लगातार भूस्खलन से NH 94 बंद, जापान से आई कंपनी ने भी खड़े किए हाथ

भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र में दो जगहों से लगातार हल्की से बारिश से ही पहाड़ी से मलबा और बोल्डर गिरने का सिलसिला शुरू हो जाता है.

News18 Uttarakhand
Updated: July 22, 2018, 7:49 PM IST
News18 Uttarakhand
Updated: July 22, 2018, 7:49 PM IST
यमुनोत्री धाम को जोड़ने वाला एक मात्र NH 94 डबरकोट में सुरक्षित सड़क मार्ग में शायद लगता है कि अभी कुछ समय और इन्तजार करना पड़ सकता है. डबरकोट के पास 400 मीटर सड़क मार्ग पिछली यात्रा काला से लगातार अब आवाजाही के लिहाज से नासूर बन चुका है. लिहाजा डबरकोट से वाहनों की आवाजाही खतरे से खाली नहीं है. भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र में दो जगहों से लगातार हल्की से बारिश से ही पहाड़ी से मलबा और बोल्डर गिरने का सिलसिला शुरू हो जाता है.

मार्ग को सुरक्षित बनाने में जायका (JICA) यानी जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी समेत ऑल वेदर टीम डबरकोट में अपना सर्वे कर चुकी है, लेकिन भूस्खलन की ऊंचाई ज्यादा होने के चलते आल वेदर टीम कोई हल नहीं बता सकी है.

इसके साथ ही JICA टीम भी मार्ग को सुरक्षित बनाने में अपनी असमर्थता जता चुकी है. ऐसे में यमुनोत्री जाने वाले श्रद्धालु सहित रात-दिन डबरकोट से सफर करने वाले गीठ पट्टी के ग्रामीणों को वाहनों से सफर मुसीबत में ही करनी पड़ेगी या फिर त्रिखली-कुंसाला गावं से ही पैदल चल सफर करना होगा.

ये भी पढ़ें -

रिस्पना नदी को पुनर्जीवित करने सीएम के नेतृत्व में पौधारोपण शुरू

सोशल मीडिया पर शेयर की गलत पोस्ट तो जाना पड़ सकता है जेल

(रिपोर्ट - नितिन चौहान)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर