Home /News /uttarakhand /

उद्यान विभाग में एक हजार से अधिक कर्मचारियों की बढ़ोत्तरी

उद्यान विभाग में एक हजार से अधिक कर्मचारियों की बढ़ोत्तरी

लखनऊ का नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान इन दिनों पर्यटकों को अपनी ओर खासा आकर्षित कर रहा है. और आकर्षण का कारण बने हुए हैं शेर के 

बच्‍चे.

लखनऊ का नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान इन दिनों पर्यटकों को अपनी ओर खासा आकर्षित कर रहा है. और आकर्षण का कारण बने हुए हैं शेर के बच्‍चे.

राज्य गठन के 15 सालों बाद सरकार को आई उद्यान विभाग की याद.

राज्य गठन के 15वर्षों के बाद सरकार उद्यान विभाग की सुध ले रही है. उद्यान विभाग का कर्मचारी ढांचा पुनर्गठित करने की तैयारी हो रही है, जिसमें करीब एक हजार से अधिक कर्मचारियों की बढ़ोत्तरी होगी.

साथ ही न्याय पंचायत स्तर तक उद्यान निवेश भी खोले जाएंगे. इससे करीब एक हजार कर्मचारियों की तादाद बढ़ने की संभावना है. सवाल ये है कि विभाग का अमला बढ़ने के बाद कितना सुधार हो पाएगा.

राज्य सरकार को अब उद्यान विभाग की सुध लेने की याद आ रही है. राज्य गठन के बाद 15वर्षों से उद्यान विभाग में उत्तरप्रदेश के समय से बना हुआ कर्मचारी ढांचा है और उसी तर्ज पर कामकाज होते रहे हैं हालांकि लंबे समय से कर्मचारियों के संगठन ने ही विभागीय ढांचा पुनर्गठन करने की मांग की लेकिन ये मांग अब पूरी हो रही है.

सरकार ने उद्यान विभाग के ढांचे में बदलाव केनिर्देश दिए हैं. उद्यान मंत्री हरक सिंह रावत कहते हैं कि मुख्यमंत्री भी चाहते हैं कि उद्यान विभाग न्याय पंचायत स्तर तक अपने केंद्र खोले.

उद्यान विभाग में मौजूदा समय में उत्तरप्रदेश के जमाने से ही करीब साढ़े तीन हजार पद स्वीकृत हैं, जिनमें से लगभग 2700 पद ही भरे हैं बाकि खाली हैं. इनमें से भी करीब ढाई सौ पद ऐसे हैं जिनकी कोई जरूरत ही नहीं है.

उद्यान विभाग में विकास शाखा, प्रयोगशाला और प्रशिक्षण शाखा, मशरूम शाखा, फूड प्रोसेसिंग शाखा और मधुमक्खी पालन शाखा प्रमुख तौर पर काम करती हैं... राज्यभर में विभाग के मौजूदा समय में 290केंद्र हैं जिनको बढ़ाकर 670 करने का प्रस्ताव तैयार किया गया है. इससे करीब एक हज़ार कर्मचारियों की संख्या बढ़ जाएगी.

उद्यान विभाग में हालांकि जो पद खाली पड़े हैं उनमें से ढाई सौ पदों को समाप्त करने की भी तैयारी की जा रही है क्योंकि विभाग का मानना है कि वे पद पुरानी जरुरतों के हिसाब से थे लेकिन उनपर बरसों से कोई कर्मचारी तैनात नहीं है हालांकि वे सभी पद काग़ज़ों में अपना अस्तित्व बनाए हुए हैं.

लिहाजा उन पदों के स्थान पर नई जरुरत के हिसाब से पदों का बनाया जाना जरुरी है. यानि पुराने पद समाप्त करने नए सिरे से ढांचा बनाने पर भी करीब एक हजार पद बढ़ जाएंगे.

विभागीय ढांचा पुनर्गठन की ये कोशिश सकारात्मक कदम तो कही जा सकती है लेकिन देखना होगा कि विभाग में अमला बढ़ने के बाद कितना सुधार होगा और उद्यान किसानों को कितनी राहत मिलती है.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर