लाइव टीवी

गंगा के मायके उत्तरकाशी में ही पवित्र नदी से खिलवाड़ जारी... हो रहा खुलेआम खनन और मलबा डंप
Uttarkashi News in Hindi

News18 Uttarakhand
Updated: January 22, 2020, 12:04 PM IST
गंगा के मायके उत्तरकाशी में ही पवित्र नदी से खिलवाड़ जारी... हो रहा खुलेआम खनन और मलबा डंप
सड़क निर्माण कार्य में लगी ऑल वेदर निर्माण एजेंसियां और ज़िले में सक्रिय हुए खनन माफिया नदी में इस कदर तक खनन कर रहे हैं नदी की धारा ही परिवर्तित हो जा रही है.

ज़िलाधिकारी कहते हैं कि नदी ऑल वेदर रोड निर्माण कार्य में लापरवाही बरते जाने को लेकर पहले भी कार्रवाई की गई है और आगे भी की जाएगी.

  • Share this:
उत्तरकाशी. गंगा भागीरथी अपने उद्गम स्थल के पहले ही उत्तरकाशी से ही दूषित हो रही है. NGT, हाईकोर्ट, पर्यावरण मंत्रालय की रोक के बाद भी गंगा नदी में धड़ल्ले से बेरोक-टोक माफिया खनन कर रहे हैं और सड़क निर्माण में लगी निर्माण एजेंसियां ऑल वेदर सड़क निर्माण का हजारों टन मलबा सीधे भागीरथी नदी में उड़ेल रहे हैं. इससे गंगा नदी की स्वच्छता और अविरलता को खतरा पैदा हो गया है और ऐसा लग रहा है कि ज़िला प्रशासन जान-बूझकर आंखे मूंदे हुए है.

धारा बदल जा रही नदी की

जीवनदायिनी और पूजनीय गंगा नदी इन दिनों अपनी दुर्दशा पर रो रही है. सड़क निर्माण कार्य में लगी ऑल वेदर निर्माण एजेंसियां और ज़िले में सक्रिय हुए खनन माफिया नदी में इस कदर तक खनन कर रहे हैं नदी की धारा ही परिवर्तित हो जा रही है.

भागीरथी नदी के किनारे चिन्यालीसौड़ से लेकर उत्तरकाशी जिला मुख्यालय तक कई जगह ऑल वेदर सड़क निर्माण कार्य का मलबा सीधे नदी में डाला जा रहा है तो दूसरी ओर खनन माफिया नदी के बीचों-बीच बड़ी-बड़ी पोकलैंड जैसी मशीनें उतारकर कर नदी में खनन कर रहे हैं.

पर्यावरणविद् सुरेश भाई कहते हैं खुलेआम गंगा और हिमालय के पर्यावरण, पारिस्थितिकी से खिलवाड़ किया जा रहा है जो बहुत दुखद है और इससे जो नुक़सान हो रहे हैं उनकी भरपाई नहीं की जा सकेगी.

हर शिकायत पर कार्रवाई 

लेकिन ज़िला प्रशासन इस हकीकत को देखने को तैयार नज़र नहीं आ रहा. उत्तरकाशी के ज़िलाधिकारी आशीष चौहान कहते हैं कि नदी ऑल वेदर रोड निर्माण कार्य में लापरवाही बरते जाने को लेकर पहले भी कार्रवाई की गई है और आगे भी की जाएगी. एसडीएम, डीएफ़ओ के साथ ही एक टीम पर्यावरण से छेड़खानी के मामलों पर नज़र रखती है और हर शिकायत पर कार्रवाई की जाती है.इन दावों के विपरीत ज़मीनी हकीकत किसी से छुपी नहीं है. उत्तराखंड में भागीरथी जैसी नदियों के साथ अपने निजी स्वार्थों के लिए खुलकर खिलवाड़ किया जा रहा है. अब भी इस पर ठोस कार्रवाई नहीं हुई तो वह दिन दूर नहीं जब गंगा नदी तस्वीरों में ही रह जाएगी.

ये भी देखें: 

श्रमदान कर खुद भागीरथी पर पुल बनाया उत्तरकाशी के ग्रामीणों ने

पहाड़ काट सीधे भागीरथी में डाला जा रहा है मलबा, NHIDCL को नहीं कोई परवाह

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 12:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर