लाइव टीवी

बाबा केदार के दर्शन के लिए उमड़ रहे श्रद्धालु

satendra bartwal | ETV UP/Uttarakhand
Updated: October 28, 2015, 3:24 PM IST
बाबा केदार के दर्शन के लिए उमड़ रहे श्रद्धालु
भैया दूज के पावन पर्व 13 नवंबर को 11वें ज्योतिर्लिंग भगवान केदारनाथ के कपाट बंद हो जाएंगे. कपाट बंद होने से पूर्व देश-विदेश के श्रद्धालु भारी संख्या में दर्शन करने पहुंच रहे हैं. श्रद्धालु पैदल यात्रा की अपेक्षा हवाई सेवा से केदारनाथ के दर्शनों के लिए ज्‍यादा पहुंच रहे हैं.

भैया दूज के पावन पर्व 13 नवंबर को 11वें ज्योतिर्लिंग भगवान केदारनाथ के कपाट बंद हो जाएंगे. कपाट बंद होने से पूर्व देश-विदेश के श्रद्धालु भारी संख्या में दर्शन करने पहुंच रहे हैं. श्रद्धालु पैदल यात्रा की अपेक्षा हवाई सेवा से केदारनाथ के दर्शनों के लिए ज्‍यादा पहुंच रहे हैं.

  • Share this:
भैया दूज के पावन पर्व 13 नवंबर को 11वें ज्योतिर्लिंग भगवान केदारनाथ के कपाट बंद हो जाएंगे. कपाट बंद होने से पूर्व देश-विदेश के श्रद्धालु भारी संख्या में दर्शन करने पहुंच रहे हैं. श्रद्धालु पैदल यात्रा की अपेक्षा हवाई सेवा से केदारनाथ के दर्शनों के लिए ज्‍यादा पहुंच रहे हैं.

बाबा केदार के दर्शन के लिए इन दिनों श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ गई है. करीब 2 सौ तीर्थयात्री रोजाना बाबा केदार के दर पर मत्था टेक रहे हैं. तीर्थ यात्रियों की संख्या में बढोतरी से व्यापारियों और तीर्थ पुरोहितों में भी खुशी देखी जा रही है.

बाबा केदार के दर्शन के लिए पैदल यात्रियों की संख्या में कमी आई है लेकिन हवाई मार्ग से पहुंच रहे तीर्थयात्रियों ने बाबा की नगरी को गुलजार कर रखा है. इस साल बीते वर्षों की अपेक्षा ज्यादा तीर्थ यात्री बाबा केदार के दर्शन को पहुंचे.

केदारपुरी पहुंचे तीर्थयात्रियों ने आपदा के बाद वहां हुए विकास कार्यों की भी तारीफ की, साथ ही निगम के काम और जज्बे को भी सराहा. आपदा में तीर्थ पुरोहितों को भी भारी नुकसान झेलना पड़ा था. तीर्थयात्रियों के न पहुंचने से उनके सम्मुख भी आजीविका का संकट गहरा गया था, लेकिन इस वर्ष तीर्थयात्रियों के पहुंचने से उनकी समस्याएं कुछ हद तक दूर हुई हैं. केदारनाथ में व्यवसाय करने वाले कहते हैं कि केदारनाथ की यात्रा अब पटरी पर लौटने लग गई है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 28, 2015, 3:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर