उत्‍तराखंड में साइंस पर भारी पड़ रहा है पुरखों का ज्ञान, 1 हजार साल पुरानी ईमारत बनी चुनौती

आपदा विभाग ने उत्तराकाशी की कोटी बनाल वास्तुकला से बनी ईमारतों की कार्बन डेटिंग की तो पता चला कि ये हजारों साल से कई भूकंप झेलने के बाद अभी भी यूं ही खड़ी हैं.

Robin Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: July 17, 2019, 7:39 PM IST
उत्‍तराखंड में साइंस पर भारी पड़ रहा है पुरखों का ज्ञान, 1 हजार साल पुरानी ईमारत बनी चुनौती
कोटी बनाल वास्तुकला से बनी ईमारतें हैं दमदार.
Robin Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: July 17, 2019, 7:39 PM IST
आम जिंदगी में ये कहा जाता है कि पुरखों से मिले ज्ञान का आधार वैज्ञानिक होता है और वो रोज मर्रा की जिंदगी की मुश्किलों को ध्यान में रख ईजाद किया जाता है. कुछ ऐसा ही ज्ञान पहाड़ों की परंपराओं में दिखाई देता है, जो कि पहाड़ की मुश्किल जिंदगी में पर्वतनजनों के काम आता रहा है. जबकि इस बात को हाल ही में आई आपदा विभाग की एक रिपोर्ट ने भी माना है.

आपदा विभाग की रिपोर्ट में हुआ खुलासा
आपदा विभाग की उत्तराखण्ड डिजास्टर रिस्क मैनेजमेंट रिपोर्ट में इस बात को माना है कि पहड़ों में पुरखों से मिले ज्ञान की बदौलत हमारे पुरखे बड़ी से बड़ी आपदा को मात दे देते थे. 2 साल की मेहनत के बाद वर्ल्ड बैंक की मदद से बनाई गई इस रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है.

इस रिपोर्ट में कुछ उदाहरण दिए गए हैं जो ये बताते हैं कि पहाड़ों से मिली परंपराओं में विज्ञान छुपा है. इसका सबसे बड़ा उदाहरण है उत्तराकाशी की कोटी बनाल वास्तुकला से बनी ईमारतें, जो पिछले एक हजार सालों से आज भी यूं ही खडी हैं. जब आपदा विभाग ने इस कला से बनी ईमारतों की कार्बन डेटिंग की तो पता चला कि ये हजारों साल से कई भूकंप झेलने के बाद अभी भी यूं ही खड़ी हैं. हालांकि ये भवन भूकंप के लिहाज से जोन 4 और 5 में आते हैं. पहाडों में जहां आजकल कहा जाता है कि बहुमंजिला ईमारतें बनाने से खतरे बढ़ जाते हैं, लेकिन हमारे पुरखे तो कई सो सालों से बहुमंजिला ईमारतों में ही रहते आए थे.

आपदा विभाग ने ईमारतों की कार्बन डेटिंग की तो पता चला कि ये हजारों साल से कई भूकंप झेलने के बाद अभी भी यूं ही खड़ी हैं.


परंपरागत ज्ञान का नतीजा है ये
दरअसल, वास्तु कला से बनी ईमारतें हमारे परंपरागत ज्ञान का नतीजा है, जिसने सदियों से आपदा के दौरान हमारे जोखिम को कम किया. सूखे से निपटने के लिए उस समय चाल खाल बनाए जाते थे, जहां पानी का संरक्षण किया जाता था. हाल ही में आई आपदा विभाग की एक रिपोर्ट में इस बात पर मुहर लगी है. चूंकि पहाड़ों में खेती और पशुपालन पूरी तरह से बरसात पर निर्भर था इसलिए सदियों पहले से ही परंपरागत रुप से पहाड़ों में चाल खाल बारिश के पानी को संजोने के लिए बनाए जाते थे.
Loading...

सूखे पर भारी है पुराना ज्ञान
पहाडों के परंपरागत ज्ञान ने सूखे जैसी आपदा से होने वाले नुकसान को भी कम किया है. उत्तराखण्ड डिजास्टर रिस्क मैनेजमेंट रिपोर्ट ने माना है कि पारंपरिक ज्ञान ने सदियों से हमारे पुरखों को आपदा से बचाए रखा. स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरटी के सीनियर कंसल्‍टेंट बताते हैं कि गढ़वाल और कुमाऊं में तीन से चार मंजिला ईमारतें हुआ करती थीं और मंजिल को स्थानीय भाषा में एक नाम दिया गया था. वहीं, पुराने कारिगरों से जब इन लोगों ने बात की तो उन्होंने बताया कि स्थानीय चकौर पत्थर का इस्तेमाल किया जाता था.

पहाड़ों में ये काम करनी की थी मनाही
उत्‍तराखंड के पुराने लोगों ने परंपरागत ज्ञान को लोक गीतों और कथाओं के जरिए आगे बढ़ाया. इतिहासकार योगम्बर बर्तवाल बताते हैं कि पुराने समय में ये कहावत थी कि नदी किनारे जिसने मकान बनाया उसका परिवार कभी नहीं पनपा. इसके साथ ही पहाड़ों में घर बनाते समय ये बात ध्यान रखी जाती थी कि घर का मुंह पूरब की तरफ हो ताकि सूरज की रोशनी आती रहे, लेकिन अब ये ज्ञान हम छोड़ते जा रहे हैं.

बहरहाल, अपने परंपरागत ज्ञान और पुरखों की सीख को नजरअंदाज कर हम वो गलतियां कर रहे हैं जो एक नई आपदा को दावत दे रही हैं. अब ये वक्त है अपनी जड़ों की तरफ लौटने का.

ये भी पढ़ें-कोटद्वार में करंट लगने से तीन युवकों की मौत, घर में घुसे बारिश के पानी से सामान निकाल रहे थे

देवभूमि के इस मंदिर में नहीं होती देवताओं की पूजा, जानिए क्‍यों?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 7:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...