लाइव टीवी

यहां टेंट लगाकर चौकीदारी कर रहे हैं लोग... ताकि ट्रेंचिंग ग्राउंड न बन जाए खाली ज़मीन
Uttarkashi News in Hindi

Jagmohan Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: December 17, 2018, 7:16 PM IST
यहां टेंट लगाकर चौकीदारी कर रहे हैं लोग... ताकि ट्रेंचिंग ग्राउंड न बन जाए खाली ज़मीन
प्रशासन ने कंसैंण गांव के निकट जल विद्युत निगम की खाली जमीन पर ट्रेंचिंग ग्राउंड तैयार करने की योजना बनाई है लेकिन पालिका को वहां भी ग्रामीणों का विरोध झेलना पड़ रहा है.

नगर पालिका द्वारा नालूपानी के पास भगीरथी नदी में कूड़ा डालने पर ईओ को सस्पेंड कर मुख्यालय अटैच कर दिया गया है.

  • Share this:
उत्तरकाशी में कूड़े की समस्या का निस्तारण होते नहीं दिख रहा है. तेखला गदेरे में कूड़ा डंप करने पर हाईकोर्ट के प्रतिबंध के बाद कूड़ा निस्तारण के लिए एक अदद डंपिंग ज़ोन ढूंढना पालिका के लिए गले की हड्डी बन गया है. नगर पालिका द्वारा नालूपानी के पास भागीरथी नदी में कूड़ा डालने पर ईओ को सस्पेंड कर मुख्यालय अटैच कर दिया गया है. इसके बाद अधिकारी कूड़े को उठवाने में कतरा रहे हैं और कूड़ा रामलीला मैदान में जमा हो रहा है. बदबू फैला रहे इस कूड़े से बीमारियों का खतरा भी बढ़ गया है.

उत्तरकाशी ज़िला प्रशासन और पालिका के लिए कूड़े के निस्तारण का रास्ता नज़र नहीं आ रहा है. हाई कोर्ट आदेश के बाद नगरपालिका ने जीओ ग्रिड वॉल के पीछे कूड़ा डंप करने का प्रयास किया. आस-पास के लोगों व व्यापारियों के विरोध के चलते पालिका को पीछे हटना पड़ा. पालिका ने बड़कोट में डंप करने का जुगाड़ तो किया लेकिन कर्मचारियों ने चालाकी दिखाते हुए टनों कूड़ा भागीरथी नदी में उड़ेल दिया, जिसका खामियाजा नगर पालिका EO को  सस्पेंड होकर चुकाना पड़ा.

इसके बाद से कूड़ा नगर के बीचों-बीच आज़ाद मैदान में इकट्ठा किया जा रहा है, जहां अगले महीने जनवरी में पौराणिक माघ मेला भी होना है. अपर गढ़वाल आयुक्त के निर्देश पर प्रशासन ने कंसैंण गांव के निकट जल विद्युत निगम की खाली जमीन पर ट्रेंचिंग ग्राउंड तैयार करने की योजना बनाई है लेकिन पालिका को वहां भी ग्रामीणों का विरोध झेलना पड़ रहा है.



अब कंसेण के ग्रामीण तंबू गाड़ कर दिन रात पहरेदारी कर रहे हैं ताकि पालिका वहां कूड़ा न गिरा दे. ग्रामीणों ने बीमारी और दुर्गंध फैलने का हवाला देते हुए प्रशासन से किसी अन्य स्थान पर डंपिंग जोन बनाने की मांग की है. साथ ही ऐसा न करने पर आंदोलन की चेतावनी दी है.



उत्तरकाशी बाडाहाट नगर पालिका, नए निकाय के गठन के बाद भी कूड़ा निस्तारण कोई ठोस नीति नहीं बना पाया. विडंबना देखिए कि गंगा के उद्गम स्थल के पहले शहर में ही गंगा में गंदगी डाली जा रही है और देश भर में गंगा को साफ़ करने के लिए अरबों रुपये बहाए जा रहे हैं.

VIDEO: उत्तरकाशी में विकराल हुई कूड़े की समस्या, कार्रवाई का भरोसा

PHOTOS: गंगा के दुश्मन.... कब तक कूड़ा, मलबा खाकर ज़िंदा रह पाएगी यह ‘मां’ 
First published: December 17, 2018, 7:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading