Udham Singh Nagar news

ऊधमसिंह नगर

अपना जिला चुनें

गर्भवती को नहीं किया CHC में भर्ती, सड़क पर दिया बच्चे को जन्म, दो घंटे में नवजात की मौत

किच्छा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र  में Hepatitis B से पीड़ित एक गर्भवती महिला को भर्ती करने से मना कर दिया गया. इसके बाद वापस ले जाते समय महिला ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया.

किच्छा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में Hepatitis B से पीड़ित एक गर्भवती महिला को भर्ती करने से मना कर दिया गया. इसके बाद वापस ले जाते समय महिला ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया.

भाजपा विधायक राजेश शुक्ला ने सीएमओ को शिकायत की. इसके बाद इस मामले की जांच सीएचसी किच्छा के चिकित्सा अधीक्षक को सौंपी गई.

SHARE THIS:
ऊधम सिंह नगर के किच्छा से इंसानियत को शर्मनाक करने वाला एक मामला सामने आया है. यहां  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (Community Health Center- CHC) में काला पीलिया (Hepatitis B) से पीड़ित एक गर्भवती महिला (Pregnant Woman) को डॉक्टरों ने भर्ती करने से मना (Doctors Denied Admission) कर दिया. इसके बाद वापस ले जाते समय महिला ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया. दुर्भाग्यवश दो ही घंटे में इलाज के अभाव में नवजात की मौत हो गई. स्थानीय विधायक की शिकायत के बाद सीएमओ (CMO) ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं.

सीएचसी स्टाफ़ ने भगाया
ऊधम सिंह नगर के किच्छा में आज सुबह काला पीलिया (हैपेटाइटिस बी) से पीड़ित एक महिला को प्रसव के लिए लाया गया था. पीड़िता की मां शायरा ने आरोप लगाया है कि डॉक्टरों में उनकी बेटी को अस्पताल में भर्ती करने से इनकार कर दिया. इसके बाद परिजन उसे वहां से ले जाने लगे तो अस्पताल के बाहर ही उसे प्रसव पीड़ा हुई और वहीं उसने बच्चे को जन्म दे दिया.

शायरा ने बताया कि वहां मौजूद एक महिला पुलिसकर्मी और कुछ और लोगों ने उनकी मदद की सीएचसी स्टाफ़ का दिल फिर भी नहीं पसीजा. आखिरकार इलाज के अभाव में नवजात बच्चे की पैदा होने के दो घंटे बाद ही मौत हो गई.

जांच शुरू 
इस मामले का पता चलने के बाद स्थानीय भाजपा विधायक राजेश शुक्ला ने सीएमओ को शिकायत की. राजेश शुक्ला ने साफ़ कहा कि दोषी चाहे डॉक्टर हों, या नर्सिंग स्टाफ़ या कोई और... वह इस मामले को अंजाम तक ले जाएंगे और दोषियों को सज़ा दिलवाएंगे.

सीएमओ ने विधायक की शिकायत के बाद इस मामले की जांच सीएचसी किच्छा के चिकित्सा अधीक्षक को सौंप दी है. चिकिस्ता अधीक्षक हरीश चंद्र त्रिपाठी ने कहा कि वह इस मामले की जांच कर रहे हैं
और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाएगी.

ये भी देखें: 

NHM पिथौरागढ़ में संविदा पर तैनात अविवाहित लड़कियों का होगा प्रेग्नेंसी टेस्ट

शर्मनाकः महिला ने सड़क पर दिया बच्चे को जन्म, बिना एंबुलेंस गोपेश्वर से किया था श्रीनगर रैफ़र

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Uttarakhand Election: पहाड़ का मन टटोलकर लौटे दुष्यंत गौतम, BJP के चुनावी प्लान का दिया संकेत

उत्तराखंड बीजेपी प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ने चंपावत और उधमसिंह नगर का दौरा किया.

Uttarakhand assembly polls 2022: भाजपा प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ने 9, 10 और 11 सितंबर को ऊधम सिंह नगर और चंपावत जिले का दौरा कर पार्टी कार्यकर्ताओं को अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए तैयार रहने का संदेश दिया.

SHARE THIS:

चंपावत. उत्तराखंड भाजपा प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम अपने पहले दौरे पर पहाड़ और मैदान रुख देख गए हैं. साथ ही संकेत भी दे गए कि 2022 में जीत दर्ज करने वाले नेता ही टिकट का हकदार होगा. यही नहीं मुख्यमंत्री पुष्कर धामी की विधानसभा खटीमा में 2022 चुनाव में पार्टी का चेहरा कौन होगा के कयासों पर भी उन्होंने साफ और स्पष्ट रूप से जानकारी दे दी. सीएम पुष्कर सिंह धामी ही आने वाले चुनाव में पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद का चेहरा होंगे और नेतृत्व भी धामी का होगा, ऐसा बयान देकर प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम सभी कयासों पर विराम लगा गए.

बीते सप्ताह 9, 10 और 11 सितंबर को भाजपा प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ऊधम सिंह नगर और चंपावत जिले के अपने पहले दौरे पर आए थे. इस दौरान प्रदेश प्रभारी ने भाजपा कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के साथ सीधा संवाद किया. उन्होंने कार्यकर्ताओं से साफ कहा कि 2022 के चुनाव में टिकट उन्हें ही मिलेगा, जिनके जीतने की उम्मीद होगी. विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी की ओर से किए जा रहे सर्वे पर उन्होंने कहा कि यह बीजेपी का अंदरूनी सर्वे है, जिसके आधार पर बाद में फैसले लिए जाएंगे.

भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत के दौरान गौतम ने उन्हें विपक्षी हमले के लिए भी तैयार किया. उन्होंने कार्यकर्ताओं को प्रदेश की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर कैसे और किस तरह से हमलावर रहना है, इसका मंत्र दिया. प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ने तराई ऊधम सिंह नगर, सीएम धामी की विधानसभा खटीमा के साथ ही चंपावत और लोहाघाट विधानसभा में भी भाजपा मंडल के पदाधिकारियों से संवाद किया.

इस संवाद के दौरान गौतम ने पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को 2022 विधानसभा चुनाव के लिए तैयार रहने को कहा. जिले के वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि प्रदेश प्रभारी के दौरे से पार्टी के कार्यकर्ताओं में उत्साह है. बहरहाल, देखना रोचक होगा कि चुनाव मैनेजमेंट में माहिर भाजपा किस तरह अपने कार्यकर्ताओं में ऊर्जा का संचार कर पाती है.

उत्तराखंड: स्पा सेंटर की आड़ में जिस्मफरोशी, लड़कियों के VIDEO बनाकर होती थी ब्लैकमेलिंग

रुद्रपुर के मॉल में स्पा सेंटर से पकड़ी गई लड़कियां.

Rudrapur Mall Raid : हल्द्वानी के बाद अब ऊधम सिंह नगर के रुद्रपुर में भी पुलिस ने स्पा सेंटर में छापेमारी की. एक मॉल के अंदर चल रहे स्पा सेंटर से छह लड़कियां और चार ग्राहक आपत्तिजनक हालत में पकड़े गए.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. पुलिस टीम ने रुद्रपुर के एक मॉल में शुक्रवार को छापेमारी की, जहां स्पा सेंटर के नाम पर सैक्स रैकेट चल रहा था. पुलिस ने मेट्रोपॉलिस मॉल में चल रहे स्पा सेंटर पर छापेमारी करते हुए पुलिस ने छह लड़कियों और चार लड़कों को गिरफ्तार किया. ये सभी स्पा सेंटर के नाम पर देह व्यापार में लिप्त पाए गए. जिन लड़कियों को पकड़ा गया है वो दिल्ली, मिजोरम और महाराष्ट्र की रहने वाली हैं. लड़कियों से पूछताछ के बाद पुलिस ने दावा किया है कि असल में स्पा सेंटर्स में मसाज या स्पा नहीं बल्कि सैक्स का कारोबार चल रहा था.

हल्द्वानी ही नहीं बल्कि रुद्रपुर में भी स्पा सेंटर्स के नाम पर जिस्मफरोशी का धंधा खूब फल-फूल रहा है. मॉल स्थित स्पा सेंटर पर रेड के दौरान पुलिस को यौन संबंधों में इस्तेमाल होने वाली चीज़ें भी मिलीं. जिन लड़कों और लड़कियों को पकड़ा गया, पुलिस के मुताबिक रेड के दौरान उन्हें आपत्तिजनक अवस्था में पाया गया. यही नहीं, पकड़ी गई लड़कियों ने यह भी बताया कि किस तरह ब्लैकमेलिंग के ज़रिये उनका इस्तेमाल किया जा रहा था.

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड: चार धाम यात्रा की मांग पर हंगामा, महापंचायत में सरकार को अल्टीमेटम

स्पा सेंटर सील, लड़कियों ने कही ब्लैकमेलिंग की बात
एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने रुद्रपुर शहर के सबसे बड़े मॉल मेट्रोपोलिस में छापेमारी कर सेवन स्काई स्पा सेंटर में कई अनियमितताएं, आपत्तिजनक सामान मिलने पर सेंटर को सील कर दिया. पुलिस ने मौके से जिन लड़कियों को पकड़ा, उन्होंने पुलिस को बताया कि उन्हें स्पा के नाम पर सेंटर में नौकरी दी गई थी लेकिन काम जिस्मफरोशी का होता था. रेट ग्राहक की ज़रूरत के मुताबिक तय होते थे. इन लड़कियों का कहना है कि स्पा संचालक लड़कियों के वीडियो बना लेते थे, जिसके बाद मनमर्जी का काम न होने पर ब्लैकमेल किया जाता था.

uttarakhand news, uttarakhand crime news, spa center location, spa rates, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड क्राइम न्यूज़, स्पा सेंटर लोकेशन, स्पा रेट

रुद्रपुर से पहले इसी हफ्ते हल्द्वानी में दो स्पा सेंटरों में छापेमारी की गई थी.

हल्द्वानी में हो चुकी है कार्रवाई
रुद्रपुर से पहले हल्द्वानी में सोमवार और गुरुवार को इस तरह की कार्रवाई की गई थी. सोमवार की छापेमारी में पुलिस ने जंगल लग्ज़री स्पा सेंटर से नौ लड़कियों को जिस्मफरोशी के आरोप में पकड़ा था. पकड़ी गई लड़कियों में दो यूपी, तीन हरियाणा, एक मिजोरम, एक मणिपुर, एक पश्चिम बंगाल और एक मध्य-प्रदेश की रहने वाली थी. वहीं, गुरुवार को हुई कार्रवाई के दौरान एक नाबालिग समेत पांच लड़कियों को पकड़ा गया था.

उत्तराखंड चुनाव 2022 : CM धामी की विधानसभा अभी से बनी हॉट सीट, कितना बड़ा होगा मुकाबला?

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी.

Uttarakhand Polls 2022 : जब पुष्कर सिंह धामी खटीमा पहुंचे तो उन्होंने इस क्षेत्र को राज्य की नंबर एक विधानसभा बनाने का दावा किया. दावा विकास के मामले में था, लेकिन चुनाव के मामले में फिलहाल यह नंबर एक सीट तो बन ही गई है.

SHARE THIS:

खटीमा. सीएम पुष्कर धामी को उत्तराखंड का मुख्यमंत्री बने हुए एक महीना पूरा हो चुका है, लेकिन उनके सीएम बनने के साथ ही उनकी विधानसभा सीट खटीमा राज्य की राजनीति के केंद्र में आ गई थी. प्रदेश की आखिरी यानी 70वीं विधानसभा सीट खटीमा उत्तराखंड की राजनीति में बेहद दिलचस्प हो गई है. साल 2022 में मार्च के महीने में संभावित विधानसभा चुनावों से महीनों पहले भाजपा, कांग्रेस के अलावा चुनावी दंगल में पहली बार उत्तराखंड में उतर रही आम आदमी पार्टी के बड़े चेहरे भी खटीमा से ही तालुक रखते हैं.

प्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव से 6 महीने पहले ही खटीमा विधानसभा प्रदेश की राजनीति में नम्बर 1 बन गई है. खटीमा विधानसभा से विधायक पुष्कर धामी सीएम बने, तो वहीं 2017 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार रह चुके भुवन कापड़ी प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए. प्रदेश की राजनीति में अब तक कांग्रेस और भाजपा ही प्रमुख राजनीतिक दल रहे हैं, लेकिन इस बार आप भी चुनाव मैदान में है और इसका भी खटीमा से ताल्लुक साफ दिख रहा है.

ये भी पढ़ें : कुंभ कोविड जांच फर्जीवाड़ा : हाई कोर्ट के रुख के बाद अब मुख्य आरोपी होंगे गिरफ्तार!

Uttarakhand news, Uttarakhand elections, Uttarakhand politics, assembly elections, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड चुनाव, उत्तराखंड राजनीति, विधानसभा चुनाव

आगामी विधानसभा चुनाव में खटीमा विधानसभा सीट तीनों मुख्य पार्टियों के लिए अहम हो गई है.

क्या बन रहा ​है त्रिकोणीय गणित?
सीएम बनने के बाद धामी अपने पहले खटीमा दौरे पर ही खटीमा को प्रदेश की नम्बर 1 विधानसभा बनाने का दावा कर गए, तो कांग्रेस के कापड़ी 2022 चुनाव में फिर से सीएम के खिलाफ चुनाव लड़ने के संकेत दे रहें हैं. इन दो प्रमुख चेहरों से खटीमा हॉट सीट नहीं बन गई बल्कि आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और एक तरह से उत्तराखंड में आप का चेहरा एसएस कलेर खटीमा के मझोला दाह फार्म में रहते हैं. यानी यहां उनका भी अपना एक आधार है.

ये भी पढ़ें : जागेश्वर धाम में सांसद की बदसलूकी से BJP झाड़ रही पल्ला, घेरने में जुटी कांग्रेस

इस पूरे समीकरण में साफ है कि खटीमा सीट तीनों पार्टियों के शीर्ष पंक्ति के नेताओं की साख का सवाल बन चुकी है. सीएम धामी के खास माने जाने वाले स्वामी यतीश्वरानंद ऊधम सिंह नगर ज़िले के प्रभारी मंत्री हैं, जो ज़िले की सभी 9 सीटों पर फिर भाजपा का परचम लहराने का दावा कर चुके हैं. अब चर्चा यही है कि हॉट सीट खटीमा में 2022 का विधानसभा चुनाव प्रदेश की राजननीति की तस्वीर बदलने वाला होगा.

Uttarakhand 10th, 12th Result 2021 LIVE: 10वीं और 12वीं का रिजल्ट जारी, 10वीं में 93, 12वीं में 99 फीसदी पास

उत्‍तराखंड बोर्ड 10वीं और 12वीं का परिणाम आज

Uttarakhand (UBSE) Class 10, 12th Result 2021 LIVE: उत्तराखंड माध्यमिक शिक्षा बोर्ड या यूबीएसई आज 10वीं और 12वीं के नतीजे घोषित कर दिए हैं. रिजल्ट चेक करने के लिए छात्र यूबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट ubse.uk.gov.in पर जा सकते हैं.

SHARE THIS:

Uttarakhand (UBSE) Class 10, 12th Result 2021 LIVE: उत्तराखंड बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन या यूबीएसई बोर्ड 10वीं, 12वीं के परिणाम घोषित कर दिए गए हैं. रिजल्ट चेक करने के लिए छात्र यूबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट ubse.uk.gov.in पर जा सकते हैं.

बोर्ड को अपनी कक्षा 10, 12 की परीक्षाएं मई के महीने में आयोजित करनी थी. हालांकि, उत्तराखंड सरकार ने COVID-19 महामारी के कारण अपनी कक्षा 10, 12 की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी.

उत्तराखंड CM धामी के घर जहरीले सांप के घुसने से दहशत! दो दिन खोजती रही फॉरेस्ट टीम

उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी के घर में घुसा ज़हरीला सांप.

सीएम पुष्कर सिंह धामी के घर पर एक सांप का ऐसा खौफ देखने को मिला कि गौशाला में बंधी एक बछिया की मौत भी हो गई. मुश्किलों के बाद इस सांप को रेस्क्यू करने का वीडियो न्यूज़18 पर आप देख सकते हैं.

SHARE THIS:

रुद्रपुर. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के घर तब हड़कंप मच गया, जब एक ज़हरीला सांप उनके घर में घुस गया. आधिकारिक सीएम हाउस में कुछ ही दिन पहले कई दिनों की विशेष पूजा करवाकर सीएम धामी ने गृह प्रवेश किया था, लेकिन सांप इस राजकीय घर में नहीं घुसा, बल्कि सीएम धामी के विधानसभा क्षेत्र खटीमा स्थित नगरा तलाई में उनका जो मकान है, सांप घुसने की घटना वहां हुई है. इस सांप ने ऐसा नाक में दम किया कि दो दिनों तक फॉरेस्ट विभाग परेशान होता रहा.

ऊधमसिंह नगर ज़िले में खटीमा में सीएम धामी के घर ज़हरीले सांप के घुस जाने के बाद फॉरेस्ट विभाग को सूचित किया गया. दो दिनों तक सांप घर के अंदर लुका छिपी करता रहा, दिखाई नहीं दिया. बुधवार को घर में घुसे सांप को आखिरकार दो दिन की कड़ी मशक्कत के बाद फॉरेस्ट टीम ने खोज निकाला और रेस्क्यू कर जंगल में छोड़ दिया. इस पूरी मशक्कत का वीडियो न्यूज़18 पर आप देख सकते हैं. तो क्या सीएम के परिवार को काफी परेशानी या खतरा हुआ?

ये भी पढ़ें : CM धामी के गुरुद्वारे दौरे पर ‘मर्यादा टूटने’ का विवाद, गुरुद्वारा कमेटी के 4 सदस्यों का इस्तीफा

गनीमत यही रही कि इस दौरान सीएम के परिवार का कोई भी सदस्य इस मकान में मौजूद नहीं था. सीएम धामी का पूरा परिवार इन दिनों देहरादून में ही है इसलिए कोई अप्रिय घटना होने से बच गई. लेकिन सीएम के स्टाफ से जुड़े कुछ लोग मकान में ही थे, जिनकी नींद दो दिनों तक सांप के खौफ से गायब रही. पकड़ा गया सांप फोरेस्टन कैट स्नेक प्रजाति का बताया गया है. जानकारों के मुताबिक बारिश और उमस के मौसम में सांपों के बिलों से निकलकर घरों में घुसने की घटनाएं बढ़ रही हैं.

ये भी पढ़ें : हल्द्वानी-कर्णप्रयाग तक बने ऑल वेदर रोड, राज्य मंत्री अजय भट्ट ने परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से की मांग

सांप के डसने से सीएम की बछिया की मौत
सीएम धामी के घर घुसा सांप कितना ज़हरीला था, इसका अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि उसके डसने से सीएम की गौशाला में बंधी बछिया की मौत हो गई. फॉरेस्ट के खटीमा रेंज के रेंजर राजेंद्र सिंह मनराल के मुताबिक बुधवार को उन्हें सीएम धामी के घर में सांप घुसने की सूचना मिली. तब मनराल अपने वन दरोगा जागेश वर्मा, संतोष भंडारी, नबी अहमद, जयवीर सिंह के साथ मौके पर पहुंचे, जहां बछिया तड़प रही थी. तुरंत पशु चिकित्सक को बुलाकर इलाज करवाया गया, लेकिन बछिया को बचाया नहीं जा सका.

उत्तराखंड में 8000 किलो चरस जब्त, अरबों की कीमत, गिरफ्तार आरोपियों में दो पुलिस जवान भी, नौकरी से बर्खास्त

उत्तराखंड ने बेहद भारी मात्रा में चरस ज़ब्त की.

इसी साल हिमाचल प्रदेश में भारी मात्रा में चरस ज़ब्त की गई थी, तब पुलिस ने अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में 1 किलो चरस की कीमत 3 लाख रुपये से ज़्यादा बताई थी. ऐसे समझा जाए तो उत्तराखंड पुलिस ने जो चरस ज़ब्त की है, उसकी कीमत 240 करोड़ रुपये बैठती है. जानिए पूरा मामला.

SHARE THIS:
ऊधमसिंह नगर/पिथौरागढ़. उत्तराखंड पुलिस के हाथ बड़ी कामयाबी तब लगी, जब दो गाड़ियों से ट्रांसपोर्ट की जा रही चरस भारी मात्रा में ज़ब्त की गई. लेकिन पुलिस को इस उपलब्धि के साथ शर्मिंदगी का भी सामना करना पड़ा क्योंकि जिन चार लोगों को चरस तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया गया, उनमें से दो पुलिस के ही जवान थे. पिथौरागढ़ पुलिस के दो जवानों समेत चार लोगों से ऊधमसिंह नगर पुलिस ने 8 क्विंटल से ज़्यादा चरस बरामद की, जिसे दो निजी कारों से ले जाया जा रहा था. पुलिस के भेस में चरस तस्करों के गिरफ्तार होने के बाद पुलिस के आला अफसरों ने कड़ी कार्रवाई किए जाने की बात कह दी है.

किच्छा पुलिस ने एक अमेज़ और एक वैगन आर कार में बैठे चार आरोपियों विपुल सैला, पीयूष खड़ावत, प्रभात बिष्ट और दीपक पांडे को गिरफ्तार किया. खबरों की मानें तो इन दो कारों से 8008 किलोग्राम चरस के साथ गिरफ्तार हुए इन चारों में से बिष्ट और पांडे पुलिस लाइन पिथौरागढ़ में आर्म्ड पुलिस में तैनात हैं. अब इनकी बर्खास्तगी की कार्रवाई की जा रही है.

Kisan Aandolan: ऊधम सिंह नगर में आज किसान महापंचायत, राकेश टिकैत भी करेंगे शिरकत

इस किसान महापंचायत को 50 से ज्यादा राजनीतिक और सामाजिक संगठनों ने समर्थन दिया हुआ है.

कृषि कानूनों के खिलाफ उत्तराखंड में पहली किसानों की महापंचायत हो रही है. इसमें उत्तर प्रदेश के कई जिलों के किसान भी शामिल होने पहुंचे हैं. महापंचायत को 50 से ज्यादा राजनीतिक और सामाजिक संगठनों ने दिया समर्थन.

SHARE THIS:

ऊधम सिंह नगर. उत्तराखंड (Uttarakhand) के ऊधम सिंह नगर में आज किसान महापंचायत जारी है. संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले हो रही इस महापंचायत (Mahapanchayat) में किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) शिरकत कर रहे हैं, जो थोड़ी ही देर में महापंचायत में पहुंचेंगे. किसान सुबह से मोदी मैदान में महापंचायत के लिए पहुंचने लगे हैं. और तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. इस किसान महापंचायत को 50 से ज्यादा राजनीतिक और सामाजिक संगठनों ने समर्थन दिया हुआ है.

कृषि कानून के खिलाफ उत्तराखंड में पहली महापंचायत हो रही है, जिसमें उत्तराखंड के साथ ही उत्तर प्रदेश के किसान भी शिरकत कर रहे हैं. रुद्रपुर में जिस मैदान में किसान महापंचायत हो रही है उस मैदान में पीएम मोदी चार चुनावी रैलियां कर चुके हैं. इसलिए इस मैदान का नाम मोदी मैदान के नाम से चर्चित है. लेकिन किसानों का दावा है कि इसे आज से मोदी मैदान के नाम से बैंक बल्कि किसान मैदान के नाम से जाना जाएगा.

महिला किसान भी पहुंची
रुद्रपुर की संयुक्त किसान मोर्चा की महापंचत में बड़ी संख्या में महिलाएं भी पहुंची हुई हैं. महिला किसानों की दलील है कि तीनों कृषि कानून कॉरपोरेट घरानों को फायदा पहुंचाने वाले हैं. इसलिए वो इनका विरोध करने के लिए महापंचायत में पहुंची हुई हैं.

अंतिम तीन बैठकें कर्नाटक में होंगी
बता दें कि कल खबर सामने आई थी कि केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन के लिए समर्थन जुटाने की खातिर किसान नेता राकेश टिकैत मार्च में पांच राज्यों का दौरा करेंगे. भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के एक पदाधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी. पदाधिकारी ने कहा कि बीकेयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता और किसान आंदोलन का एक प्रमुख चेहरा टिकैत एक मार्च से दौरे की शुरुआत करेंगे. बीकेयू के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिकने कहा, ’मार्च में उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना में किसानों की बैठकें होंगी, उत्तर प्रदेश में भी दो बैठकें होंगी.’ मलिक ने कहा कि राजस्थान में दो बैठकें और मध्य प्रदेश में तीन बैठकें होंगी. 20, 21 और 22 मार्च को अंतिम तीन बैठकें कर्नाटक में होंगी.

Viral Video: खनन माफिया का ट्रैक्टर आगे-आगे, पुलिस पीछे-पीछे, फिर क्या हुआ देखें

ऊधमसिंह नगर जिले का एक ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें खनन माफिया पुलिस की टीम के साथ आंख-मिचौली का खेल खेलते दिख रहा है.

Viral Video : ऊधम सिंह नगर जिले का यह वीडियो वायरल हो रहा है. पुलिस और बालू खनन माफिया के बीच काफी देर तक नूरा-कुश्ती चलती रही. ट्रैक्टर आगे-आगे और पुलिस पीछे-पीछे. पुलिस डाल-डाल तो ट्रैक्टर वाला पात-पात. कुछ इसी तर्ज पर पूरा खेल चलता रहा. अंत में पुलिस के हाथ हार ही लगी.

SHARE THIS:
ऊधमसिंह नगर. जिले का एक ऐसा वीडियो वायरल (Viral Video) हो रहा है जिसमें बालू खनन माफिया पुलिस की टीम के साथ आंख-मिचौली का खेल खेलते दिख रहा है. मामला काशीपुर और बाजपुर के बीच बहने वाली कोसी नदी (Kosi River) का है, जहां अवैध खनन की शिकायत पर पुलिस की टीम पहुंची थी. पुलिस ने मौके से एक ट्रैक्टर बरामद करने की कोशिश की. इससे पहले कि पुलिस उसे जब्त करती, ड्राइवर ने ट्रैक्टर दौड़ा लिया.

फिर क्या था, स्कॉर्पियो में सवार पुलिसवालों ने ट्रैक्टर का पीछा करना शुरू कर दिया. ट्रैक्टर आगे-आगे और पुलिस पीछे-पीछे. पुलिस डाल-डाल तो ट्रैक्टर वाला पात-पात. पुलिस और खनन माफिया के बीच नूरा-कुश्ती का यह वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है. अंत में पुलिस के हाथ हार ही लगी.

पुलिस की पकड़ में नहीं आया खनन माफिया


वीडियो बुधवार का बताया जा रहा है. आईटीआई थाना इंचार्ज विद्याधर जोशी को कोसी नदी में अवैध खनन की शिकायत मिली थी. थाना इंचार्ज स्कॉर्पियो लेकर मौके पर पहुंचे लेकिन इससे पहले ही ज़्यादातर खनन माफिया मौके से फरार हो चुके थे. एक ट्रैक्टर के जरिए खनन जारी था. पुलिस टीम ने इस ट्रैक्टर को पकड़ने की कोशिश की लेकिन इस दौरान माफिया ने ट्रैक्टर दौड़ा लिया.





वीडियो में साफ दिख रहा है कि खनन माफिया अपने ट्रैक्टर के जरिये पुलिस पार्टी के साथ किस तरह का खेल, खेल रहा है. कभी ट्रैक्टर सवार माफिया नदी किनारे दलदल में जाता तो कभी ट्रैक्टर पानी में उतार देता है. पुलिस वाले भी स्कॉर्पियो से ट्रैक्टर का पीछा कर रहे हैं लेकिन काफी मशक्कत के बाद भी उसे पकड़ नहीं पाते.

गहरे पानी में उतरने की हिम्मत नहीं कर पाई पुलिस


अंत में पुलिस के आंखों के सामने ही ड्राइवर ट्रैक्टर को नदी के गहरे पानी में उतार देता है जबकि पीछा कर रही पुलिस पार्टी गहरे पानी में उतरने की हिम्मत नहीं कर पाती और खनन माफिया मौके से फरार हो जाता है. पूरी घटना का वीडियो नदी के दूसरे छोर पर मौजूद किसी शख्स ने कैमरा में कैद कर ली. अब यही वीडियो वायरल हो रहा है. हालांकि शुक्रवार को पुलिस से दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. एसएसपी ऊधम सिंह नगर दलीप सिंह कुंवर के मुताबिक पुलिस के कार्रवाई से खनन माफिया में खौफ का माहौल है.

भतीजे से प्रेम प्रसंग में पति बन रहा था रोड़ा, पत्नी ने करवा दिया मर्डर

पुलिस ने मृतक के भतीजे सोमपाल को गिरफ्तार कर उससे सख्ती से पूछताछ की.

पुलिस के अनुसार युवक की हत्या उसकी पत्नी ने ही कराई थी. मृतक की पत्नी के अपने भतीजे संग अवैध संबंध थे. पति इन संबंधों में रोड़ा बन रहा था. इसलिए पत्नी ने पति की हत्या करा दी.

SHARE THIS:
ऊधमसिंह नगर. उत्तराखंड के ऊधमसिंहनगर में 14 जनवरी को जसपुर गाव में रायपुर से मच्छमार जाने वाले रास्ते पर नहर किनारे एक शख्स की लाश मिली थी. लाश की शिनाख्त गांव के वीर सिंह के रूप में हुई. इस मामले में मृतक की पत्नी ने तीन युवकों के खिलाफ अफजलगढ़ थाने में हत्या का केस दर्ज कराया था. हत्याकांड में जब पुलिस की जांच आगे बढ़ी तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ. पुलिस के अनुसार युवक की हत्या उसकी पत्नी ने ही कराई थी. मृतक की पत्नी के अपने भतीजे संग अवैध संबंध थे. पति इन संबंधों में रोड़ा बन रहा था. इसलिए पत्नी ने पति की हत्या करा दी.

जांच में तीनों युवक बेगुनाह निकले


पुलिस पूछताछ में तीनों युवक बेगुनाह निकले. पुलिस ने मृतक के भतीजे सोमपाल को गिरफ्तार कर उससे सख्ती से पूछताछ की. पहले तो सोमपाल ने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की, लेकिन बाद में उसने सच उगल दिया. सोमपाल ने बताया कि वह अपने चाचा वीर सिंह के साथ मजदूरी करता था. दो साल पहले उसके अपनी चाची सुशीला के साथ अवैध संबंध बन गए. दो महीने पहले ही वीर सिंह को इन अवैध संबंधों की भनक लग गई थी. दरअसल, वीर सिंह ने पत्नी और भतीजे को आपत्तिजनक हालत में देख लिया. इसके बाद वीर सिंह ने सुशीला की जमकर पिटाई की थी.

पति से बदला लेना चाहती सुशीला


सुशीला अपने पति से बदला लेना चाहती थी. इसी बीच, कुछ दिन पहले वीर सिंह का गांव के तीन लड़कों से विवाद हो गया. सुशीला ने पति की हत्या का प्लान यहीं से तैयार किया. उसने सोमपाल से पति को रास्ते से हटाने को कहा. हत्या का इल्जाम वीर सिंह के साथ झगड़ा करने वाले युवकों पर लगाने की बात कही. सोमपाल ने 14 जनवरी को अपने दोस्त लवकुश और अनस के साथ हरपुर के पास वीर सिंह के सिर डंडों से प्रहार कर हत्या कर दी. हत्या के बाद लाश को नहर में फेंक दिया. पुलिस ने मृतक की पत्नी समेत चारों आरोपियों को गिरफ्तार जेल भेज दिया.

Uttarakhand : सट्टेबाजी में बीजेपी से जुड़ा टिप्सन नरूला अपने तीन साथियों के साथ गिरफ्तार

एक नामी होटल से ये तीनों गिरफ्तार किेए गए. इनकी निशानदेही पर चौथा साथी भी पकड़ा गया.

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार लोगों में गरपुर ब्लॉक के ज्येष्ठ ब्लॉक प्रमुख टिप्सन नरूला और उनके दो साथी अमनदीप और कमल कालरा शामिल हैं. टिप्सन नरूला का संबंध बीजेपी (BJP) से भी है.

SHARE THIS:
ऊधमसिंह नगर. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में सट्टे का चस्का बड़े-बड़े लोगों को जेल की हवा खिला रहा है. उत्तराखंड (Uttarakhand) के ऊधमसिंह नगर के एक नामी होटल से सट्टा लगाते चार लोगों को गिरफ्तार (Arrested) किया गया. गिरफ्तार लोगों में गरपुर ब्लॉक के ज्येष्ठ ब्लॉक प्रमुख टिप्सन नरूला और उनके दो साथी अमनदीप और कमल कालरा शामिल हैं. टिप्सन नरूला का संबंध बीजेपी (BJP) से भी है. पुलिस को सटोरियों के कमरे से कई ऐसे सबूत हाथ लगे जिससे साबित हो रहा था कि ये लोग आईपीएल के खेल में सट्टा लगा रहे थे. पुलिस को मौके से सेल फोन, कैश और सटोरियों से जुड़े मोबाइल नंबर मिले हैं.

ऐसे बिछाया पुलिस ने जाल

पुलिस को सूचना मिली कि रुद्रपुर-हल्द्वानी रोड पर होटल रेडिस के कमरा नंबर 203 में कुछ लोग ठहरे हुए हैं. जो यहां के सटोरियों के संपर्क में हैं और लोगों को लाखों का सट्टा खेला रहे हैं. एसएसपी दलीप सिंह कुंवर के निर्देश पर सीएम अमित कुमार के नेतृत्व में ट्रैप टीम बनाई गई. जिसके जाल में ये तीनों सटोरिए फंस गए. हालांकि एक सटोरिया थोड़ी देर पहले खेल कर चला गया था. पकड़े गए तीनों सटोरियों की निशानदेही पर पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने मौके से 40 हजार से ज्यादा का कैश 7 मोबाइल फोन बरामद किए हैं. सभी आरोपियों के खिलाफ रुद्रपुर कोतवाली में जुआ खेलने की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है.

जल्दी पैसे कमाने का चक्कर

एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा के मुताबिक आईपीएल के जरिए घर बैठे मोटा पैसा कमाने का लालच कई लोगों पर भारी पड़ रहा है. लोगों के जल्दी पैसा कमाने के लालच का सटोरिए फायदा उठा रहे हैं. पुलिस की निगाह इस पूरे खेल पर बनी हुई है.

बताया राजनीतिक साजिश

गदरपुर के ज्येष्ठ ब्लॉक प्रमुख टिप्सन नरूला ने पुलिस के जाल में फंसने के बाद आरोप लगाया कि वे राजनीतिक साजिश का शिकार हुए हैं. क्योंकि वे सट्टे का कोई खेल नहीं खेलते. पुलिस ने उनके पास मौजूद कैश और मोबाइल्स को जबरन सट्टे से जोड़ने की कोशिश की है. हालांकि पुलिस सारी कॉल रिकॉर्ड्स के जरिए ये साबित करने की कोशिश में है कि टिप्सन नरूला एक प्रोफेशनल सटोरिया है. जो अपने साथियों संग सट्टे के खेल को अंजाम दे रहा था.

खटीमा में कोरोना पॉजिटिव मरीज़ मौत के बाद निकला नेगेटिव... स्वास्थ्य विभाग ने नई रिपोर्ट की खारिज

पकड़िया गांव निवासी एक व्यक्ति की मौत के बाद उनकी बेटी ने आरोप लगाया था 108 एंबुलेंस के साथ ही निजी एम्बुलेंस ने उनके पिता को ले जाने से इनकार कर दिया था.

अब मृतक की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद मृतक के परिजनों ने कंटेन्मेंट ज़ोन पर प्रदर्शन कर विरोध जताया.

SHARE THIS:
खटीमा. 11 अगस्त को खटीमा में कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ की मौत के बाद किए गए टेस्ट से पता चला है कि वह कोविड-19 पॉज़िटिव नहीं था. इसके बाद मृतक के परिजनों  ने कंटेंटमेंट ज़ोन में हंगामा कर दिया है. इस मामले में कंफ्यूज़न इससे भी बढ़ गया है कि ताज़ा रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ज़िला प्रशासन ने पुरानी रिपोर्ट को ही सही मानने का फ़ैसला किया है और मारे गए व्यक्ति को कोरोना पॉज़िटिव माना है. उधर 11 तारीख को मृतक की बेटी के किसी भी एंबुलेंस के उसके पिता को अस्पताल न पहुंचाने के आरोप पर ज़िला प्रशासन ने जांच शुरु कर दी है.

जांच अधिकारी पहुंचे खटीमा

बता दें कि खटीमा के पकड़िया गांव निवासी एक व्यक्ति की मौत के बाद उनकी बेटी ने आरोप लगाया था 108 एंबुलेंस के साथ ही निजी एम्बुलेंस ने उनके पिता को ले जाने से इनकार कर दिया था. उन्होंने इस बारे में ऊधम सिंह नगर के ज़िलाधिकारी को लिखित शिकायत की थी.

खटीमा की एसडीएम निर्मला बिष्ट के मुताबिक मामले की गम्भीरता को देखतें हुए ऊधम सिंह नगर डीएम ने जांच के निर्देश दे दिए थे. सोमवार को इस मामले की जांच के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी बंशीधर तिवारी खटीमा पहुंच गए. उन्होंने कहा कि पूरे मामले की जांच के बाद वह ज़िलाधिकारी को रिपोर्ट सौंपेंगे जिसके बाद कार्रवाई की जाएगी.

पुरानी रिपोर्ट को ही माना जाएगा

वही RT-PCR रिपोर्ट में अब मृतक की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद मृतक के परिजनों ने कंटेन्मेंट ज़ोन पर प्रदर्शन कर विरोध जताया. सरकारी अस्पताल की सीएमएस सुषमा नेगी के मुताबिक मृतक की तबियत खराब होने पर उसका रैपिड एंटीजेन टेस्ट पॉज़िटिव निकला था.

हालांकि अब RT-PCR रिपोर्ट नेगेटिव आई है. नेगी ने कहा कि स्वास्थ्य महकमा मृतक को पहली रिपोर्ट के आधार पर कोरोना पॉज़िटिव ही मान रहा है.

Corona की चपेट में आए उत्तराखंड BJP विधायक सौरभ बहुगुणा, लोगों से की ये अपील

सितारगंज भाजपा विधायक सौरभ बहुगुणा भी कोरोना संक्रमित पाए गए

सौरभ बहुगुणा के कोरोना पॉजिटिव (COVID-19 Positive) पाए जाने के बाद कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा रही है. बताया जा रहा है कि उनके टच में आए लोगों में हड़कंप मचा हुआ है. हालांकि सितारगंज विधायक ने अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी खुद अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिये साझा की है.

SHARE THIS:
उधम सिंह नगर. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) के संक्रमण की रफ्तार पूरे देश में काफी तेजी से बढ़ रही है. उत्तराखंड में भी कोरोना संक्रमण के मामलों में खासा इजाफा देखा जा रहा है. साथ ही बीजेपी नेताओं के भी कोरोना संक्रमित होने का सिलसिला लगातार जारी है. कोरोना संक्रमण की ताजा लिस्ट में उधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar) की सितारगंज विधानसभा से बीजेपी विधायक सौरभ बहुगुणा (Saurabh Bahuguna MLA) भी दिल्ली में कोरोना पॉजिटिव पाए गए.

सितारगंज से 1 अगस्त को बुख़ार आने पर दिल्ली में मैंने टेस्ट करवाया और रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।मेरा अनुरोध है कि...

Posted by Saurabh Bahuguna on Wednesday, August 5, 2020


सितारगंज मंडी समिति के अध्यक्ष भी संक्रमित
सौरभ बहुगुणा के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा रही है. बताया जा रहा है कि उनके टच में आए लोगों में हड़कंप मचा हुआ है. हालांकि सौरभ बहुगुणा ने अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी खुद अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिये साझा की है. सौरभ में लिखा है कि "सितारगंज से 1 अगस्त को बुख़ार आने पर दिल्ली आने के बाद मैंने टेस्ट करवाया और रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है. मेरा अनुरोध है कि सितारगंज विधानसभा में जो भी लोग गत कुछ दिनों में मेरे संपर्क में आयें हैं, कृपया स्वयं को आइसोलेट कर अपनी जांच करवाएं. विधायक सौरभ बहुगुणा की दी गई जानकारी से पिछले एक हफ्ते में उनके टच में आए कई नेता खुद को आइसोलेट कर रहे हैं. बता दें कि सौरभ के संपर्क में रहे उनके करीबी और सितारगंज मंडी समिति के अध्यक्ष अमरजीत सिंह कटवाल भी ​कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. विधायक सौरभ बहुगुणा के संपर्क में आए सितारगंज मंडी समिति के अध्यक्ष अमरजीत सिंह कटवाल भी कोरोना पॉजिटिव हैं. उन्हें रुद्रपुर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कटवाल ने News 18 से फोन पर बातचीत में बताया कि वो विधायक सौरभ बहुगुणा के साथ दौरे पर थे. घर आने पर उन्हें बुखार महसूस हुआ. जांच कराने पर कोरोना की पुष्टि हुई जिसके बाद उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया.

ये भी पढ़ें- COVID-19: पर्यावरण के लिए खतरा बन रहीं PPE किट बायो फ्यूल में बदली जा सकती हैं-स्टडी

बीजेपी नेताओं के घर लगातार दे रहा है कोरोना दस्तक
सौरभ बहुगुणा से पहले कई बीजेपी नेता व उनके परिजन भी कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं. रुद्रपुर के विधायक राजकुमार ठुकराल के छोटे भाई संजय ठुकराल और उनकी पत्नी भी कोरोना संक्रमित हो कर स्वस्थ हो चुके हैं. इनके अलावा प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, उनकी पत्नी और पूर्व मंत्री अमृता रावत, उनकी बहू और बेटा भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. पुरोला से विधायक राजकुमार, लैंसडाउन से विधायक दलीप रावत के भाई की पत्नी और कई सगे-संबंधी कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं. बीजेपी के प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार के साथ ही प्रदेश प्रवक्ता प्रकाश रावत, नैनीताल के बीजेपी जिलाध्यक्ष प्रदीप रावत और उनकी जिला कार्यकारिणी के पदाधिकारी भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं. इसके अलावा देहरादून से लेकर अल्मोड़ा तक सेना के कई जवान भी कोरोना वायरस के संक्रमण की जद में आ चुके हैं.

भारतीय से शादी करने की फिराक में लगी पाकिस्तानी महिला फिर गिरफ्तार, फर्जी वीजा पर पहले भी पकड़ी गई

पिछले साल फ़र्ज़ी वीज़ा लेकर भारत में घुसते समय पकड़ी गई यह महिला फ़िलहाल ज़मानत पर है.

काशीपुर में गिरफ्तार आरोपी महिला को फर्ज़ी वीज़ा (Fake Visa) लेकर भारत में घुसते समय 2019 में चम्पावत में नेपाल बॉर्डर (Nepal Border) पर गिरफ्तार किया गया था. वह अभी जमानत पर बाहर है.

SHARE THIS:
काशीपुर. उत्तराखंड पुलिस ने जिसे एक महिला और युवक का सामान्य झगड़ा समझा था, उसके तार अमेरिका से होकर पाकिस्तान से जुड़े तो हड़कंप मच गया. दरअसल, बीती रात जसपुर बस अड्डे के समीप एक महिला और युवक के बीच झगड़ा होने की ख़बर पर पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया तो पता चला कि महिला अमेरिकी नागरिक (US Citizen) है. बाद में यह भी पता चला कि वह मूल रूप से पाकिस्तानी (Pakistan) है और पिछले साल फ़र्ज़ी वीज़ा (Fake Visa) लेकर भारत में घुसते समय पकड़ी गई थी. वह फ़िलहाल ज़मानत पर है. सूत्रों का कहना है कि वह भारत की नागरिकता लेने के लिए किसी भारतीय से शादी करने के चक्कर में है.

झगड़े की वजह से पकड़ी गई
पुलिस सूत्रों के अनुसार मंगलवार रात काशीपुर पुलिस को सूचना मिली कि जसपुर बस अड्डे पर एक महिला और युवक के बीच झगड़ा हो रहा है. विवाद आगे न बढ़ी इसलिए पुलिस मौके पर पहुंची और महिला को हिरासत में लिया. कोतवाली में पूछताछ के दौरान महिला ने अपना नाम फरीदा बेगम बताया और कहा कि वह अमेरिकी नागरिक है. बाद में यह भी पता चला कि वह मूल रूप पाकिस्तान की है. पड़ताल के बाद पता चला कि यह महिला पिछले साल चंपावत में पकड़ी जा चुकी है. उसके पास भारत में रहने का वीज़ा फ़र्ज़ी पाया गया था. इस पर उसे गिरफ्तार कर लिया गया था और अल्मोड़ा जेल भेजा गया था. फ़िलहाल वह ज़मानत पर है.

एक बदमाश से मिलने पहुंंची थी
जेल में रहने के दौरान ही उसका एक बदमाश से संपर्क हुआ था जो महुआखेड़ा गंज का रहने वाला है. अमेरिकी-पाकिस्तानी महिला ने बता कि बदमाश से उसका संपर्क जेल में हुआ था और वह उसी से मिलने काशीपुर आई थी.

एसएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने बताया कि पाकिस्तान इस महिला को चंपावत पुलिस ने 3/14 पासपोर्ट एवं फॉरनर एक्ट में गिरफ़्तार किया था और जेल भेजा था. अब इस बात की जांच की जा रही है कि यह जिस लड़के के साथ झगड़ रही थी उसके साथ क्या विवाद था. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.

उत्तराखंड: घरवाले निकले कोरोना पॉजिटिव तो MLA ने खुद को किया आइसोलेट

विधायक राजकुमार ठुकराल के छोटे भाई संजय ठुकराल और उनकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं

विधायक राजकुमार ठुकराल (Rajkumar Thukral) के छोटे भाई संजय ठुकराल और उनकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) पाई गईं. जिसके बाद दोनों को क्वारंटाइन (Quarantine) कर दिया गया है.

SHARE THIS:
ऊधम सिंह नगर. उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर के रुद्रपुर में विधायक के घरवाले कोरोना संक्रमित (Corona Infected) पाये गये. विधायक राजकुमार ठुकराल (Rajkumar Thukral) के छोटे भाई संजय ठुकराल और उनकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव पाई गईं. रविवार को हल्की बुखार के बाद दोनों का ट्रू नेट टेस्ट किया गया, जिसमें दोनों संक्रमित मिले. जिसके बाद दोनों को क्वारंटाइन (Quarantine) कर दिया गया. भाई संजय और विधायक राजकुमार ठुकराल का परिवार एक साथ रहता है. लिहाजा ऐहतियातन 24 लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया है.

विधायक राजकुमार ठुकराल ने बताया कि उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से परिवार समेत पूरे स्टाफ और संपर्क में आए लोगों का कोरोना टेस्ट करने का अनुरोध किया. जिसके बाद 24 लोगों के सेंपल लिए गए. विधायक के मुताबिक परिवार के अन्य लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है. बावजूद इसके एहतियात के तौर पर उन्होंने खुद को आइसोलेट कर लिया है.

कई हाई प्रोफाइल लोग आ चुके हैं कोरोना की चपेट में 

कोरोना से आम और खास कोई भी अछूता नहीं है. इससे पहले प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, उनकी पत्नी और पूर्व मंत्री अमृता रावत, उनकी बहू और बेटा भी कोरोना पॉजिटिव पाये जा चुके हैं. पुरोला से विधायक राजकुमार, लैंसडॉन से विधायक दलीप रावत की पत्नी भी संक्रमित हो चुकी हैं. इसी तरह बीजेपी के प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार के साथ-साथ प्रदेश प्रवक्ता प्रकाश रावत, नैनीताल के बीजेपी जिलाध्यक्ष प्रदीप रावत और उनकी जिला कार्यकारिणी के पदाधिकारी भी कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं. इनके अलाना देहरादून से लेकर अल्मोड़ा तक सेना के जवान भी कोरोना पॉजिटिव निकले हैं.

कम्युनिटी स्प्रेडिंग का खतरा 

राज्य में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. कोरोना मरीजों का आंकड़ा रविवार को साढ़े सात हजार को पार कर गया. खतरे की बात ये है कि अब संक्रमण कम्युनिटी में फैलता जा रहा है. पिछले पंद्रह दिनों के भीतर 70 फीसदी से ज्यादा मामले बिना ट्रैवल हिस्ट्री से जुड़े हुए मिले हैं. यानी ऐसे लोगों को भी कोरोना हुआ है जो कहीं नहीं गए. इनलोगों को अपने करीबियों या मिलने जुलने वालों से ही कोरोना हुआ है. हालांकि सरकार इसे अभी कम्युनिटी संक्रमण मानने से इंकार कर रही है.

साढ़े 7 हजार को पार कर चुका है आंकड़ा

अल्मोड़ा में 307, बागेश्वर में 133, चमोली में 97, चंपावत में 123, देहरादून में 1737, हरिद्वार में 1486, नैनीताल में 1232, पौड़ी गढ़वाल में 216, पिथौरागढ़ में 150, रुद्रप्रयाग में 79, टिहरी गढ़वाल में 521, ऊधम सिंह नगर में 1292 और उत्तरकाशी में 220 मरीज मिले हैं. इसी के साथ सूबे में कोरोना मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 7593 हो गई हैं. इनमें से 86 मरीजों की मौत हो चुकी है, जबकि 4437 मरीज ठीक होकर अस्पताल से घर जा चुके हैं. प्रदेश में इस समय कोरोना के कुल 3032 एक्टिव केस हैं.

Corona से जंग : रुद्रपुर में शुरू हुआ 300 बेड का नया कोविड अस्पताल, CM ने कही ये बात

अब तक मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना (Mukhyamantri Swarojgar Yojana) में 1216 लोगों का 45 करोड़ का लोन मंजूर हुआ. वहीं,  86 प्रोजेक्ट के लिए 2 करोड़ 64 लाख रुपए का लोन बांटा जा चुका है. इसके अलावा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम में 794 प्रोजेक्ट के लिए 65 करोड़ 91 लाख का लोन मंजूर हुआ है, जिसमें 38 करोड़ 54 लाख का लोन बंट चुका है.

कोरोना हॉस्पिटल (Covid Hospital) की शुरुआत होने से तराई-भाबर के मरीजों को राहत मिलेगी. साथ ही हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल और कुमाऊं के अन्य कोविड केयर सेंटर में भी मरीजों को दबाव कम होगा. यहां 30 डॉक्टरों और 10 पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती की जा रही है

SHARE THIS:
ऊधम सिंह नगर. उत्तराखंड (Uttarakhand) के ऊधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar) जिले से कोरोना मरीजों (Corona Patients) के लिए थोड़ी राहत भरी खबर है. यहां के रुद्रपुर में 300 बेड के नए कोरोना हॉस्पिटल (Covid Hospital) की शुरुआत हो चुकी है. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) ने इस हॉस्पिटल की शुरुआत की. यह हॉस्पिटल निर्माणाधीन स्व. राम सुमेर शुक्ला मेडिकल कॉलेज में है. इसमें आईसीयू से लेकर हर तरह की सुविधा रखी गई है,जिससे गंभीर कोरोना मरीजों को भी इलाज मिल सकेगा.

दूसरे हॉस्पिटलों पर दबाव कम होगा

सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इस दौरान कहा कि डैडिकेटेड कोरोना हॉस्पिटल की शुरुआत होने से तराई-भाबर के मरीजों को राहत मिलेगी. साथ ही हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल और कुमाऊं के अन्य कोविड केयर सेंटर में भी मरीजों को दबाव कम होगा. मुख्यमंत्री ने बताया कि अस्पताल में 30 डॉक्टरों और 10 पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती की जा रही है, जो यहां भर्ती मरीजों को देखेंगे. सीएम ने अपने ऊधम सिंह नगर जिले के दौरे के दौरान कई विकास योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया. इस दौरान प्रभारी मंत्री मदन कौशिक के साथ ही विधायक राजकुमार ठुकराल, राजेश शुक्ला, हरभजन सिंह चीमा समेत कुमाऊं कमिश्नर अरविंद सिंह, आईजी अजय रौतेला समेत जिले के आला अधिकारी मौजूद थे.

सीएम ने गिनाए विकास कार्य

हॉस्पिटल और अन्य योजनाओं का शिलान्यास, लोकार्पण करने रुद्रपुर पहुंचे सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जिले में हो रहे विकास कार्यों को गिनाया. सीएम ने कहा कि ऊधम सिंह नगर के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि पंतनगर एयरपोर्ट है. जिसे सरकार इंटरनेशनल दर्जे का एयरपोर्ट बनाने का निर्णय ले चुकी है.

गंभीर मरीजों के लिए जरूरी है हॉस्पिटल

कोरोना के सामान्य मरीजों को डॉक्टरों की सलाह पर आइसोलेट किया जा रहा है. लेकिन गंभीर मरीजों को लिए अस्पताल जरूरी है. आने वाले समय में कोरोना की स्थिति और गंभीर हो सकती है. ऐसे में भविष्य के लिए नया अस्पताल राहत की बात है.

लगातार बढ़ रही है मरीजों संख्या

राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. मरीजों की संख्या साढ़े छह हजार को पार कर चुकी है. जिसमें ऊधम सिंह नगर में 1200 से ज्यादा और नैनीताल में 1000 से ज्यादा मरीज शामिल हैं. ऐसे में नया कोविड हॉस्पिटल भविष्य में मरीजों को राहत देगा.

रुद्रपुर में चेकिंग के दौरान सामने आया CPU जवान का खौफनाक चेहरा, युवक के माथे में चाबी घोंप किया लहूलुहान

 सीपीयू के एक सब इंस्पेक्टर समेत दो कांस्टेबल को तुरंत सस्पेंड कर दिया. (Demo Pic)

ऊधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar ) के रुद्रपुर में रोड चैकिंग के दौरान सिटी पेट्रोल यूनिट (City Patrol Unit Constable) के जवान द्वारा एक युवक के सिर पर चाबी घोंपने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. इसके बाद इलाके में जमकर बवाल मचा और हालात को काबू करने के लिए पुलिस को लोगों पर लाठियां भांजनी पड़ी.

SHARE THIS:
ऊधम सिंह नगर. उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर जिले (Udham Singh Nagar District) में पुलिस के एक जवान ने एक ऐसी कारगुजारी की है, जिसकी तरफ निंदा हो रही है. रुद्रपुर में रोड चेकिंग के दौरान सिटी पेट्रोल यूनिट यानी सीपीयू के जवान ने एक युवक के माथे पर चाबी घोंप दी, जिसके बाद बवाल हो गया. लोगों ने रुद्रपुर कोतवाली को घेर लिया. बवाल बढ़ता देख पुलिस को भी लोगों पर लाठियां भांजनी पड़ी. जबकि डीजी लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार (DG Law and Order Ashok Kumar) को जैसे ही मामले की सूचना लगी, तो उन्होंने एसएसपी ऊधम सिंह नगर को आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए. एसएसपी दलीप सिंह कुंवर (Dalip Singh Kunwar) के मुताबिक, उन्होंने सीपीयू के एक सब इंस्पेक्टर समेत दो कांस्टेबल को तुरंत सस्पेंड कर दिया है और मामले की जांच एसपी क्राइम को दी गई है.

क्या था मामला?
रुद्रपुर के इंदिरा चौक इलाके में सीपीयू की टीम सब इंस्पेक्टर राम परवीन, कांस्टेबल देवेंद्र चौहान और जगदीश जोशी चैकिंग कर रहे थे. इसी दौरान रमपुरा निवासी दीपक और प्रेम प्रकाश बाइक में वहां से निकल रहे थे. दोनों ने हेलमेट नहीं पहना हुआ था, जिसके चलते सीपीयू कर्मचारियों ने इन्हें रोका. इस बात पर दोनों युवक पुलिस वालों से उलझ पड़े. इसी दौरान पुलिस जवानों और दोनों युवकों के बीच हाथापाई भी हुई. आरोप है कि इसी दौरान एक सीपीयू कर्मचारी ने दीपक नाम के लड़के के सिर पर बाइक की चाबी से हमला कर दिया और चाभी दीपक के माथे में धंस गई, जिससे दीपक लहूलुहान हो गया. मामले की सूचना जैसे ही दीपक के घरवालों को लगी तो वो मौके पर पहुंच गए. इसक बाद वहां जमा हुई भीड़ ने कई पुलिस कर्मियों के साथ मारपीट भी की. यही नहीं, इसके बाद भीड़ ने रुद्रपुर कोतवाली को घेर लिया, जिसके बाद पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा.

विधायक ठुकराल ने मौके पर पहुंच संभाला मोर्चा
पुलिस और लोगों के बीच टकराव की खबर जैसे ही विधायक राजकुमार ठुकराल को लगी वो मौके पर पहुंचे. उन्होंने मामले को शांत कराया और गुस्साए लोगों को पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का भरोसा दिया, जिसके बाद बवाल शांत हुआ.

एसएसपी ने किया सस्पेंड
ऊधम सिंह नगर के एसएसपी दलीप सिंह कुंवर ने बताया कि जिस सीपीयू टीम पर आरोप लगे हैं उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है, जिसमें सब इंस्पेक्टर राम परवीन, कांस्टेबल देवेंद्र चौहान और जगदीश जोशी शामिल हैं. एसएसपी ने कहा कि पूरे घटनाक्रम की जांच की जाएगी. ​

याद्दाश्त पर सवाल उठाने वाले डीएम के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएंगे बीजेपी विधायक, स्पीकर को लिखी चिठ्ठी

विधायक राजेश शुक्ला ने विधानसभा अध्यक्ष को एक चिठ्ठी लिखी है जिसमें डीएम के व्यवहार की शिकायत की गई है.

रुद्रपुर के विधायक राजकुमार ठुकराल भी तत्कालीन SSP के ख़िलाफ़ विशेषाधिकार हनन का नोटिस देने की बात कर रहे हैं.

SHARE THIS:
ऊधम सिंह नगर. ​ऊधम सिंह नगर ज़िले की किच्छा विधानसभा से बीजेपी विधायक राजेश शुक्ला और ज़िले के डीएम नीरज खैरवाल के बीच उठा विवाद बढ़ता जा रहा है. विधायक शुक्ला ने विधानसभा अध्यक्ष को एक चिठ्ठी लिखी है. जिसमें डीएम के व्यवहार की शिकायत की गई है. साथ ही आने वाले विधानसभा सत्र में डीएम के खिलाफ विशेषाकाधिकार हनन का मामला लाने की बात लिखी है. इसके बाद पिछले हफ़्ते का यह मामला फिर तूल पकड़ गया है.

विधायक जी आपकी यादाश्त ठीक नहीं है  

17 जुलाई को ऊधम सिंह नगर ज़िले में प्रभारी मंत्री मदन कौशिक रुद्रपुर में अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के साथ एक बैठक कर रहे थे. इसमें बीजेपी विधायक राजेश शुक्ला ने अधिकारियों और विशेषकर ज़िलाधिकारी के काम करने के तरीके पर सवाल उठाते हुए कहा था कि उनकी विधानसभा में कोई काम नहीं हो रहे. उन्होंने ज़िले की खराब स्वास्थ्य व्यवस्था का भी मुद्दा उठाया था. प्रभारी मंत्री के सामने विधायक शुक्ला ने यहां तक कह डाला था कि सरकार का कोई माई-बाप नहीं है और सरकारी अधिकारी उनकी कोई बात नहीं सुनते.

विधायक शुक्ला के मुताबिक वो अपनी विधानसभा की खराब सड़कों और ज़िले की स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर अपनी शिकायत रख रहे थे. इसी दौरान डीएम नीरज खैरवाल ने विकास कार्य होने की बात करते हुए विधायक जी की यादाश्त पर सवाल उठा दिए. शुक्ला के मुताबिक डीएम ने कहा, "विधायक जी आपकी यादाश्त ठीक नहीं है. आपकी विधानसभा में बहुत विकास कार्य हुए हैं."

डीएम की ये बात सुनते ही विधायक शुक्ला का पारा चढ़ गया और वह बैठक से उठकर चलते बने. हालांकि प्रभारी मंत्री मदन कौशिक ने उन्हें रोकने की कोशिश की लेकिन विधायक नहीं माने और बैठक अधूरी छोड़ बीच में ही चलते बने.

जनप्रतिनिधियों की बात सुननी चाहिए

बाद में मंत्री मदन कौशिक ने विधायक की नाराज़गी को ठीक करार देते हुए कहा था कि अधिकारियों को जन प्रतिनिधियों की बात सुननी चाहिए और उसका सकारात्मक समाधान निकालना चाहिए. तब से यह विवाद सुलझने का नाम नहीं ले रहा और आज विधायक की विधानसभा अध्यक्ष को चिट्ठी से इसके और तूल पकड़ने की संभावना है.

किच्छा से विधायक राजेश शुक्ला अपनी ही सरकार में बार-बार धरने दे रहे हैं. सबसे पहले विधायक शुक्ला किच्छा शुगर मिल फिर पंतनगर यूनिवर्सिटी और फिर सीएमओ दफ्तर के सामने धरना दे चुके हैं. साथ ही रुद्रपुर-किच्छा को जोड़ने वाली सड़क की मरम्मत को लेकर भी विधायक ने सीएम आवास के बाहर धरने की चेतावनी दे चुके हैं.

दूसरे बीजेपी विधायक भी हैं नाराज़

वैसे ऊधम सिंह नगर ज़िले में जन प्रतिनिधियों की सरकारी अधिकारियों को लेकर नाराज़गी कोई नई बात नहीं है. तकरीबन आठ महीने पहले कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य भी एक सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान डीएम पर अपनी नाराज़गी ज़हिर कर चुके हैं. उस कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री पहले पहुंच गए थे और उसके आधे घंटे बाद डीएम साहब कार्यक्रम में पहुंचे.

आधा घंटे तक डीएम का इंतज़ार करने से यशपाल आर्य को भी गुस्सा आ गया था वह सार्वजनिक रूप से कहते हुए सुने गए थे कि प्रोटोकॉल का ध्यान रखिए.

इसके अलावा लॉकडाउन के दौरान रुद्रपुर के विधायक राजकुमार ठुकराल के दो गनर तत्कालीन एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने हटा लिए गए थे जिसका विधायक ठुकराल ने कड़ा विरोध किया था. ठुकराल भी तत्कालीन एसएसपी के ख़िलाफ़ विशेषाधिकार हनन का नोटिस देने की बात कर रहे हैं. इसके अलावा रुद्रपुर नगर निगम के आयुक्त के खिलाफ बीजेपी पार्षद सार्वजनिक रूप से इस्तीफा तक दे चुके हैं.

DM पर भड़के BJP विधायक, कैबिनेट मंत्री की मीटिंग छोड़ चलते बने...

ऊधम सिंह नगर में मीटिंग के दौरान डीएम शैलेंद्र सिंह नेगी से किच्छा विधायक की नोकझोंक हो गई

भाजपा विधायक बोले- सरकार का कोई माई-बाप नहीं होता और सरकारी अधिकारी उनकी कोई बात नहीं सुनते. विधायक के मुताबिक वो बैठक में खराब सड़कों और जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर शिकायत रख रहे थे लेकिन डीएम नीरज खैरवाल ने उनकी यादाश्त पर ही सवाल उठाने शुरु कर दिए.

SHARE THIS:
ऊधमसिंह नगर. उत्तराखंड के बीजेपी विधायकों की सरकारी अधिकारियों के प्रति शिकायतें सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) के आदेशों के बावजूद कम नहीं हो रहीं हैं. ताजा मामला ऊधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar) का है जहां एक मीटिंग के दौरान डीएम नीरज खैरवाल से किच्छा विधायक की नोकझोंक हो गई.

नौकरशाही का विरोध
2022 का विधानसभा चुनाव (2022 Assembly Election) जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, बीजेपी के विधायक खुलेआम नौकरशाही का विरोध करने लगे हैं. शुक्रवार को ऊधम सिंह नगर जिले में प्रभारी मंत्री मदन कौशिक (Madan Kaushik) की बैठक में किच्छा से बीजेपी विधायक राजेश शुक्ला अधिकारियों और विशेषकर जिलाधिकारी पर बरस पड़े. प्रभारी मंत्री के सामने विधायक शुक्ला ने गुस्से में कहा कि सरकार का कोई माई-बाप नहीं होता और सरकारी अधिकारी उनकी कोई बात नहीं सुनते.

विधायक शुक्ला के मुताबिक वो बैठक में अपनी विधानसभा की खराब सड़कों और जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर अपनी शिकायत रख रहे थे लेकिन जिले के डीएम नीरज खैरवाल ने विधायक जी की यादाश्त पर ही सवाल उठाने शुरु कर दिए. शुक्ला के मुताबिक डीएम ने कहा कि विधायक जी आपकी यादाश्त ठीक नहीं है. आपके विधानसभा क्षेत्र में बहुत से विकास कार्य हुए हैं.

डीएम की ये बात सुनते ही विधायक जी का पारा चढ़ गया और वो बैठक से उठकर चलते बने. हालांकि प्रभारी मंत्री मदन कौशिक ने उन्हें रोकने की कोशिश की लेकिन विधायक शुक्ला नहीं माने. हालांकि बाद में मंत्री मदन कौशिक ने विधायक की नाराजगी को ठीक करार देते हुए कहा कि अधिकारियों को जन प्रतिनिधियों की बात सुननी चाहिए और उसका सकारात्मक समाधान निकालना चाहिए.

ये भी पढ़ें- लोकभवन के सामने मां-बेटी के आत्मदाह मामले में अखिलेश यादव बोले-भाजपा सरकार में गरीबों की कोई सुनवाई नहीं


लगातार धरने दे रहे हैं विधायक शुक्ला

किच्छा से विधायक राजेश शुक्ला अपनी ही पार्टी की सरकार होने के दौरान बार-बार धरना देने पर मजबूर हैं. चाहे बात शुगर मिल में किसानों के भुगतान की हो या पंतनगर यूनिवर्सिटी से डेली वेज कर्मचारियों को निकालने का मुद्दा हो या सिफारिश के बाद भी महिला को इलाज न मिलने को लेकर नाराजगी हो, विधायक शुक्ला धरने पर बैठ चुके हैं. इसी तरह रुद्रपुर-किच्छा को जोड़ने वाली सड़क की मरम्मत को लेकर भी विधायक ने सीएम आवास के बाहर धरने की चेतावनी दी है.

कांग्रेस ने बोला सरकार पर हमला
बीजेपी विधायक राजेश शुक्ला के गुस्से ने कांग्रेस (Congress) को भी सरकार के कामकाज पर सवाल उठाने का मौका दे दिया है. तराई के कद्दावर कांग्रेस नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री तिलकराज बेहड़ ने कहा है कि जब बीजेपी सरकार में अपने विधायकों की ही सुनवाई नहीं हो रही है तो फिर आम लोगों का क्या हाल होगा. बेहड़ ने कहा कि जनता को सोचना होगा कि 2022 में ऐसे विधायक न चुनें जो लोगों के काम अपनी सरकार होते हुए भी नहीं करा पा रहे हों और रोने-धोने और धरना-प्रदर्शन का नाटक कर जनता को बरगला रहे हों.

पंतनगर यूनिवर्सिटी में बने Quarantine Center से चार युवक फरार, तलाश में जुटी पुलिस

चार युवक हॉस्टल के कमरों की जाली काट फरार हो गए.

गुरुवार को पंतनगर यूनिवर्सिटी के क्‍वारंटाइन सेंटर से चार युवक फरार हो गए. लापरवाही की बात ये है कि चारों कोरोना के दूसरे प्रदेशों के रेड जोन (Red zone) से आए थे.

SHARE THIS:
ऊधम सिंह नगर. उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar) में बने क्‍वारंटाइन सेंटर्स (Quarantine Centers) लगातार सवालों के घेरे में हैं. जिले में न तो क्‍वारंटाइन सेंटर्स में महिलाएं सुरक्षित हैं और न ही सेंटर्स में सुरक्षा के कोई इंतजाम हैं. गुरुवार को पंतनगर यूनिवर्सिटी के क्‍वारंटाइन सेंटर से चार युवक फरार हो गए. लापरवाही की बात ये है कि चारों कोरोना के दूसरे प्रदेशों के रेड जोन (Red zone) से आए थे. इसीलिए इन्हें कोरोना का संदिग्ध मानते हुए क्‍वारंटाइन किया गया था, लेकिन गुरुवार को तीन युवक पंतनगर यूनिवर्सिटी  के टैगोर हॉस्टल और एक युवक इंटरनेशनल गेस्ट हाउस से फरार हो गया और पुलिस (Police)हाथ मलते रह गई. हैरानी की बात ये है कि युवक गुरुवार तड़के गायब हुए और चारों युवकों की सूचना पुलिस को दोपहर में लगी. जबकि अब पुलिस चारों की खोज में अंधेरे में तीर चला रही है.

कमरों की जाली काट फरार
बताया जा रहा है कि चारों हॉस्टल के कमरों की जाली काट फरार हो गए, जिसमें से एक युवक का आपराधिक रिकॉर्ड भी है. क्‍वारंटाइन सेंटर के नोडल अधिकारी और पुलिस के एसपी जगदीश चद्रा ने चारों युवकों के फरार होने की पुष्टि करते हुए कहा कि टीमें बनाकर तलाश की जा रही है. जल्द ही गिरफ्तारी हो जाएगी. जबकि चारों युवक किच्छा के रहने वाले हैं.

ये भी पढ़ेंपहाड़ों में बारिश से अचानक उफनी कोसी... गाड़ी को ऐसे निकाला वनकर्मियों ने

यूनिवर्सिटी के क्‍वारंटाइन सेंटर में महिला से हो चुकी है छेड़खानी
आपको बता दें कि 19 जून को पंतनगर यूनिवर्सिटी में ही क्‍वारंटाइन की गई दिनेशपुर की एक युवती के साथ छेड़खानी की कोशिश की गई. बगल की बिल्डिंग में क्‍वारंटाइन किया गया एक युवक आधी रात को युवती के कमरे में घुस आया और अश्लील हरकतें करने लगा, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार किया था.

क्‍वारंटाइन सेंटर में पुलिस वाला कर चुका है रेप की कोशिश
यही नहीं, 25 मई को ऊधम सिंह नगर जिले के किच्छा क्‍वारंटाइन सेंटर से बड़ी घटना सामने आई थी, जहां क्‍वारंटाइन सेंटर में तैनात सिपाही ने क्‍वारंटाइन की गई महिला से रेप की कोशिश की थी. मामला किच्छा के सूरजमल कॉलेज में बने क्‍वारंटाइन सेंटर का था. हैरानी की बात ये है कि सिपाही महिला को दूसरी जगह शिफ्ट करने के बहाने दीवार फांदकर कॉलेज की दूसरी बिल्डिंग में ले गया और वहां जबर्दस्ती करने लगा. महिला के शोर मचाने पर पुलिस कर्मी को लोगों ने पकड़ लिया, जिसके बाद आरोपी पुलिस कर्मी के खिलाफ रेप के धाराओं में मुकदमा दर्ज कर बर्खास्त कर दिया गया था. जबकि ड्यूटी में तैनात दूसरे सिपाही पर शराब पीकर ड्यूटी करने के आरोप में निलंबित कर दिया गया था.

बेवफा बीबी! पहले पति को बीयर में दी नशे की गोलियां, फिर प्रेमी से चलवा दी गोली 

महिला ने पति की बीयर में नशे की गोलियां मिला दी

मृतक की पत्नी ने पति को बीयर में नशे की गोलियां देने के बाद दरवाजा खुला छोड़ दिया और रात में ही प्रेमी को बुला लिया.

SHARE THIS:
ऊधम सिंह नगर. उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर जिले के रुद्रपुर से ऐसा मामला सामने आया है जिससे पति-पत्नी के रिश्ते से भरोसा उठ सकता है. यहां एक पत्नी (Wife) ने अपने प्रेमी के साथ मिल पति की हत्या (Murder) कर डाली. और हत्या की पूरी पटकथा भी खुद ही लिखी. शनिवार रात पत्नी ने पहले पति को बीयर पिलाई और उसमें नींद की गोलियां खिला दी. जिससे वो बेहोश हो गया और रात को ही प्रेमी और उसके दोस्तों ने घर में घुसकर बेहोश शख्स को गोली मार दी.

ऐसे लिखी हत्या की कहानी

ट्रांजिट कैंप थानेदार विद्यादत्त जोशी ने बताया कि समीर विश्वास अरविंद नगर वार्ड नंबर तीन ट्रांजिट कैंप में रहता था. शुक्रवार देर रात समीर विश्वास की घर में सोते वक्त तमंचे से गोली मारकर हत्या कर दी गई. पुलिस ने मामले में पड़ताल शुरू की. पुलिस ने समीर की पत्नी, विश्वजीत राय निवासी गूलरभोज थाना गदरपुर, शिबू अधिकारी निवासी चंदनगढ़ और महेश सरकार निवासी चंदनगढ़ को गिरफ्तार कर लिया.

आरोपियों ने हत्या की बात कुबूल की

थानेदार जोशी ने बताया कि पूछताछ में आरोपियों ने हत्या की बात कुबूल की. साफ हुआ कि मृतक की पत्नी और विश्वजीत का प्रेम प्रसंग चल रहा था. मृतक की पत्नी के कहने पर विश्वजीत अपने दो साथियों संग देर रात समीर के घर पहुंचा और उसे गोली मार दी. मृतक की पत्नी ने पति को बीयर में नशे की गोलियां देने के बाद दरवाजा खुला छोड़ दिया और रात में ही प्रेमी को बुला लिया.

पत्नी के व्यवहार को लेकर पहले हुई थी पंचायत

प्रेमी अपने साथियों के साथ आया और गोली मारकर फरार हो गया. मृतक समीर के घरवालों ने बताया कि पत्नी के व्यवहार को लेकर पहले पंचायत भी की गई. लेकिन वो नहीं मानी और बेटे को मार डाला. एसएसपी ऊधम सिंह नगर बरिंदर जीत सिंह ने पूरी वारदात का खुलासा करने वाली टीम को ईनाम का एलान किया है. (ऊधम सिंह नगर से शैलेंद्र नेगी की रिपोर्ट)
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज