कूड़ा फेंके जाने के विरोध में ग्रामीणों ने किया प्रशासन व नगरपालिका के खिलाफ प्रदर्शन
Uttarkashi News in Hindi

कूड़ा फेंके जाने के विरोध में ग्रामीणों ने किया प्रशासन व नगरपालिका के खिलाफ प्रदर्शन
उत्तरकाशी - ग्रामीणों का डीएम कार्यालय के समक्षा उग्र प्रदर्शन

ग्रामीणों ने प्रशासन और नगर पालिका को चेतावनी दी है कि अगर फिर कूड़ा उसी स्थान में डाला गया तब वे माघ मेले का विरोध करेंगे.

  • Share this:
उत्तरकाशी में मंगलवार को कंसेंण गांव के पास जलविद्युत की जमीन पर रामलीला मैदान में पड़े शहर का कूड़ा फेंकने के बाद गुरुवार को दिनभर जिला डीएम कार्यलय में तनाव का माहौल बना रहा. कूड़े के खिलाफ ग्रामीणों ने बाजार में जिला प्रशासन और नगरपालिका के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया. रामलीला मैदान में पड़ा कूड़ा कंसेंण गांव के पास जल विद्युत निगम की जमीन पर फेंकने के बाद ग्रामीण उग्र रूप में दिखे. ग्रामीणों ने भारी संख्या में जमा होकर शहर भर में प्रदर्शन किया. इसी क्रम में ग्रामीणों ने डीएम कार्यालय के लिए कूच किया. लेकिन वहां मौजूद भारी पुलिस बल ने ग्रामीणों का रास्ता रोक दिया. लेकिन फिर तनाव पूर्ण माहौल को देखते हुए पुलिस ने मुख्य गेट को खोल भी दिया. डीएम कार्यालय के बाहर ग्रामीणों ने जमकर जिला प्रशासन और नगर पालिका के खिलाफ नारेबाजी की और अपना आक्रोश व्यक्त किया.

दरअसल, ग्रामीण इससे नाराज थे कि शहर का कूड़ा उनके क्षेत्र में मंगलवार को पुलिस की मदद से क्यों डाला गया. ग्रामीण पिछले एक माह से धरने पर बैठकर अपने क्षेत्र में कूड़ा डालने का विरोध कर रहे थे. ग्रामीण उस जगह पर भी पहरेदारी कर रहे थे जहां कूड़ा डाला जाना था. लेकिन जिला प्रशासन ने पौराणिक माघ मेले को देखते हुए पुलिस की मदद से बलपूर्व वहां कूड़ा डाल दिया. इसका विरोध कर रहे ग्रामीणों के साथ पुलिस ने बदसलूकी की. इस क्रम में पुलिस ने 43 लोगों को हिरासत में भी ले लिया. प्रशासन द्वारा किए गए इस कार्रवाई से ग्रामीणों का आक्रोश गुरुवार को जिला मुख्यालय के समक्ष देखने को मिला.

ग्रामीणों को उग्र होते देख जिलाधिकारी ने उनके साथ बैठक की और बताया कि पहले जिस जगह कूड़ा डाला जाता था वहां पर कोर्ट ने प्रतिबंध लगा दिया है. उन्होंने कहा कि प्रशासन कूड़ा डाले जाने के लिए स्थायी भूमि की व्यवस्था कर रहा है. जिलाधिकारी द्वारा इस तरह समझाए जाने के बाद ग्रामीणों का गुस्सा ठंडा हुआ और वे मान गए. लेकिन ग्रामीणों ने प्रशासन और नगर पालिका को चेतावनी दी है कि अगर फिर कूड़ा उसी स्थान में डाला गया तब वे माघ मेले का विरोध करेंगे.



ये भी पढ़ें - हाथी को क्रॉल में रखे जाने पर नाराज मेनका गांधी ने मंत्री रेखा आर्या को लिखी चिट्ठी
ये भी देखें - VIDEO: जब जनता दरबार में मोबाइल से रिकॉर्डिंग किए जाने पर मंत्री बिफर पड़े

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज