अतिक्रमण और अव्यवस्थाओं से फूल रहा है उत्तरकाशी का दम
Uttarkashi News in Hindi

अतिक्रमण और अव्यवस्थाओं से फूल रहा है उत्तरकाशी का दम
उत्तरकाशी में ज्ञानसू से लेकर गंगोत्री तक कहीं भी पार्किंग की व्यवस्था नहीं है.

बस अड्डे के लिए मुख्य बाजार के निकट तथा ज्ञानसू में पर्याप्त स्थान भी है. जिस पर तेजी से अवैध कब्जे होते जा रहे हैं.

  • Share this:
गंगा के उद्गम का पहला शहर उत्तरकाशी में वरुणावत त्रासदी के बाद से अब तक बस अड्डे का निर्माण नहीं हो पाया है. बस अड्डे के लिए पहले कांग्रेस और फिर भाजपा के नेताओं ने शिलान्यास किए और कई दावे किए, लेकिन अभी तक बस अड्डा बनाने की कवायद तक शुरू नहीं हो सकी है. बस अड्डे के लिए मुख्य बाजार के निकट तथा ज्ञानसू में पर्याप्त स्थान भी है. जिस पर तेजी से अवैध कब्जे होते जा रहे हैं.

वहीं उत्तरकाशी को बिना पार्किंग का शहर कहे तो कोई गरेज नहीं है.  ज्ञानसू से लेकर गंगोत्री तक कहीं भी पार्किंग की व्यवस्था नहीं है. पार्किंग की सुविधा न होने के कारण सांस्कृतिक और खेल गतिविधियों का केन्द्र आजाद मैदान को पार्किंग का अड्डा बन गया है.

जिससे खेल और संस्कृति पर बड़ा असर पड़ रहा है. दूसरी ओर सरकार शौचालय बनाने और स्वच्छता के भले ही बड़े-बड़े दावे कर रही हो, लेकिन मुख्य बाजार की स्थिति बेहद ही चिंताजनक है. सुलभ शौचालय न होने के कारण यात्री तथा स्थानीय व्यापारी भी खुले में शौच करने को मजबूर हैं.



खुले में शौच करने से जियोग्रिडवाल के निकट और बिरला गली में गंदगी की भरमार फैली है. कहने को तो उत्तरकाशी धार्मिक नगरी है, लेकिन स्थिति बेहद ही बदहाल है.



(रिपोर्ट - हरीश थपलियाल)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading