• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • उत्‍तरकाशी के जनता दरबार में आईं 117 शिकायतें

उत्‍तरकाशी के जनता दरबार में आईं 117 शिकायतें

जनता दरबार में समस्‍याएं सुनते मंत्री मदन कौशिक.

जनता दरबार में समस्‍याएं सुनते मंत्री मदन कौशिक.

उत्‍तराखंड सरकार की योजनानुसार उत्तरकाशी में भी शुक्रवार को जनता दरबार का आयोजन किया गया. इसमें जिले के प्रभारी मंत्री मदन कौशिक ने लोगों की समस्‍याएं सुनीं. जनता दरबार में कुल 117 शिकायतें प्राप्त हुईं.

  • Share this:
    उत्‍तराखंड सरकार की योजनानुसार उत्तरकाशी में भी शुक्रवार को जनता दरबार का आयोजन किया गया. इसमें जिले के प्रभारी मंत्री मदन कौशिक ने लोगों की समस्‍याएं सुनीं. जनता दरबार में कुल 117 शिकायतें प्राप्त हुईं. इनमें कुछ का मौके पर निराकरण किया गया और कुछ को संबंधित विभागों को समय सीमा के भीतर निस्तारित करने के लिए निर्देशित किया गया.

    प्रभारी मंत्री के जनता दरबार कार्यक्रम में ज्यादातर शिकायतें बीजेपी संगठन के पदाधिकारियों की ही थीं. नगर पालिका बाराहाट उत्तरकाशी में संविदा पर काम कर रहे 39 कर्मियों को 7 महीने से वेतन नहीं मिल रहा है. इतना ही नहीं, उन्हें निर्धारित वेतन से कम वेतन भी दिया जा रहा है. साथ ही वर्ष में मिलने वाली 12 दिनों की छुट्टियां भी नहीं दी जा रही हैं. उक्त शिकायतों को लेकर जब सफाई कर्मी प्रभारी मंत्री के पास पहुंचे तो मंच पर ही नगर पालिका अध्यक्ष नाराज हो गईं और प्रभारी मंत्री के सामने ही अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को उक्त कर्मचारियों के नाम नोट करने के निर्देश दिए. मीडिया के पूछने पर हालांकि मंत्री ने पालिका अध्यक्ष का बचाव करते हुए ये कहा कि उन्होंने वेतन देने के उद्देश्य से नाम नोट करने के लिए कहा था.

    जनता दरबार के बाद मीडिया से चर्चा में प्रभारी मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि राज्य सरकार की योजना के अनुसार राजधानी देहरादून में प्रतिदिन एक मंत्री जनता से मिलेंगे. इसी तरह अपने विधानसभा क्षेत्र में मंत्री 2 दिन के लिए और प्रभारी मंत्री महीने में 1 दिन अपने जनपद में जनता दरबार लगाएंगे.

    हंगामा करते ग्रामीण.


    ग्रामीणों ने किया हंगामा
    उत्‍तरकाशी नगर पालिका विस्तार के अंतर्गत 16 गांव के ग्रामीण विरोध में कलेक्टर कार्यालय परिसर में धरने पर बैठे हुए हैं. ग्रामीणों को उम्मीद थी कि जनता दरबार के बाद प्रभारी मंत्री मदन कौशिक उनसे मिलने धरना स्थल पर आएंगे, किंतु प्रभारी मंत्री सीधे निरीक्षण भवन चले गए. इससे गुस्साए ग्रामीणों ने डीएम आशीष चौहान का घेराव कर दिया. उन्होंने जनप्रतिनिधियों पर भी जनता से दूर भागने का आरोप लगाया और धरना स्थल पर मंत्री को बुलाने की मांग की.

    बाद में गंगोत्री विधायक गोपाल सिंह रावत ने धरना स्थल पर आकर ग्रामीणों को समझाने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि 10 से 15 लोगों का एक शिष्टमंडल प्रभारी मंत्री से मिल सकता है, क्योंकि धरना स्थल पर कई तरह के लोग मौजूद हैं लिहाजा मंत्री का धरना स्थल पर आना उचित नहीं है, किंतु ग्रामीण अपनी बात पर अड़े रहे और मौके पर ही विरोध में धरने पर नारेबाजी करते रहे.

    (हरीश थपलियाल)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज