पिरूल से तारपीन ऑयल और कचरे से बायोफ़्यूल बनेगा, एमओयू जल्द

News18India
Updated: September 13, 2017, 4:25 PM IST
पिरूल से तारपीन ऑयल और कचरे से बायोफ़्यूल बनेगा, एमओयू जल्द
News18India
Updated: September 13, 2017, 4:25 PM IST
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की उपस्थिति में बुधवार को सीएम आवास में उत्तराखण्ड सरकार और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ पेट्रोलियम (आईआईपी) के मध्य पिरूल से तारपिन ऑयल और उसके कचरे से बायोफ्यूल तैयार करने के लिए सैद्धांतिक सहमति बनी.

मुख्यमंत्री के अनुसार इसके लिए शीघ्र ही एमओयू किया जाएगा. एमओयू में मुख्य सचिव एस.रामास्वामी एवं निदेशक आईआईपी डॉक्टर अंजन रे हस्ताक्षर करेंगे.

राज्य के आठ पहाड़ी जिलों अल्मोड़ा, चमोली, नैनीताल, पौड़ी, रूद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, टिहरी एवं उत्तरकाशी में पिरूल के कलेक्शन सेंटर स्थापित किए जाएंगे. पिरूल एकत्रित करने वालों को इंसेटिव भी दिया जाएगा.

इसके लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा. तारपिन ऑयल एवं बायोफ्यूल का औद्योगिक क्षेत्र में भी प्रयोग किया जा सकेगा.

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि यह वेस्ट को बेस्ट में परिवर्तित करने का एक प्रयास है. इससे गर्मियों में पिरूल के जंगलों में वनाग्नि से बचाव होगा. जंगल एवं जीव जन्तुओं का भी संरक्षण होगा.

उन्होंने कहा कि प्रारम्भिक चरण में रोज़ 40 टन पाइन निडिल की आवश्यकता पड़ेगी, जिसे पंचायतों एवं गांवों से खरीदा जाएगा. इससे जहां सरकार को राजस्व प्राप्त होगा, वहीं स्थानीय लोगों को बेहतर रोजगार भी मिलेगा. उद्योगपति महेश मर्चेन्ट ने बताया कि इसके लिए शीशमबाड़ा में प्लान्ट बनाना प्रस्तावित है.

इस अवसर पर मुख्य कार्यकारी अधिकारी उत्तराखण्ड स्टेट सेन्टर फॉर पब्लिक एंड गुड गवर्नेन्स उमाकांत पंवार, सचिव मुख्यमंत्री राधिका झा भी उपस्थित थे.

 
News18 Hindi पर Bihar Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Uttarakhand News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर