लाइव टीवी

जल्द ही पुराने रूप में लौटेंगे बाबा केदार

Mukesh Kumar | ETV UP/Uttarakhand
Updated: June 22, 2015, 7:59 PM IST
जल्द ही पुराने रूप में लौटेंगे बाबा केदार
केदारनाथ मंदिर की मरम्मत के मामले में बदरी केदार मंदिर समिति और एएसआई के बीच मतभेद खत्म हो गया है.

केदारनाथ मंदिर की मरम्मत के मामले में बदरी केदार मंदिर समिति और एएसआई के बीच मतभेद खत्म हो गया है.

  • Share this:
केदारनाथ मंदिर की मरम्मत के मामले में बदरी केदार मंदिर समिति और एएसआई के बीच मतभेद खत्म हो गया है.

आपदा के दौरान बहकर आए बोल्डर काटकर पत्थर तराशे जा रहे हैं और मंदिर की दीवारों को मजबूत किया जा रहा है. एएसआई की टीम मंदिर की मजबूती के लिए हर संभव प्रयास कर रही है.

ईटीवी/न्यूज18 के पास ऐसी ही तस्वीरें मौजूद हैं जो यह जाहिर करती हैं कि कैसे बाबा केदार को पुराने स्वरूप में वापस लाने की कवायद हो रही है.

जून 2013 में आई आपदा के बाद केदारनाथ मंदिर की मरम्मत के काम में तीसरे साल तेजी आई है. दो साल से मरम्मत का कार्य बेहद धीमी गति से चल रहा था, लेकिन अब बाबा केदार का पुराना स्वरूप जल्द ही देखने को मिलेगा.

बदरी-केदार मंदिर समिति और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के बीच चल रहा मतभेद खत्म हो गया है और आपसी तालमेल के जरिए निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है. आपदा के समय ऊपरी हिस्से से बहकर आए बड़े बोल्डर काटकर पत्थर तराशे जा रहे हैं और मंदिर की दीवारों में इन्हें फिट किया जा रहा है.

दरअसल, आपदा के समय तेज बहाव की वजह से मंदिर की दीवारों के कोने बुरी तरह से प्रभावित हुए थे और कई पत्थर भी बह गए थे. अब मंदिर के क्षतिग्रस्त हिस्से को दुरुस्त किया जा रहा है. खास बात यह है कि पुराने स्ट्रक्चर को भी ध्यान में रखा गया है.

एएसआई जैक लगाकर स्ट्रक्चर को सपोर्ट देने और मजबूती के लिए भी एक्सपर्टस से राय ले रहा है. एएसआई के अधीक्षण पुरातत्वविद् वसन्त कुमार स्वर्णकार का कहना है कि हमारी टीम विपरीत परिस्थितियों में दिनरात एक करके काम कर रही है.मरम्मत कार्य में मंदिर के पुराने स्वरूप और डिजाइन को भी ध्यान में रखा गया है. वहीं, दूसरी ओर बदरीकेदार मंदिर समिति के अध्यक्ष भी इस बात से संतुष्ट नजर आ रहे हैं कि एएसआई की टीम पहली बार मंदिर के मरम्मत कार्य को लेकर गंभीर नजर आ रही है. हालांकि पूर्व के दो सालों में काम न होने की टीस भी मंदिर समिति के सामने है. समीति भी अब एएसआई के कारीगरों और अधिकारियों को हर सम्भव मदद कर रही है.

बदरी केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष गणेश गोदियाल का कहना है कि शुरुआती दो सालों में मरम्मत कार्य बेहद धीमी गति से हुआ, लेकिन अब काम में तेजी आ गई है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 22, 2015, 7:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर