Home /News /uttarakhand /

दो सिर वाले बच्चे की हालत नाजुक, फ्री होगा इलाज

दो सिर वाले बच्चे की हालत नाजुक, फ्री होगा इलाज

    कुछ समय पहले टिहरी के धनोल्टी क्षेत्र में जन्मे दो सिर वाले बच्चे को आखिरकार महिला दून अस्पताल से देहरादून के महंत इंदिरेश अस्पताल में बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया गया है, जहां पर डॉक्टरों की निगरानी में बच्चे का इलाज जारी है.

    राजधानी देहरादून में दो सिर वाले नवजात शिशु को लेकर आम इसकी चर्चा कर रहे हैं. वहीं, शिशु के इलाज के लिए महंत इंदिरेश हॉस्पिटल ने आगे हाथ बढ़ाया है

    24 मार्च को नवजात शिशु का दून हॉस्पिटल में इलाज हुआ था, लेकिन शिशु के दो सिर होने की वजह से मां-बाप बच्चे को अपने घर नहीं ले गए. डॉक्टर्स के मुताबिक नवजात शिशु की सेहत भी ठीक नहीं थी इसलिए उसे चाइल्ड केयर यूनिट में भर्ती कर दिया गया. कई दिनों तक दून हॉस्पिटल में इलाज चलता रहा, लेकिन बच्चे की सेहत में कोई सुधार नहीं आया. वहीं, डॉक्टर्स ने बच्चे को महंत इन्दिरेश हॉस्पिटल रेफर कर दिया.

    महंत इंदिरेश अस्पताल के वरिष्ठ शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. गिरीश गुप्ता ने जानकारी देते हुए कहा कि बच्चे के स्वास्थ्य में सुधार है, जिसे लेकर उनकी पूरी टीम बच्चे की देख-रेख कर रही है. साथ ही उन्होंने कहा कि फिलहाल बच्चा वेंटिलेटर-कार्डियक सपोर्ट पर है.

    इसके अलावा बच्चे का ईको टेस्ट, सीटी स्कैन, अल्ट्रासाउंड, एक्सरे व ब्लड नमूना लेकर कई टेस्ट हो चुके हैं. बच्चे के इलाज पर आने वाले खर्च का वहन अस्पताल खुद कर रहा है.

    शिशु शल्य चिकित्सक डॉ. मधुकर मलेठा के अनुसार अभी बच्चे को अलग करने का सही समय नहीं है. उन्होंने कहा कि बच्चे की शारीरिक संरचना बेहद जटिल है. साथ ही बच्चे के 2 दिल हैं, जो कि आपस में जुड़े हैं. इसके अलावा अविकसित 4 फेफड़े हैं. 4 किडनी हैं, वो भी आपस में जुड़ी हुई हैं, जिसके चलते बच्चे को अभी अलग कर पाना मुश्किल का काम है.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर