लाइव टीवी

पहाड़ काट सीधे भागीरथी में डाला जा रहा है मलबा, NHIDCL को नहीं कोई परवाह
Uttarkashi News in Hindi

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: April 20, 2018, 7:42 PM IST
पहाड़ काट सीधे भागीरथी में डाला जा रहा है मलबा, NHIDCL को नहीं कोई परवाह
गंगोत्परी राजमार्ग पर पहाड़ कटान से निकलने वाला टनों मलबा सीधे भागीरथी में डंप किया जा रहा है.

भागीरथी की छाती में ही डंपिंग ज़ोन के नाम पर सुरक्षा दीवार बनाई जा रही है.

  • Share this:
गंगा भारत में सिर्फ़ एक नदी ही नहीं है. गंगा भारतीयता का प्रतीक है, हिंदुओं के लिए मां है और उत्तर भारत की जीवनदाइनी है. शायद इसीलिए उत्तराखंड हाईकोर्ट ने गंगा को जीवित मानव का दर्जा दने का आदेश दिया था. गंगा के इसी महत्व को समझते हुए इस नदी को स्वच्छ बनाने के लिए 18 हज़ार करोड़ रुपये की नमामि गंगे परियोजना चलाई जा रही है. लेकिन ठीक इसके उद्गम में ही इसकी हत्या की कोशिशें की जा रही हैं और न जाने क्यों सब ख़ामोश हैं.

गंगोत्री हाइवे पर भू-स्खलन प्रभावित क्षेत्र धरासू बैंड में भागीरथी के उद्गम के सौ किलोमीटर के दायरे में आने वाले इस क्षेत्र में चारधाम रोड़ परियोजना के तहत सड़क को चौड़ा किया जा रहा है. लेकिन नेशनल हाइवे एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड (NHIDCL) यहां पर्यावरणीय कायदे कानूनों की धज्जियां उड़ा रहा है.

पहाड़ कटान से निकलने वाला टनों मलबा सीधे भागीरथी में डंप किया जा रहा है. इससे भागीरथी का प्राकृतिक प्रवाह पथ बुरी तरह बाधित हो गया है. NHIDCL के अधिकारियों का कहना है कि यह डंपिंग ज़ोन है..



भागीरथी में मलबा गिराने का अपराध करने वाली सरकारी कंपनी अब इस पूजनीय नदी के साथ दूसरा अपराध कर रहे हैं. भागीरथी की छाती में ही डंपिंग ज़ोन के नाम पर सुरक्षा दीवार बनाई जा रही है.



बद्रीनाथ हाइवे पर ऋषिकेश से देवप्रयाग तक के हिस्से में लोक निर्माण विभाग चारधाम रोड परियोजना का काम कर रहा है. दोनों तस्वीरों में काम के तौर तरीकों में कोई अंतर नहीं है. मलबा यहां भी सीधे गंगा नदी में डंप किया जा रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 20, 2018, 7:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading