कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए वीपीकेएएस ने बनाई खास मशीन, बिना छुए धुले जा सकेंगे हाथ

वीपीकेएएस द्वारा बनाई गई यह मशीन स्‍थानीय लोगों के इस्‍तेमाल के लिए उपलब्‍ध करा दी गई है.
वीपीकेएएस द्वारा बनाई गई यह मशीन स्‍थानीय लोगों के इस्‍तेमाल के लिए उपलब्‍ध करा दी गई है.

अल्‍मोड़ा (Almora) जिला प्रशासन ने वीपीकेएएस (VPKAS) द्वारा बनाई गई इस मशीन को शहर के सार्वजनिक स्‍थल में लगवाने का काम भी शुरू कर दिया है.

  • Share this:
अल्‍मोड़ा. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से बचाव के लिए अल्‍मोड़ा के विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने एक नया यंत्र विकसित किया है. दरअसल, यह यंत्र एक पैडल चलित मशीन है, जिसका इस्‍तेमाल हाथ धोने के लिए होगा. इस मशीन के आ जाने के बाद आपको हैंड शॉप और हाथ धुलने के लिए कुछ छूने की जरूरत नहीं होगी. आप पैसे ही हैंड शॉप लेस सकते हैं और नल को भी चालू कर सकते हैं.

इस यंत्र का शुभारंभ शुक्रवार को डीएम नितिन भदौरिया ने पालिकाध्यक्ष प्रकाश जोशी और संस्थान के निदेशक लक्ष्मीकान्त की मौजूदगी में किया. पैर से चलने वाले इस हैंड वॉश सिस्‍टम का निर्माण संस्थान के इंजीनियर श्याम नाथ, शिव सिंह, घनी राम और राहुल कुमार की टीम ने किया है. इस मशीन को लेकर संस्थान के निदेशक लक्ष्मीकांत का कहना है कि कोरोना योद्धा के रुप में संस्थान ऐसा काम करना चाहता था, जिससे लोगों की कुछ मदद हो जाए.

संस्‍थान ने जिला प्रशासन को सौंपी दो मशीने
उन्‍होंने कहा कि संस्थान ने अपने वैज्ञानिकों के साथ यंत्र की तैयारी में जुट गया था. बेहद कम समय में टीम की मदद से मशीन का निर्माण पूरा किया. सफल परीक्षण के बाद दो मशीन नगर पालिका को और दो जिला प्रशासन को सौंपी गई है, जिन्‍हें शहर के सार्वजनिक स्थानों पर लगाया जा रहा है. वहीं, जिले के डीएम नितिन भदौरिया ने निर्माण करने वाली टीम को बधाई दी है. उन्‍होंने कहा है कि इस मशीन को जल्द ही अन्य स्थानों पर लगाने के लिए भी प्रयास किया जायेगा.
छोटे गांवों तक इस मशीन को ले जाने का होगा प्रयास


नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश जोशी ने कहा कि नगरपालिका भी अपने संसाधनों से सार्वजनिक स्थानों में लगाने  का प्रयास करेंगी. जिससे लोगों को इसका लाभ मिल सके. अभीतक कुछ ही बडें होटलों में सेंसर वाले यंत्र लगाये थे. अभी तक पैर से चलने वाला हैंडवास किसी भी स्तर पर छोटे शहरों में विकसित नही हुआ था. इस प्रयोग के सफल होने के बाद अब जिला मुख्यालय के साथ ही ब्लाक मुख्यालय और अस्पतालों में इस यंत्र की लगने की उम्मीद है.

यह भी पढ़ें:

इस DySP और कॉन्स्टेबल ने शादी पोस्टपोन कर दी, क्योंकि COVID-19 से लड़ना है

सब्जी के ट्रकों में छुपकर पहाड़ पहुंचे जमाती, श्रीनगर में 3 ड्राइवरों समेत 8 पर केस दर्ज
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज