Home /News /uttarakhand /

गुदड़ी का लाल... IES में सातवीं रैंक लाया खटीमा का रोहित सिंह राजपूत

गुदड़ी का लाल... IES में सातवीं रैंक लाया खटीमा का रोहित सिंह राजपूत

रोहित सिंह राजपूत अपनी मां और बहन के साथ

रोहित सिंह राजपूत अपनी मां और बहन के साथ

पिछले साल भी रोहित ने आईईएस परीक्षा पास कर ली थी और उसमें उन्हें 125वां स्थान हासिल हुआ था.

    खटीमा में एक और गुदड़ी का लाल सामने आया है जिसने मुश्किलों को हराकर प्रदेश का नाम रोशन किया है और पूरे परिवार के सामूहिक संघर्ष को जीत की खुशियों में बदल दिया है. खटीमा के रोहित कुमार राजपूत ने आईईएस मेकैनिकल की परीक्षा में इस बार ऑल इंडिया में 7वां स्थान हासिल किया है. उत्तराखंड से तो वह पहले स्थान पर हैं ही.

    खटीमा के रहने वाले रोहित की कहानी उन लाखों युवाओं के लिए प्रेरणा का सबक है जो मुश्किल परिस्थितियों से हार नहीं मानते और बड़े सपने देखते हैं... उन्हें पूरा करने के लिए मेहनत करते हैं. रोहित के घर पर आपको गरीबी की छाया चारों ओर दिखती है. दीवारों पर पलस्तर नहीं है, अच्छा फ़र्नीचर नहीं है, शानदार कपड़े नहीं हैं लेकिन है संकल्प. और यह संकल्प सिर्फ़ रोहित का नहीं है पूरे परिवार का है.

    रोहित के पिता एक फ़ैक्ट्री में मज़दूरी करते हैं. सालों से वह साइकिल से ही फ़ैक्ट्री आते-जाते हैं. रोहित की मां बताती हैं कि उनकी शादी में रोहित के पिता को दहेज में एक स्कूटर मिला था लेकिन वह ख़राब हो गया तो उसे ठीक करवाने के बजाय बच्चों की पढ़ाई में पैसा लगाना उन लोगों को ज़रूरी लगा.

    रोहित ने आईआईटी रुड़की से एमटेक किया है. इसके लिए भी उनके परिवार ने बैंक से, रिश्तेदारों से उधार लेकर, ज़मीन गिरवी रखकर पैसे का इंतज़ाम किया. परिवार के इस संघर्ष को रोहित ने भी समझा और लगातार पढ़ाई में जुटे रहे.

    रोहित ने न्यूज़ 18 को बताया कि पिछले साल भी उन्होंने आईईएस परीक्षा पास कर ली थी और उसमें उन्हें 125वां स्थान हासिल हुआ था. चूंकि वह एमटेक कर रहे थे उन्होंने पढ़ाई के साथ तैयारी भी जारी रखी और इस बार टॉप 10 में स्थान बनाने में कामयाब रहे.

    रिज़ल्ट आने के बाद से घर में जैसे ख़ुशियां बरस रही हैं और माता-पिता के साथ ही रोहित की छोटी बहन के चेहरों पर जैसे मुस्कान चिपक गई है. छोटी बहन बीएससी की पढ़ाई कर रही है और माता-पिता की तरह अपने भाई पर उसे भी बहुत गर्व है. परिवार को उम्मीद है कि अब दिन बहुरेंगे.

    रोहित कहते हैं कि मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती. बच्चों की इस प्रेरणादायक कविता की यह लाइनें रोहित के मुंह से निकलती हैं तो सच्ची लगती हैं.

    जानिए, उत्तराखंड से क्यों हो रहा है IAS अफसरों का पलायन

    उत्तराखंड ने देश को दिए दो होनहार विश्व विजेता कप्तान

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर