अपना शहर चुनें

States

चारधाम यात्रा में टूटा पिछले साल का रिकॉर्ड, तीन गुना से ज्यादा आए यात्री

गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने के बाद इन छह महीने में आए चारधाम यात्रियों के आंकड़े बताते हैं कि चारधाम यात्रा एक बार फिर पटरी पर लौट रही है. वर्ष 2014 की अपेक्षा इस साल तीन गुना अधिक यात्रियों ने गंगोत्री और यमुनोत्री धामों का रुख किया.
गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने के बाद इन छह महीने में आए चारधाम यात्रियों के आंकड़े बताते हैं कि चारधाम यात्रा एक बार फिर पटरी पर लौट रही है. वर्ष 2014 की अपेक्षा इस साल तीन गुना अधिक यात्रियों ने गंगोत्री और यमुनोत्री धामों का रुख किया.

गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने के बाद इन छह महीने में आए चारधाम यात्रियों के आंकड़े बताते हैं कि चारधाम यात्रा एक बार फिर पटरी पर लौट रही है. वर्ष 2014 की अपेक्षा इस साल तीन गुना अधिक यात्रियों ने गंगोत्री और यमुनोत्री धामों का रुख किया.

  • Share this:
गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने के बाद इन छह महीने में आए चारधाम यात्रियों के आंकड़े बताते हैं कि चारधाम यात्रा एक बार फिर पटरी पर लौट रही है. वर्ष 2014 की अपेक्षा इस साल तीन गुना अधिक यात्रियों ने गंगोत्री और यमुनोत्री धामों का रुख किया.

उत्तराखंड में वर्ष 2013 की आपदा ने चारधाम यात्रा को चौपट कर दिया था. 2014 आपदा के साये में ही बीता. 2014 में पचास हजार यात्रियों ने जहां गंगोत्री के दर्शन किए, वहीं यमुनोत्री धाम में मात्र 42 हजार यात्री ही पहुंचे, लेकिन 2015 में राज्य सरकार द्वारा बड़े स्तर पर प्रचार प्रसार और सड़कों की स्थिति में गुणात्मक सुधार आने के कारण इस यात्री सीजन में तीन गुना अधिक यात्री गंगोत्री और यमुनोत्री धाम पहुंचे.

इसे उत्तराखंड में पटरी से उतर चुके पर्यटन के लिए एक बड़ी उम्मीद के तौर पर देखा जा सकता है. एक नजर पिछले तीन सालों में यात्रियों की आमद पर.



 
 

 

वर्ष                            यमुनोत्री                               गंगोत्री

2013                          2,38,140                               2,06,456

2014                          42,720                                  50,063

2015                          1,22,922                                1,60,192

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज