लाइव टीवी

इस बार फीकी है यमुनोत्री यात्रा की शुरुआत, छह दिन में 3000 यात्री भी नहीं पहुंचे
Uttarkashi News in Hindi

News18 Uttarakhand
Updated: April 23, 2018, 2:56 PM IST
इस बार फीकी है यमुनोत्री यात्रा की शुरुआत, छह दिन में 3000 यात्री भी नहीं पहुंचे
यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के छह दिन बाद भी यात्रा परवान नहीं चढ़ पाई है.

होटल व्यवसाई बता रहे हैं कि इस महीने उनके पास यात्रा की ख़ास बुकिंग नहीं है. हालांकि मई और जून की उनके पास अडवांस बुकिंग है.

  • Share this:
उत्तराखंड के चार धामों में से यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के कपाट 18 अप्रैल को खुल चुके हैं. श्रद्धालुओं की व्यवस्था के लिए प्रशासन से लेकर स्थानीय होटल व्यवसाइयों और यात्रा पर निर्भर रहने वाले बेरोजगारों ने भी पूरी तैयारी की हुई है लेकिन कपाट खुलने के छह दिन बाद भी यात्रा परवान नहीं चढ़ पाई है. न्यूज़ 18 ने इसकी कारणों की पड़ताल की.

विश्व प्रसिद्ध चारधाम यात्रा का आगाज़ गंगोत्री और यमुनोत्री धाम से 18 अप्रैल को कपाट खुलते ही हो चुका है. चारधाम में श्रद्धालु सबसे पहले यमुनोत्री धाम से यात्रा की शुरुआत करता है लिहाजा यात्रियों की सुविधा के लिए प्रशासन की ओर से व्यवस्थाएं भी चाक चौबन्द की हुई हैं. लेकिन कपाट खुलने के छह दिन बाद भी यमुनोत्री धाम में यात्रा अभी फीकी ही दिख रही है.

इसका सबसे बड़ा कारण इस बार यमुनोत्री-गंगोत्री और बद्रीनाथ-केदारनाथ धाम के कपाट खुलने में पूरे 11 दिन का अंतराल माना जा रहा है इससे अभी स्थानीय लोग मायूस ही दिख रहे हैं जबकि होटल व्यवसाई से लेकर डंडी-कंडी मजदूरों तक ने बेहतर यात्रा में रोजगार की उम्मीद में पूरी तैयारियां की हुई थीं.



यमुनोत्री धाम में अभी 400 से 500 श्रद्धालु ही प्रतिदिन के औसत से पहुंच रहे है जिसे फ़ीकी शुरुआत ही कहा जा सकता है. छह दिनों की यात्रा में अब तक महज़ 2,868 यात्री ही धाम में पहुंचे हैं. होटल व्यवसाई बता रहे हैं कि इस महीने उनके पास यात्रा की ख़ास बुकिंग नहीं है. हालांकि मई और जून की उनके पास अडवांस बुकिंग है.



बदरी-केदारधाम के कपाट खुलने में महज़ पांच दिन का समय बाकी रह गया है लिहाजा इस माह के अंत तक यात्रा बढ़ने की उम्मीद होटल व्यावसायियो को बनी हुई है.

(नितिन चौहान की रिपोर्ट)
First published: April 23, 2018, 2:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading