संपूर्णानंद शिविर जेल और सेंट्रल जेल से 52 कैदी होंगे रिहा

सितारगंज की संपूर्णानंद शिविर जेल में करीब 50 बंदी आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं, जबकि केंद्रीय कारागार में करीब 350 कैदी उम्रकैद की सजा काट रहे हैं. आईजी जेल डॉ. पीपीके प्रसाद ने शिविर जेल में सजा काट रहे करीब 38 कैदी और केंद्रीय कारागार के 34 कैदियों को रिहा करने की रिपोर्ट सरकार को भेजी है.

Pooran Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: August 9, 2018, 12:25 PM IST
संपूर्णानंद शिविर जेल और सेंट्रल जेल से 52 कैदी होंगे रिहा
केंद्रीय कारागार, ऊधमसिंह नगर, उत्तराखंड
Pooran Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: August 9, 2018, 12:25 PM IST
ऊधमसिंह नगर जिले के सितारगंज की संपूर्णानंद शिविर और केंद्रीय कारागरा में बंद 52 कैदियों के रिहा होने की राह आसान हो रही है. ये 52 कैदी जल्द ही खुली हवा में सांस ले सकेंगे. आईजी जेल डॉ. पीवीके प्रसाद ने इन दोनों जेलो के कुल 52 कैदियों की सजा माफी के लिए सरकार को अपनी रिपोर्ट भेजी है. सरकार से स्वीकृति के बाद और राज्यपाल के अनुमोदन के बाद स्वतंत्रता दिवस पर इन दोनों जेलों से इन कैदियों को रिहा किया जा सकता है.

आपको बता दें कि वर्तमान में सितारगंज की संपूर्णानंद शिविर जेल में करीब 50 बंदी आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं, जबकि केंद्रीय कारागार में करीब 350 कैदी उम्रकैद की सजा काट रहे हैं. आईजी जेल डॉ. पीवीके प्रसाद ने शिविर जेल में सजा काट रहे करीब 38 कैदी और केंद्रीय कारागार के 34 कैदियों को रिहा करने की रिपोर्ट सरकार को भेजी है.

नियमानुसार 14 वर्ष की सजा पूरी कर चुके कैदी सजा से पहले माफी के लिए आवेदन कर सकते हैं. इसके तहत सजा माफी के लिए 14 साल की सजा पूरी कर चुके दोनों जेलों के कुल 72 सजायाफ्ता कैदियों को स्वतंत्रता दिवस पर रिहा करने की रिपोर्ट सितारगंज के जल अधीक्षक ने आईजी जेल को भेजी थी. आईजी जेल ने जांच के बाद दोनों जेलों से 52 कैदियों की सजा माफी के लिए सरकार को अपनी रिपोर्ट भेज दी है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर