• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • MAMATA BANERJEE SAYS SHE CALLED FOR OPINION POLL NOT REFERENDUM ON CITIZENSHIP LAW

ममता अपने ही बयान पर घिरीं, अब बोलीं-मैंने रेफरेंडम नहीं ओपिनियन पोल के लिए कहा था

कोलकाता में एक रैली के दौरान ममता बनर्जी नेे सीएए और एनआरसी के विरोध में कथित तौर पर ये बयान दिया था. फोटो.एपी

नागरिकता कानून (Citizenship amendment act) और एनआरसी (NRC) पर गुरुवार को कोलकाता की एक रैली में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) कथित रूप से एनआरसी और नागरिकता कानून पर अपना विरोध जताते हुए ये बयान दिया था. लेकिन चौतरफा आलोचना के बाद अब उन्‍होंने अपने बयान पर सफाई दी है.

  • Share this:
    कोलकाता. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship amendment act) और एनआरसी (NRC) पर दिए अपने बयान पर घिर गई हैं. इसके बाद उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर रेफरेंडम की बात नहीं कही थी. उन्होंने सिर्फ ओपिनियन पोल की बात कही थी. बता दें कि गुरुवार को कोलकाता की एक रैली में ममता बनर्जी ने कथित रूप से एनआरसी और नागरिकता कानून पर अपना विरोध जताते हुए ये बयान दिया था. इसके अनुसार उन्होंने कहा था कि इस मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र या मानवाधिकार आयोग की देखरेख में जनमत संग्रह कराया जाए कि कितने लोग इसके पक्ष में हैं और कितने विरोध में. उनके इस बयान की चौतरफा आलोचना हो रही थी. इसके बाद उन्होंने अपने बयान पर सफाई दी.

    अपने बयान पर सफाई देते हुए ममता बनर्जी ने कहा, 'मुझे अपने देश पर गर्व है. मुझे अपने देश के लोगों पर भी पूरा भरोसा है. मैंने किसी निष्पक्ष संस्था द्वारा ओपिनियन पोल के लिए कहा था.' ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस कानून को तुरंत वापस लेने की मांग की. उन्होंने कहा कि इस मसले पर प्रधानमंत्री मोदी खुद हस्तक्षेप करें और कानून तुरंत वापस लें.

    ममता बनर्जी ने  बीजेपी पर हमला करते  हुए अटल बिहारी वाजपेयी का कथन याद दिलाया. उन्होंने नागरिकता कानून के मुद्दे पर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, अगर नागरिकता कानून इतना ही अच्छा है तो प्रधानमंत्री ने खुद इसके लिए वोट क्यों नहीं दिया. आप दो दिन संसद में थे, लेकिन आपने वोट नहीं दिया. इससे मुझे अंदाजा है कि आप भी इसका समर्थन नहीं करते. इसलिए आप इसे रिजेक्ट कर दीजिए.

    ममता बनर्जी ने कहा कि 23 दिसंबर को पश्चिम बंगाल सरकार एक बैठक करने जा रही है. इसका मुख्य मुद्दा नो एनआरसी, नो सीएए होगा.

    यह भी पढ़ें :- भीड़ नहीं अकेले हैं तब भी धारा 144 में हो सकती है कार्रवाई, जानें कानून
    First published: