Home /News /uttarakhand /

'आचरण में बदलाव के लिए रामकृष्ण और विवेकानन्द के विचारों को अपनाएं'

'आचरण में बदलाव के लिए रामकृष्ण और विवेकानन्द के विचारों को अपनाएं'

 'शांति की तलाश में जिन्दगी' किताब का विमोचन

'शांति की तलाश में जिन्दगी' किताब का विमोचन

राज्यपाल डॉ केके पाल ने बुधवार को राजभवन के प्रेक्षागृह में पत्रकार डॉ राधिका नागरथ की पुस्तक 'शांति की तलाश में जिन्दगी' का विमोचन किया. राज्यपाल ने पुस्तक को सरल भाषा में रोचक उदाहरणों और दैनिक जीवन के उपाख्यानों का दार्शनिक दस्तावेज बताया. राज्यपाल ने कहा कि पुस्तक, लेखिका के जीवन और लोगों के गहन अध्ययन का परिणाम है.

अधिक पढ़ें ...
    राज्यपाल डॉ केके पाल ने बुधवार को राजभवन के प्रेक्षागृह में पत्रकार डॉ राधिका नागरथ की पुस्तक 'शांति की तलाश में जिन्दगी' का विमोचन किया. राज्यपाल ने पुस्तक को सरल भाषा में रोचक उदाहरणों और दैनिक जीवन के उपाख्यानों का दार्शनिक दस्तावेज बताया.

    राज्यपाल ने कहा कि पुस्तक, लेखिका के जीवन और लोगों के गहन अध्ययन का परिणाम है, जिसमें पश्चिमी सभ्यता और सतही मूल्यों के पीछे भागने के कारण उपज रही अशांति से जीवन को खोखला होने से बचने के महत्व पर प्रकाश डाला गया है. राज्यपाल ने कहा कि लगभग पाँच हजार वर्ष प्राचीन भारतीय सभ्यता में भी मूल्य आधारित जीवन जीने का समर्थन करते हुए सतही जीवन को 'मृगतृष्णा' के रूप में माना गया है.

    उन्होंने अपने सम्बोधन में रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानन्द के विचारों का उल्लेख करते हुए कहा कि अपने आचरण में बदलाव के लिए हमारे देश के महान विचारकों ने जो शिक्षा दी, है मन की शांति के लिए उसका अनुसरण करना चाहिए है.

    परमार्थ निकेतन के अधिष्ठाता स्वामी चिदानंद मुनि ने कहा कि आज पूरे विश्व के लोग शांति की तलाश में हैं, लेकिन उनका जीवन भौतिकता की खोज में बीता जा रहा है.

    उन्होंने कहा कि असीम को पाने की चाहत के पीछे दौडने से शांति नहीं मिल सकती. गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि शांति हमारे आसपास है, उसे खोजने के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं है. आत्मस्थ होकर उसे सहज रूप से पाया जा सकता है. वरिष्ठ पत्रकार शम्भूनाथ शुक्ला ने कहा कि शांति हर किसी का लक्ष्य है. लोगों को नाखुशी जाहिर करने के बजाय सदैव खुश रहने का प्रयास करना चाहिये.

    लेखिका राधिका नागरथ ने अपनी पुस्तक की विषय-वस्तु पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कुछ व्यावहारिक-परीक्षित समाधानों पर आधारित यह पुस्तक पाठकों को मन की शांति प्रदान करने में मदद कर सकती है. इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद रमेश पोखरियाल निशंक, उद्याेगपति यूसी जैन और वरिष्ठ पत्रकार सुनील पांडे मौजूद थे.

    Tags: Uttarakhand news, Uttarkashi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर