• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • उत्तराखंड: BJP प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को चुनौती भरा होगा खुद चुनाव लड़ना, ये है वजह

उत्तराखंड: BJP प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को चुनौती भरा होगा खुद चुनाव लड़ना, ये है वजह

मदन कौशिक आगामी विधानसभा चुनावों को अपने लिए बहुत बड़ी चुनौती नहीं मानते हैं.

मदन कौशिक आगामी विधानसभा चुनावों को अपने लिए बहुत बड़ी चुनौती नहीं मानते हैं.

Uttarakhand Assembly Election 2022: मदन कौशिक अब तक चार बार विधायक चुने जा चुके हैं. इस बार मदन कौशिक बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं, लिहाजा उनके सामने चुनौती भी दोहरी है. इस बार हरिद्वार में मदन कौशिक गुट के ही कुछ बीजेपी नेता टिकट की दावेदारी कर रहे हैं.

  • Share this:

    पुलकित शुक्ला

    हरिद्वार. उत्तराखंड 2022 के विधानसभा चुनाव (Assembly Election) बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक (Madan Kaushik) के लिए बड़ी चुनौती बनने जा रहे हैं. एक तरफ बतौर प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को प्रदेश की 70 विधानसभाओं पर संगठन को मजबूती देनी है, वहीं हरिद्वार सीट पर बीजेपी के ही कुछ नेता टिकट की दावेदारी के लिए तैयार हैं. राज्य गठन के बाद से अब तक हरिद्वार नगर विधानसभा सीट पर मदन कौशिक लगातार जीतते चले आ रहे हैं.

    मदन कौशिक अब तक चार बार विधायक चुने जा चुके हैं. इस बार मदन कौशिक बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं, लिहाजा उनके सामने चुनौती भी दोहरी है. इस बार हरिद्वार में मदन कौशिक गुट के ही कुछ बीजेपी नेता टिकट की दावेदारी कर रहे हैं. हालांकि अभी खुलकर कोई कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं है, लेकिन दबी जुबान में बीजेपी नेता कह रहे हैं कि प्रदेश अध्यक्ष को चुनाव लड़कर एक सीट पर सीमित नहीं रहना चाहिए.

    हरिद्वार के पूर्व मेयर मनोज गर्ग और रानीपुर विधानसभा प्रभारी आशुतोष शर्मा ने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा कि मदन कौशिक प्रदेश के बड़े नेता हैं. अच्छा होगा कि पार्टी उनके अनुभव का लाभ ले. प्रदेश अध्यक्ष को एक सीट पर सीमित नहीं रहना चाहिए. हालांकि पार्टी जिस को भी मौका देगी बीजेपी का हर कार्यकर्ता उस कैंडिडेट को जिताने के लिए दिन रात एक करेगा.

    मदन नहीं मानते चुनौती

    मदन कौशिक आगामी विधानसभा चुनावों को अपने लिए बहुत बड़ी चुनौती नहीं मानते हैं. उनका कहना है कि वे अपनी विधानसभा सीट के साथ-साथ प्रदेश की दूसरी सीटों पर पार्टी के चुनाव अभियान को तेज करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. पार्टी 2022 के चुनावों के लिए 60 प्लस का टारगेट लेकर चल रही है.

    2017 में अजय भट्ट नहीं जीत पाए थे सीट

    चुनाव के मद्देनजर बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही राजनीतिक दल अपने अपने कैंडिडेट सेलेक्शन के लिए फूंक-फूंक कर कदम रख रहे हैं. साल 2017 में बीजेपी को अच्छा खासा बहुमत मिलने के बावजूद प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट अपनी सीट नहीं बचा पाए थे. ऐसे में पार्टी अब अपनी रणनीति बदलने पर विचार कर सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज