लाइव टीवी

स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा, हिंदू नहीं है केदारनाथ मंदिर का रावल

News18
Updated: June 3, 2015, 9:21 AM IST
स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा, हिंदू नहीं है केदारनाथ मंदिर का रावल
रुद्रप्रयाग पहुंचे स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने की मांग की है. साथ ही उन्होंने कहा कि केदारनाथ मंदिर के रावल हिंदू नहीं हैं. उन्होंने कहा कि वो लिंगायन संप्रदाय के हैं, जो वेद-पुराणों को नहीं जानते हैं.

रुद्रप्रयाग पहुंचे स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने की मांग की है. साथ ही उन्होंने कहा कि केदारनाथ मंदिर के रावल हिंदू नहीं हैं. उन्होंने कहा कि वो लिंगायन संप्रदाय के हैं, जो वेद-पुराणों को नहीं जानते हैं.

  • News18
  • Last Updated: June 3, 2015, 9:21 AM IST
  • Share this:
रुद्रप्रयाग पहुंचे स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने की मांग की है. साथ ही उन्होंने कहा कि केदारनाथ मंदिर के रावल हिंदू नहीं हैं. उन्होंने कहा कि वो लिंगायन संप्रदाय के हैं, जो वेद-पुराणों को नहीं जानते हैं.

उन्होंने कहा है कि बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के एक्ट के अनुसार ही केदारनाथ में रावल की नियुक्ति की जानी चाहिए. गौरतलब है कि लिंगायत समुदाय से आने वाले केदारनाथ के रावल भीमाशंकर लिंग हैं. स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि बीकेटीसी के साल 1935 के एक्ट में भी लिखा गया है कि केदारनाथ में रावल सहित अन्य कोई भी पुजारी, पंडा यहां तक कि कर्मचारी गैर हिंदू नहीं होगा.

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि जोशीमठ का नाम ज्योर्तिमठ होना चाहिए. वहीं उन्होंने गंगा नदी पर जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण का भी विरोध किया. चारधाम यात्रा के सुचारू संचालन के लिए उन्होंने उत्तराखंड सरकार की पीठ थपथपाई है.

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 2, 2015, 11:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर