि प्रदेश के दूर दराज क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जाएं.

    ऐसे होगा फोन से इलाज
    प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी का कहना है कि राजधानी देहरादून में एक कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा, जहां डॉक्टर्स की एक टीम बैठेगी. फोन पर मरीज अपनी समस्याएं बताएंगे. पूरी टीम मरीज के बारे में सभी आंकड़े भी जुटाएगी. मिसाल के तौर पर रात में मरीज ने अपने डिनर में क्या-क्या खाया था और उससे कब से प्रॉब्लम हो रही है, जब डॉक्टर्स की टीम किसी समस्या के बारे में पूरी तरह से संतुष्ट हो जाएगी तब मरीज को फोन पर दवाएं बताई जाएंगी.

    स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि प्रदेश में डॉक्टर्स की भारी कमी है और दूर-दराज क्षेत्रों में रहने वाले मरीजों को छोटी-मोटी समस्याओं के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है और वह इधर-उधर भटकते रहते हैं.

    स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश में मरीजों को टेली मेडिसिन की सेवा देने के लिए एक कैलेंडर तैयार किया जा रहा है, जिससे टाइम बाउंड तरीके से मरीजों का इलाज किया जा सकेगा.

    स्वास्थ्य अदधिकारियों का कहना है कि जिस तरह से लोग आपातकालीन स्थिति में 108 पर कॉल करके फ्री एम्बुलेंस की सेवा प्राप्त करते हैं उसी तरह से वह अपने इलाज भी फोन के माध्यम से करा सकेंगे.

    अगली ख़बर