होम /न्यूज /उत्तराखंड /उत्तराखंड: नतीजों के पहले ही प्रत्याशियों का भितरघातियों पर निशाना, जानें यमुनोत्री में किसने दी BJP को दगा

उत्तराखंड: नतीजों के पहले ही प्रत्याशियों का भितरघातियों पर निशाना, जानें यमुनोत्री में किसने दी BJP को दगा

यमुनोत्री विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी केदार सिंह रावत ने अपनी ही पार्टी के सहयोगियों पर चुनाव में उनके खिलाफ काम करने का आरोप लगाया है.

यमुनोत्री विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी केदार सिंह रावत ने अपनी ही पार्टी के सहयोगियों पर चुनाव में उनके खिलाफ काम करने का आरोप लगाया है.

Uttarakhand election: यमुनोत्री विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी केदार सिंह रावत ने अपनी ही पार्टी के सहयोगियों पर चुनाव ...अधिक पढ़ें

देहरादून. उत्तराखंड विधानसभा चुनाव (Uttarakhand assembly elections) के लिए वोटिंग हो चुकी है, लेकिन परिणाम आने के पहले ही कुछ प्रत्याशी पार्टी के भीतर ही भितरघात करने वालों पर निशाना साधने लगे हैं. यमुनोत्री सीट से भाजपा प्रत्याशी केदार सिंह रावत भी शनिवार को उन नेताओं की सूची में शामिल हो गए जिन्होंने अपनी ही पार्टी के सहयोगियों पर चुनाव में उनके खिलाफ काम करने का आरोप लगाया है. रावत ने अपनी जीत का भरोसा जताते हुए कहा कि अगर कुछ पार्टी पदाधिकारी उनके खिलाफ काम नहीं करते तो जीत का अंतर और बड़ा हो सकता था.

केदार सिंह रावत ने संवाददाताओं से कहा, ‘मतदाता भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में थे, खासतौर पर पहाड़ों में. लेकिन जहां तक मेरी सीट का सवाल है तो पार्टी के भीतर ही पद रखने वाले लोगों ने उसके हित के खिलाफ काम किया, नहीं तो जीत का अंतर और बड़ा हो सकता है. हालांकि, इसके बावजूद थोड़े कम अंतर से पार्टी इस सीट पर जीत जाएगी.’ रावत ने किसी भी पार्टी पदाधिकारी का नाम बताने से इनकार कर दिया जिन्होंने कथित तौर पर उनके खिलाफ काम किया था. उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर वह पदाधिकारियों के नाम का खुलासा पार्टी मंच से ही कर देंगे.

गौरतलब है कि 70 सदस्यीय उत्तराखंड विधानसभा के लिए 14 फरवरी को मतदान हुआ था और नतीजे 10 मार्च को आएंगे. हरिद्वार के लक्सर सीट से तीसरी बार अपना भाग्य आजमा रहे भाजपा विधायक एवं प्रत्याशी संजय गुप्ता ने मतदान के एक दिन बाद ही इस तरह का आरोप लगाया था. उन्होंने एक वीडियो संदेश में भाजपा की उत्तराखंड इकाई के अध्यक्ष मदन कौशिश और उनके लोगों पर बसपा प्रत्याशी का समर्थन करने और उन्हें हराने की योजना बनाने का आरोप लगाया था.

काशीपुर से विधायक हरभजन सिंह चीमा ने भी पार्टी कार्यकर्ताओं पर इसी तरह का आरोप लगाया था जिनके बेटे त्रिलोक सिंह चीमा को उनके अनुरोध पर पार्टी ने इस सीट से प्रत्याशी बनाया है. देहरादून छावनी सीट से भाजपा प्रत्याशी सविता कपूर और चंपावत विधायक कैलाश चंद्र गहतोड़ी ने भी इसी तरह का आरोप लगाया था.

Tags: Kedar Singh Rawat, Uttarakhand Assembly Elections, Uttarakhand BJP

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें