Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड में डेवलप हुई उड़द की बहुत बेहतर किस्म... UP, पंजाब, हरियाणा कई राज्यों के किसानों के लिए बड़ी खबर

उत्तराखंड में डेवलप हुई उड़द की बहुत बेहतर किस्म... UP, पंजाब, हरियाणा कई राज्यों के किसानों के लिए बड़ी खबर

उत्तराखंड के वैज्ञानिकों ने उड़द की नई किस्म विकसित की.

उत्तराखंड के वैज्ञानिकों ने उड़द की नई किस्म विकसित की.

Uttarakhand Agriculture : पंतनगर विवि के वैज्ञानिकों की महीनों की मेहनत रंग लाई. वैज्ञानिकों ने बताया कि नई किस्म (New Variety of Pulse) को दो प्रजातियों 'पंत उड़द-31' और 'टीयू 94-2' के संकरण से वंशावली विधि (Genetics) से विकसित किया गया. लगातार तीन साल तक परीक्षण किए गए, जिनमें पता चला कि नई प्रजाति यानी 'पंत उड़द-12' वर्तमान में उगाई जा रही मानक प्रजातियों में से उत्तरा के मुकाबले 18.92, पंत उड़द-31 के मुकाबले 19.61 और केयूजी-479 की तुलना में 23.76 प्रतिशत तक अधिक उपज देने में सक्षम है. जानिए वैज्ञानिकों के बड़े दावे.

अधिक पढ़ें ...

    चंदन बंगारी
    रुद्रपुर. हरित क्रांति की जननी के तौर पर मशहूर गोविंद वल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने उड़द की नई प्रजाति विकसित की है. वैज्ञानिकों ने नई प्रजाति ‘पंत उड़द 12’ को लेकर कई बड़े दावे करते हुए कहा कि वर्तमान में यही प्रजाति किसानों द्वारा सबसे अधिक उगाई जा रही है. वैज्ञानिकों का दावा है कि यह प्रजाति जहां उत्पादन के लिहाज़ से कारगर साबित होगी, वहीं इसमें रोग की आशंका न के बराबर होगी और केमिकलों से भी किसानों को छुटकारा मिल जाएगा. बड़ी खबर यह भी कि देश के कृषि मंत्रालय ने पंत उड़द 12 प्रजाति को नोटिफाई भी कर लिया है.

    कितने बड़े हैं वैज्ञानिकों के दावे?
    1. ‘पंत उड़द 31’ प्रजाति के मुकाबले ‘पंत उड़द 12’ 20 फीसदी से अधिक उत्पादन देगी.
    2. उड़द की दूसरी प्रजातियों के मुकाबले इस प्रजाति में पीला मोजेक, सफेद चूर्णील, सरकोसफोरा, लीफ स्पॉट जैसे रोग नहीं लगेंगे.
    3. किसानों को इस प्रजाति की फसल के बाद केमिकल का छिड़काव नहीं करना पड़ेगा.
    4. वर्तमान में उगाई जा रही मानक प्रजातियों के मुकाबले नई प्रजाति कहीं ज़्यादा उपज देने में सक्षम है.

    कृषि मंत्रालय ने ‘पंत उड़द 12’ को किया नोटिफाई
    पंतनगर विवि के वैज्ञानिकों की तीन साल की मेहनत रंग लाई. वैज्ञानिक डॉ. संजय वर्मा ने बताया कि इस नई प्रजाति को कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने बीते अक्टूबर में नोटिफाई कर दिया है. इसके साथ ही पंजाब, यूपी, उत्तराखंड, हरियाणा, राजस्थान, जम्मू-कश्मीर में उगाने के लिए संस्तुत किया है.

    farming news, agriculture news, advisory for farmers, pulse production, pulse farming, खेती किसानी समाचार, कृषि संबंधी सलाह, दालों की खेती, दलहन उत्पादन, aaj ki taza khabar, UK news, UK news live today, UK news india, UK news today hindi, UK news english, Uttarakhand news, Uttarakhand Latest news, उत्तराखंड ताजा समाचार, rudrapur news, रुद्रपुर समाचार

    पंतनगर विश्वविद्यालय की पहचान हरित क्रांति के केंद्र के रूप में रही है.

    1427 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर औसत उपज
    इस प्रजाति की औसत उपज 1427 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर पाई गई है. इस प्रजाति के पौधे मध्यम आकार के करीब 65-70 सेमी ऊंचाई के होते हैं. इसकी फसल 78 से 82 दिनों में पककर तैयार हो जाती है. दानों का आकार मध्यम तथा 100 दानों का भार चार ग्राम है. वैज्ञानिकों के अनुसार आगामी सीजन में इस नई प्रजाति के बीज किसानों को उपलब्ध कराए जाएंगे.

    तीन साल की मेहनत पर मिली बधाई
    पंत उड़द-12 प्रजाति को विकसित करने में परियोजना समन्वयक डॉ. रमेश चंद्रा, कृषि महाविद्यालय के वैज्ञानिक डॉ. आरके पंवार, डॉ. एसके वर्मा, डॉ. अंजू अरोरा और परियोजना में तैनात स्टाफ का योगदान रहा. विवि कुलपति डॉ. तेज प्रताप ने पूरी टीम को बधाई देते हुए कहा कि यह विशेष रूप से छोटे किसानों के लिए उपयोगी साबित होगी. शोध निदेशक डॉ. एएस नैन ने बताया कि विवि के वैज्ञानिकों ने दालों की 50 से अधिक प्रजातियां विकसित की हैं.

    Tags: India agriculture, Rudrapur News, Scientists, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर