Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड चुनाव: हरक सिंह की चर्चा के बीच यमुनोत्री MLA ने कहा 'मैं पिछलग्गू नहीं', कोटद्वार सीट पर भी हलचल

उत्तराखंड चुनाव: हरक सिंह की चर्चा के बीच यमुनोत्री MLA ने कहा 'मैं पिछलग्गू नहीं', कोटद्वार सीट पर भी हलचल

यमुनोत्री विधायक केदारसिंह रावत ने हरक सिंह रावत के साथ कांग्रेस में जाने का खंडन किया.

यमुनोत्री विधायक केदारसिंह रावत ने हरक सिंह रावत के साथ कांग्रेस में जाने का खंडन किया.

Uttarakhand Election : भाजपा सरकार के निष्कासित मंत्री हरक सिंह रावत के कांग्रेस पार्टी में जाने की कयासों के बीच इस तरह की चर्चाएं भी थीं कि यमुनोत्री विधायक केदार सिंह रावत भी हरक सिंह के साथ पार्टी बदल (Defection in Uttarakhand) सकते हैं, लेकिन विधायक ने साफ इनकार कर दिया है. उन्होंने यह दावा भी कर दिया है कि आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Election) के लिए उम्मीदवारों की घोषणा से दो से तीन दिन में होगी और उन्हें भाजपा टिकट देगी. वहीं, हरक सिंह के विधानसभा क्षेत्र कोटद्वार में कांग्रेस नेता (Surendra Singh Negi) भी खफ़ा दिख रहे हैं. जानिए क्या हैं समीकरण.

अधिक पढ़ें ...

बलबीर परमार/अनुपम भारद्वाज
उत्तरकाशी/कोटद्वार. उत्तराखंड में बीजेपी की सरकार में कैबिनेट मंत्री पद से बर्खास्त कर दिए गए हरक सिंह रावत की कांग्रेस वापसी को लेकर चल रही सुर्खियों के बीच यमुनोत्री विधायक केदार सिंह रावत भी चर्चा में आ गए. हरक सिंह के कांग्रेस में जाने के सस्पेंस के बीच इस तरह की चर्चाएं भी चल पड़ी थीं कि केदार सिंह भी साथ में कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं, लेकिन मीडिया के सामने आकर केदार सिंह ने साफ शब्दों में इन बातों को अफवाह बताकर कहा कि वह किसी के पिछलग्गू नहीं हैं. न ही वह किसी के लिए बीजेपी छोड़ने वाले हैं. केदार ने बीजेपी में अपनी निष्ठा जताते हुए एक बार फिर टिकट मिलने का भरोसा भी जताया.

यमुनोत्री विधानसभा में राजनीतिक सरगर्मियां तेज़ होने के साथ भाजपा के कद्दावर नेता और विधायक केदार सिंह रावत के कांग्रेस में जाने की अटकलों के चलने का सिलसिला शुरू हुआ तो केदार खंडन करने के​ लिए सामने आ गए. उन्होंने कहा कि वह भाजपा के सिपाही हैं और भाजपा के टिकट से ही 2022 में चुनाव लड़ेंगे. केदार ने खुले शब्दों में कहा कि 2017 के चुनाव से पहले जब वह कांग्रेस से भाजपा में आए थे, तब वह उनका निजी फैसला था, किसी के प्रभाव में उन्होंने ऐसा नहीं किया था. अब भी वह अपना फैसला खुद करेंगे और कभी किसी के पिछलग्गू नहीं रहे.

‘मोदी व धामी के नेतृत्व में मुझे पूरा विश्वास’
केदार ने कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में भाजपा के ही कार्यकर्ता के तौर पर बढ़ना है. उन्होंने बताया कि उनका जनसंपर्क लगातार जारी है. यमुना घाटी क्षेत्र के 40% गांवों का भ्रमण कर अब वह गंगा घाटी के ब्रह्मखाल क्षेत्र का भ्रमण करेंगे. केदार ने डोर टू डोर चुनाव प्रचार में लगातार जुटे होने का दावा कर पूरा भरोसा जताया कि जल्द ही उम्मीदवारों की सूची जारी होगी, जिसमें उनका नाम होगा.

हरक सिंह से नाराज़ हैं कोटद्वार के कांग्रेस नेता!
इधर, कोटद्वार विधानसभा में भी राजनीतिक हलचलें तेज़ दिखने लगी हैं. बीजेपी के टिकट पर इस सीट से विधायक बने हरक सिंह के कांग्रेस की तरफ रुख करने से यहां कांग्रेस के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी के टिकट पर भी चर्चा हो रही है कि हरक के आने से क्या असर पड़ेगा. ऐसे में नेगी ने साफ तौर पर विधायक और भाजपा सरकार पर तो हमला बोला, लेकिन कांग्रेस की राजनीति पर कुछ कहने से कतराते दिखे.

न्यूज़18 के साथ बातचीत में नेगी ने कहा कि भाजपा सरकार के इस कार्यकाल में कोटद्वार में कोई विकास कार्य नहीं हुआ. उन्होंने हरक सिंह का नाम लिये बगैर कहा कि यहां के जनप्रतिनिधि ने विकास की उपेक्षा की. कांग्रेस में आ जाने पर हरक सिंह को लेकर उनका और पार्टी का क्या रुख होगा, इस पर नेगी ने बस यही कहेगा कि समय और स्थितियां ही जवाब देंगी.

Tags: Assembly elections, Harak singh rawat, Uttarakhand Assembly Election

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर