लाइव टीवी

बोन में नहीं खुलेगा इंजीनियरिंग कॉलेज... बीजेपी विधायक ने कहा स्किल डेवलपमेंट सेंटर बनाएगी सरकार
Uttarkashi News in Hindi

Jagmohan Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: December 17, 2019, 5:52 PM IST
बोन में नहीं खुलेगा इंजीनियरिंग कॉलेज... बीजेपी विधायक ने कहा स्किल डेवलपमेंट सेंटर बनाएगी सरकार
बोन में तीन साल पहले 22 करोड़ रुपये की लागत से इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए बिल्डिंग बनाई गई थी, जिसके लिए ग्रामीणों ने ज़मीन दी थी.

सरकार यहां इंजीनियरिंग कॉलेज शुरु नहीं करवा पाई क्योंकि इंजीनियरिंग क़ॉलेज में पढ़ाने के लिए फ़ैकल्टी की ही नियुक्ति नहीं की गई.

  • Share this:
उत्तरकाशी. बोन (Bon) में तीन साल पहले तैयार इंजीनियरिंग कॉलेज (Engineering College) में अब इंजीनियरिंग कॉलेज नहीं खुलेगा. इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए फ़ैकल्टी (Faculty) का इंतज़ाम करने में नाकाम राज्य सरकार (State Government) ने अब यहां स्किल डेवलपमेंट सेंटर (Skill Development Center) खोलने का ऐलान कर दिया है. स्थानीय बीजेपी विधायक (BJP MLA) इसके लिए छात्रों में इंजीनियरिंग में रुचि की कमी को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं. लेकिन युवा जन प्रतिनिधि इसे क्षेत्र के युवाओं, क्षेत्र की जनता के साथ धोखा बता रहे हैं और कह रहे हैं कि इंजीनियरिंग कॉलेज न बनने पर लोग सड़कों पर उतरकर विरोध करेंगे.

इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए दी थी ग्रामीणों ने ज़मीन

बोन में तीन साल पहले 22 करोड़ रुपये की लागत से इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए बिल्डिंग बनाई गई थी. मातली बरसाली के ज़िला पंचायत सदस्य मनीष राणा कहते हैं कि यहां इंजीनियरिंग कॉलेज बनाने के लिए ग्रामीणों ज़मीन दी थी. ग्रामीणों के सपनों को और परवान चढ़ाते हुए यहां एक भारी-भरकम बिल्डिंग भी बना दी गई.

बिल्डिंग तो बन गई लेकिन सरकार यहां इंजीनियरिंग कॉलेज शुरु नहीं करवा पाई क्योंकि इंजीनियरिंग क़ॉलेज में पढ़ाने के लिए फ़ैकल्टी की ही नियुक्ति नहीं की गई. गंगोत्री विधायक गोपाल रावत कहते हैं कि चूंकि यहां बच्चों ने इंजीनियरिंग में रुचि नहीं दिखाई इसलिए सरकार ने अब यहां स्किल डेवलपमेंट सेंटर, पर्वतारोहण प्रशिक्षण केंद्र और कई रोज़गार परक योजनाओं से संबंधित कोर्स शुरु करने का फ़ैसला किया है.

स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी?

बीजेपी विधायक तो यह भी दावा करते हैं कि मुख्यमंत्री ने बाद में यहां स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी भी खोलने का वादा किया है. युवा जन प्रतिनिधि मनीष राणा ऐसी कोशिशों का सख़्त विरोध करते हैं. वह कहते हैं इंजीनियरिंग कॉलेज के नाम पर ज़मीन लेकर उसे न खोलना ग्रामीणों के साथ धोखा है.

मनीष कहते हैं इंजीनियरिंग कॉलेज से उत्तरकाशी और उत्तराखंड के ग्रामीणों को बहुत उम्मीदें थीं. यह भी माना जा रहा था कि इससे स्थानीय युवकों को बेहतर शिक्षा मिलेगी और पलायन रुकेगा. राणा कहते हैं कि सरकार अब एक और लॉलीपॉप थमाने जा रही है जिसका स्थानीय लोग कड़ा विरोध करेंगे और इसके ख़िलाफ़ उग्र आंदोलन किया जाएगा.ये भी देखें: 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 17, 2019, 4:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर