दफन सभी 555 जिंदा मिसाइलों को नष्ट करने सेना की टीम ऊधमसिंहनगर पहुंची

21 दिसंबर वर्ष 2004 में काशीपुर की एसजी स्टील फैक्ट्री में स्क्रैप गलाने के दौरान स्क्रैप में लाई गई एक मिसाइल के फटने से फैक्ट्री के एक श्रमिक की मौत हो गई थी.

Puran Singh Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: October 11, 2018, 2:08 PM IST
दफन सभी 555 जिंदा मिसाइलों को नष्ट करने सेना की टीम ऊधमसिंहनगर पहुंची
ऊधमसिंहनगर
Puran Singh Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: October 11, 2018, 2:08 PM IST
जनपद ऊधमसिंहनगर के पतरामपुर में जमीन के नीचे दबा कर रखे 555 जिंदा मिसाइलों को नष्ट करने के लिए लखनऊ से सेना की एक टीम जिले में पंहुच गई है. सेना की टीम सभी 555 जिंदा मिसाइलों को निष्क्रिय करने की कार्रवाई आज से ही शुरू कर देगी.

बता दें कि 21 दिसंबर वर्ष 2004 में काशीपुर की एसजी स्टील फैक्ट्री में स्क्रैप गलाने के दौरान स्क्रैप में लाई गई एक मिसाइल के फटने से फैक्ट्री के एक श्रमिक की मौत हो गई थी. इसके बाद फैक्ट्री परिसर से बरामद 555 जिंदा मिसाइलों को प्रशासन ने एहतियात के तौर पर पतरामपुर पुलिस चौकी के पीछे जमीन में दबा कर रख दिया था. तब से लेकर अब तक जिला पुलिस को बजट और जरूरी उपकरणों के अभाव के कारण जमीन में दफन 555 जिंदा मिसाइलों को नष्ट करने में काफी दिक्कत आ रही थी. इस बीच ऊधमसिंहनगर में जमीन के नीचे दबाकर रखे गये मिसाइलों को लेकर तनाव भी था.

लेकिन अब इन मिसाइलों को नष्ट करने के लिए सारी बाधाएं दूर हो गई हैं. सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जल्दी ही सारी मिसाइलों को नष्ट कर दिया जायेगा.

यह पढ़ें - राज्यपाल जिलों का दौरा कर जनता से मिलेंगी, जानेंगी उनकी समस्याएं

यह देखें - VIDEO: नैनीताल के चार स्थानों पर रामलीला का मंचन शुरू
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर