Home /News /uttarakhand /

महाराणा प्रताप की वीरगाथाएं सुनकर जोश से फड़क उठती हैं भुजाएं: त्रिवेंद्र

महाराणा प्रताप की वीरगाथाएं सुनकर जोश से फड़क उठती हैं भुजाएं: त्रिवेंद्र

    मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत बुधवार को सितारगंज, उधमसिंह नगर में बारह राणा स्मारक समिति के वार्षिकोत्सव में सम्मिलित हुए. इस अववर पर उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप देश के ऐसे सेनानी एवं राजा हुए है जिन्होंने विदेशी सत्ता के खिलाफ अपनी आन, बान, शान और देशभक्ति की अमिट छाप छोडी. महाराना प्रताप की वीरगाथाएं एवं देश भक्ति सभी के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं.

    मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराणा प्रताप का जन्म सन् 1540 में हुआ वह मात्र 57 वर्ष की उम्र तक जीवित रहे. उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप के विशाल व्यक्तित्व, देश भक्ति के जज़्बे व वीरगाथाओं को सुनकर आज भी भुजाएं जोश से फडक उठती हैं.

    महाराणा प्रताप ऐसे वीर योद्धा थे जिन्होंने विदेशी आक्रमणकारियों की अधीनता स्वीकार नहीं की और आजन्म दुश्मनों से लोहा लेते रहे. उन्होंने देश की रक्षा के लिए सोने की थाली का भोजन, कोमल बिस्तर को त्यागकर जंगलों में रहकर घास की रोटियां खाकर जीवन बिताया किन्तु विदेशियों के आगे सिर नहीं झुकाया.

    रावत ने कहा उनके वंशज आज भी हजारों की संख्या में तराई में वास करते हुए महाराणा प्रताप की देश भक्ति की परम्परा को निभा रहे हैं. उन्होंने राणा प्रताप के वीर वंशजो को नमन व प्रणाम किया. उन्होंने कहा हल्दी घाटी के प्रसंग की याद आते ही महाराणा प्रताप के वीर घोडा चेतक की याद भी स्वाभाविक रूप से आ जाती है. जिसने अपने स्वामी के प्रति समर्पित होकर राणा प्रताप को दुश्मनों के चंगुल से छुड़ाकर स्वयं वीरगति को प्राप्त हो गया. राणा प्रताप पशुओं के प्रति अगाध प्रेम रखते थे.

    इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने बारह राणा स्मारक समिति के प्रवेश द्वार पर वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की चेतक पर सवार पीतल से निर्मित भव्य प्रतिमा पर श्रद्धांसुमन अर्पित किए. उन्होंने कहा यह प्रतिमा राणा प्रताप के विशाल व्यक्तित्व की गाथा उजागर कर रही है.

    इसके बाद रावत ने लिंगनाथ मन्दिर के दर्शन के बाद मां सरस्वती एवं बारह राणा स्मारक के संस्थापक बाला साहब के चित्र पर दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया.

    बारह राणा स्मारक समिति के अध्यक्ष श्रीपाल राणा ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया. उन्होंने स्मारक के स्थापना एवं महाराणा प्रताप के जीवन गाथा पर विस्तार से प्रकाश डाला. सेवा प्रकल्प संस्थान के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश पाण्डे ने वनवासी जनजाति समाज का गौरवशाली इतिहास की जानकारी दी. स्मारक समिति की ओर से रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये. कार्यक्रम के उपरान्त मुख्यमंत्री रावत बारह राणा स्मारक छात्रावास के छात्रों से भी मुलाकात किए.

    इस मौके पर विधायक डॉक्टर प्रेम सिंह राणा, पुष्कर सिंह धामी समेत जिलाधिकारी डॉक्टर नीरज खैरवाल, एसएसपी डॉक्टर सदानंद दाते सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे.

     

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर