Home /News /uttarakhand /

नई बसें खरीदने में लगे उत्तराखंड रोडवेज के पास नहीं हैं पर्याप्त चालक

नई बसें खरीदने में लगे उत्तराखंड रोडवेज के पास नहीं हैं पर्याप्त चालक

बसें तो खरीद रहा उत्तराखंड परिवहन निगम लेकिन चालक कहां हैं: File Photo

बसें तो खरीद रहा उत्तराखंड परिवहन निगम लेकिन चालक कहां हैं: File Photo

उत्तराखंड परिवहन निमग भले ही करोड़ों रुपये की लागत से सैकड़ों नये बसों की खरीदारी कर रहा है. मगर अब बसों के संचालन को लेकर निगम के सामने चुनौती खड़ी हो रही है. उत्तराखंड परिवहन निगम 100 करोड़ रुपये का लोन लेकर 483 नई बसों की खरीदारी कर रहा है, जिसमें 283 बसों को पर्वतीय क्षेत्रों में और 200 बसों को मैदानी क्षेत्रों में चलाने की योजना तैयार की जा रही है. जबकि

अधिक पढ़ें ...
उत्तराखंड परिवहन निमग भले ही करोड़ों रुपये की लागत से सैकड़ों नये बसों की खरीदारी कर रहा है. मगर अब बसों के संचालन को लेकर निगम के सामने चुनौती खड़ी हो रही है. उत्तराखंड परिवहन निगम 100 करोड़ रुपये का लोन लेकर 483 नई बसों की खरीदारी कर रहा है, जिसमें 283 बसों को पर्वतीय क्षेत्रों में और 200 बसों को मैदानी क्षेत्रों में चलाने की योजना तैयार की जा रही है. जबकि निगम के पास पर्याप्त चालक नहीं हैं.

दरअसल परिवहन निगम में 1704 चालकों के स्वीकृति पद है, जिसमें 725 पद रिक्त चल रहे हैं. जबकि 150 चालक अक्षम घोषित हो चुके हैं. इस तरह से कुल कमी 875 चालकों की हो चुकी है. हाल में विभाग ने 300 चालकों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू की. मगर संविदा पर तैनात चालक सुप्रीम कोर्ट की शरण में जाकर 200 पदों पर स्टे ले लिया. यानी भर्ती प्रक्रिया पर विराम लग गया. जबकि विभाग में 850 चालक संविदा पर तैनात है . अब 483 नई बसें आ रही है ऐसे में चालकों की कमी निगम पर भारी पड़ सकती है. मगर परिवहन मंत्री का कहना है कि नई बसों से पुरानी बसों से रिप्लेस किया जा रहा है. इससे विभाग पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

दरअसल एक बस की लाइफ आठ साल होती है. इस दौरान एक बस आठ लाख किलोमीटर की दूरी तय करती है. इसके बाद बसों को विभाग से हटा दिया जाता है तो क्या परिवहन निगम बिना निर्धारित समय को पूरा किये ही बसों को हटाने जा रहा है. जबकि सूत्रों का कहना है कि करीब 300 बसें निर्धारित समय को पूरा करने जा रही हैं.

इस तरह से 183 नई बसें फिर भी परिवहन निगम के बेडें में शामिल होगी. वहीं कर्मचारियों का कहना है कि अधिकारियों ने बिना पूरी योजना बनाये ही बसों की खरीददारी कर ली. जबकि चालकों की भारी कमी है और निगम घाटे में भी चल रहा है.

Tags: Uttarakhand news, Uttarakhand Roadways

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर