उत्तरकाशी में राहत कार्यों को बड़ा धक्का, प्राइवेट कंपनी का हैलिकॉप्टर हुआ क्रैश, पायलट समेत 3 की मौत

Deepankar Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: August 21, 2019, 1:47 PM IST
उत्तरकाशी में राहत कार्यों को बड़ा धक्का, प्राइवेट कंपनी का हैलिकॉप्टर हुआ क्रैश, पायलट समेत 3 की मौत
उत्तरकाशी में राहत कार्य में लगा हैलिकॉप्टर क्रैश

हैलिकॉप्टर में तीन लोग सवार थे- पायलट, को पायलट और एक एसडीआरएफ़ का जवान.

  • Share this:
उत्तरकाशी में राहत कार्य में लगा एक हैलिकॉप्टर क्रैश हो गया है. इस दुर्घटना में पायटल समेत तीन लोगों की मौत हो गई है. हैलिकॉप्टर में पायलट और को-पायलट के अलावा एक स्थानीय निवासी भी सवार था. क्रैश हुआ हैलिकॉप्टर हैरिटेज एविएशन का था जिसे राहत और बचाव कार्यों के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था. बताया जा रहा है कि बिजली के तारों में उलझकर ये हैलिकॉप्टर क्रैश हुआ है. अपुष्ट ख़बरों के अनुसार क्रैश होने के बाद हैलिकॉप्टर में ब्लास्ट भी हुआ है. अब टिकोची में उतरेगा रेस्क्यू हेलीकॉप्टर और यहां से राहत दल मोलडी जाएगा.

सामान उतारकर लौट रहा था हैलिकॉप्टर 

उत्तरकाशी के ज़िलाधिकारी आशीष चौहान ने बताया कि ये हैलिकॉप्टर मोल्डी गांव में सामान उतारकर और एक ग्रामीण को लेकर लौट रहा था. बताया जा रहा है कि नदी पार करने के लिए लगाई गई ट्रॉली के तारों में उलझकर यह  हैलिकॉप्टर क्रैश हुआ. हादसे में पायलट कैप्टन लाल, को-पायलट शैलेष और स्थानीय निवासी राजपाल मारे गए हैं.

52 गांव प्रभावित 

दरअसल उत्तरकाशी में रविवार सुबह बादल फटने के बाद गदेरे उफ़ान पर आ गए थे और उन्होंने भारी तबाही मचाई है. मुख्यमंत्री ने मंगलवार को आपदा प्रभावित आराकोट का दौरा करने के बाद 15 लोगों के मारे जाने कई के लापता होने की पुष्टि की थी. 52 गांव इस आपदा से बुरी तरह प्रभावित हैं.

सबसे बड़ी समस्या आपदा प्रभावित इलाक़ों तक पहुंचने की है और इसलिए राहत और बचाव कार्यों के लिए हैलिकॉप्टर्स का इस्तेमाल किया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने बताया था कि आपदा प्रभावित क्षेत्रों में 10 हैलिपैड बनाए गए हैं और सेना के साथ मिलकर चार हैलिकॉप्टरों की व्यवस्था की गई है. राहत कार्यों में 300 कर्मचारी जुटे हुए हैं.

राहत कार्य जारी 
Loading...

उत्तरकाशी में न्यूज़ 18 संवाददाता जगमोहन सिंह चौहान के अनुसार मोरी ब्लॉक में आपदा के तीसरे दिन भी राहत बचाव कार्य जारी. माकुली, डगोली,चीवा, बलावट, टिकोची, दुचानू, किराणु, बरनाली, जोटाड़ी, जाकटा और मौड्डा में राहत सामग्री वितरण के लिए 11 अस्थायी हैलिपैड बनाए गए हैं. ज़िलाधिकारी आपदा ग्रस्त क्षेत्र में ही डेरा डाले हुए हैं.

ये भी देखें: 

पानी का रौद्र रूप... काग़ज़ की तरह फट गई सड़क, माचिस की डिबियों की तरह गिर रही गाड़ियां

जोर का झटका... आपदा से 5 बड़ी जल विद्युत परियोजनाएं ठप, 120 लाख यूनिट रोज़ का नुक़सान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 12:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...