Home /News /uttarakhand /

OMG….. यहां दो बार मनाई जाती है होली, जानिए क्या है जिंदा होली और मरी होली

OMG….. यहां दो बार मनाई जाती है होली, जानिए क्या है जिंदा होली और मरी होली

खटीमा में थारू समाज होली के रंगों में डूबा हुआ है और होली के पर्व को खुशियों के साथ गुड और मिठाइया बांटकर गले मिलकर मनाया जा रहा है.

    कुमाऊं की खड़ी और बैठी होली देश और दुनिया भर में मशहूर है लेकिन सीमांत क्षेत्र खटीमा में थारू जनजाति की होली के बारे में कम ही लोग जानते हैं. अपने में अनूठी यह होली दो हिस्सों में खेली जाती है. होलिका दहन से पहले और होलिका दहन के बाद. यह जानकर आपको अचरज हो सकता है कि इन्हें ज़िंदा होली और मरी होली के नाम से भी जाना जाता है. आज हम बताते हैं कि क्या ख़ास बात है थारू जनजाति की होली की.

    VIDEO : सांस्कृतिक परम्पराओं से लबरेज कुमाऊं के होल्यार नशा मुक्त होली का दे रहे संदेश

    थारू जनजाति के लोग होली के पर्व का पूरे साल इंतजार करते हैं. शायद यह अपने-आप में अकेला मामला है जहां दो बार होली मनाई जाती है. होली का उत्सव होलिका दहन से 15 दिन पहले ही शुरू हो जाता है. इस दौरान लोग नाच-गाकर होली का पर्व मनाते हैं. घर-घर घूमकर सारे समुदाय के लोग होली की ख़ुशियां मनाते हैं.

    tharu holi 2

    इस होली की शुरुआत उसी दिन से होती है जिस दिन से कुमाऊं की खड़ी होली के शुरुआत होती है. इसे खिचड़ी होली या ज़िंदा होली भी कहते हैं. थारू समाज की खड़ी होली में पुरुषों के साथ साथ महिलाएं भी घर-घर जाकर होली के गीत गाती हैं, साथ में नाचती हैं. यही नहीं ज़िंदा होली यानि खड़ी होली को लेकर बच्चों में भी काफी उत्साह देखने को मिलता है. थारू समाज ढोल नगाड़ों के साथ होली का गायन करता है. यह होली होलिका दहन तक मनाई जाती है.

    PHOTOS : पहाड़ में होली पूरे शबाब पर, गांव-गांव, घर-घर होली की धूम

    होली का दूसरा हिस्सा या दूसरी होली होलिका हदन के बाद मनाई जाती है. होलिका दहन में होलिका के जल जाने और प्रहलाद के ज़िंदा बच जाने की ख़ुशी में थारू समाज दूसरी बार होली मनाता है. इसे मरी होली कहते हैं.

    VIDEO: कुमाऊं की होली में लोकगीतों व लोकनृत्य का अनूठा समावेश

    खटीमा में थारू समाज होली के रंगों में डूबा हुआ है और होली के पर्व को खुशियों के साथ गुड और मिठाइया बांटकर गले मिलकर  मनाया जा रहा है.

    VIDEO : जनता संग नेताजी ने खेली फूलों की होली

    Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Holi celebration, Holi news, Khatima news, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर