इलेक्शन इफेक्ट: सचिवालय में दौड़ने लगी मुख्यमंत्री की घोषणाओं की फाइलें

मुख्यमंत्री हरीश रावत की घोषणाओँ को पूरा करने के लिए सचिवालय में फाइलें इधर से उधर दौड़ने लगी हैं. मुख्यमंत्री ने साफ शब्दों में कहा है कि घोषणाओँ को पूरा करने में नौकरशाही हीलाहवाली ना करे. इसको लेकर मुख्यमंत्री का घोषणा सेल भी एक्टिव हो गया है. यहां तक कि स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओँ को एक महीने में पूरी तरीके से अमल में लाने की तैयारी हो रही है.

Faheem Tanha | ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 24, 2016, 12:08 PM IST
इलेक्शन इफेक्ट: सचिवालय में दौड़ने लगी मुख्यमंत्री की घोषणाओं की फाइलें
CM Harish Rawat : File Photo
Faheem Tanha | ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 24, 2016, 12:08 PM IST
मुख्यमंत्री हरीश रावत की घोषणाओँ को पूरा करने के लिए सचिवालय में फाइलें इधर से उधर दौड़ने लगी हैं. मुख्यमंत्री ने साफ शब्दों में कहा है कि घोषणाओँ को पूरा करने में नौकरशाही हीलाहवाली ना करे. इसको लेकर मुख्यमंत्री का घोषणा सेल भी एक्टिव हो गया है. यहां तक कि स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओँ को एक महीने में पूरी तरीके से अमल में लाने की तैयारी हो रही है.

सचिवालय में इन दिनों फाइलें ईधर से उधर तेज़ी से दौड़ रही हैं. इनमें ज्यादातर फाइलें विभागों के बजट और मुख्यमंत्री की घोषणाओं पर काम होने को लेकर हैं. मुख्यमंत्री की तमाम घोषणाओं पर सरकार में काम शुरू हो गया है. हालांकि कई ऐसी घोषणाएँ भी हैं, जिन पर अभीतक काम शुरू नहीं हो पाया है.

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने स्वतंत्रता दिवस पर ही करीब एक दर्जन घोषणाएं की थीं. इन घोषणाओं पर अमल के लिए सीएम ने 20 अगस्त को सचिवालय में लंबी बैठक भी ली थी. मुख्य सचिव शत्रुघ्न सिंह का कहना है कि सीएम की घोषणाओँ को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए काम शुरू कर दिया गया है.

अभी तक राज्य के कुल प्लान बजट से करीब साढ़े पांच हज़ार करोड़ रुपया जारी हो चुका है. इसमें से करीब तीन हज़ार करोड़ रुपया खर्च भी हो चुका है. मुख्यमंत्री की घोषणाओँ को पूरा करने के लिए सभी संबधित विभागों को प्रस्तावित बजट की मंजूरी दी जा रही है.

मुख्यमंत्री ने अभी हाल के दिनों में भी पर्यटन, रोज़गार, समाज कल्याण, पेंशन, शिक्षा और अन्य विभागों में कर्मचारियों से जुड़ी कई घोषणाएँ की हैं. साथ ही इनसे संबधित सरकार के फैसले भी लागू किए जाने हैं. मुख्यमंत्री की घोषणाओँ की जिम्मेदारी संभाल रहे वित्त विभाग के सचिव अमित नेगी कहते हैं कि सीएम की घोषणाओं को लेकर बजट की कोई दिक्कत नहीं आएगी.

बहरहाल चुनावी वर्ष है और चुनावी वर्ष में हरीश रावत कोई मौका विपक्षियों को ऐसा नहीं देना चाहते जिससे ये कहने का मौका मिले की घोषणाएं हवा-हवाई साबित हो रही हैं. देखना होगा कि घोषणाओँ को पूरा करने की लिए हो रही कसरत कितनी कारगर साबित होती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागेश्‍वर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2016, 12:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...