विस्थापन का रास्ता देख रहे हैं नंदगांव के 47 परिवार

करीब 14 सालों से टिहरी झील के कारण नंदगांव के 47 परिवार विस्थापन का रास्ता देख रहे हैं. धरना-प्रदर्शन, चक्काजाम से लेकर अधिकारियों और नेताओं के चक्कर काट चुके नंदगांव के ग्रामीण टीएचडीसी और पुर्नवास विभाग की आपसी लड़ाई के बीच पिस रहे हैं.
करीब 14 सालों से टिहरी झील के कारण नंदगांव के 47 परिवार विस्थापन का रास्ता देख रहे हैं. धरना-प्रदर्शन, चक्काजाम से लेकर अधिकारियों और नेताओं के चक्कर काट चुके नंदगांव के ग्रामीण टीएचडीसी और पुर्नवास विभाग की आपसी लड़ाई के बीच पिस रहे हैं.

करीब 14 सालों से टिहरी झील के कारण नंदगांव के 47 परिवार विस्थापन का रास्ता देख रहे हैं. धरना-प्रदर्शन, चक्काजाम से लेकर अधिकारियों और नेताओं के चक्कर काट चुके नंदगांव के ग्रामीण टीएचडीसी और पुर्नवास विभाग की आपसी लड़ाई के बीच पिस रहे हैं.

  • Share this:
करीब 14 सालों से टिहरी झील के कारण नंदगांव के 47 परिवार विस्थापन का रास्ता देख रहे हैं. धरना-प्रदर्शन, चक्काजाम से लेकर अधिकारियों और नेताओं के चक्कर काट चुके नंदगांव के ग्रामीण टीएचडीसी और पुर्नवास विभाग की आपसी लड़ाई के बीच पिस रहे हैं.

कलेक्ट्रेट में सुनवाई न होने के बाद अब ग्रामीणों ने बीपुरम टीएचडीसी कार्यालय में धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया है. यहां टीएचडीसी अपने अड़ियल रवैये के चलते बात सुनने को तैयार नहीं है. वहीं पुर्नवास विभाग विस्थापन के लिए पैसा न होने की बात कह रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज