• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • 'मुंहतोड़ जवाब नहीं देंगे, दुश्मन का मुंहतोड़ देंगे'

'मुंहतोड़ जवाब नहीं देंगे, दुश्मन का मुंहतोड़ देंगे'

आईएमए के ऐतिहासिक चेटवुड बिलिल्डिं के परिसर में पीओपी हुई, जिसका गवाह बने उपसेना प्रमुख और सैन्य अधिकारियों के परिजन.

आईएमए के ऐतिहासिक चेटवुड बिलिल्डिं के परिसर में पीओपी हुई, जिसका गवाह बने उपसेना प्रमुख और सैन्य अधिकारियों के परिजन.

देहरादून दुश्मन के नापाक इरादों को नेस्तनाबूद करने की बुलंद हौसलों के साथ आज भरतीय सेना में एक और रणबकुरों की फौज शामिल हो गई हैं. आईएमए के ऐतिहासिक चेटवुड बिलिल्डिं के परिसर में पीओपी हुई, जिसका गवाह बने उपसेना प्रमुख और सैन्य अधिकारियों के परिजन. कैडेट्स में देश की हिफाजत करने का बुलंद जज्बा दिखाई दिया.

  • Share this:
देहरादून दुश्मन के नापाक इरादों को नेस्तनाबूद करने की बुलंद हौसलों के साथ आज भरतीय सेना में एक और रणबकुरों की फौज शामिल हो गई हैं. आईएमए के ऐतिहासिक चेटवुड बिलिल्डिं के परिसर में पीओपी हुई, जिसका गवाह बने उपसेना प्रमुख और सैन्य अधिकारियों के परिजन. कैडेट्स में देश की हिफाजत करने का बुलंद जज्बा दिखाई दिया.

हर कीमत पर देश की आन बान और शान पर अपनी जान न्यौछावर करने का जुनून है. भारतीय सैन्य अधिकारी, जिन्होंने की कठिन ट्रेनिंग के बाद आज भारतीय सेना में शामिल होकर देश की सुरक्षा जिम्मेदारी अपने कंधों पर ली है.

आज देशप्रेम की भावना से ओतप्रोत 401 सैन्य अधिकारियों ने पासिंग आउट परेड पूरे दमखम के साथ शिरकत की. इस सैन्य परेड में उपसेना प्रमुख के साथ कई अधिकारी और कैडेट के परिजन मौजूद रहे. वही अफगानिस्तान, भूटान, मालद्वीप, मॉरीशस , नेपाल, श्रीलंका के साथ कई देशों के कुल 53 विदेशी कैडेट भी परेश में शामिल रहे. उपसेना प्रमुख एनपीएस हीरा का कहना है कि युवाओं का सेना के प्रति आकर्षण बढ़ा है.

उत्तराखंड के युवाओं की आज भी सेना में बादशाहत कामयाब है. युवाओं ने उत्तराखंड के सैन्य राज्य के दर्जे को बरकरार रखा है. जहां यूपी के 77 , हरियाणा के 46, हिमाचल प्रदेश के 24, एमपी के 22, दिल्ली के 24, बिहार के 28 , राजस्थान के 26 ,महाराष्ट्र औप केरल के -14-14 ,जम्मू कश्मीर के 11, चण्डीगढ़, 9 कर्नाटक के 11 , आन्ध्र प्रदेश और छत्तीसगढ़ के 7- 7, तेलंगाना और झारखंड के 5-5, पश्चिमी बंगाल और गुजरात के 4-4, ओसम , मणिपुर ओडीसा के 2-2, त्रिपुरा और मेघालय के 1-1 सैन्य अधिकारी शामिल हैं. तो वहीं उत्तराखंड से 29 सैन्य अधिकारी परेड का हिस्सा बने. सैन्य अधिकारियों का कहना है कि वे दुश्मन को मुंहतोड जवाब ही नहीं देंगे. वे दुश्मन का मुंह तोड़ने देंगे.

प्रत्युष मोहन्ती, सोर्ड ऑफ ऑनर सम्मानित सैन्य अधिकारी का कहना है वे बचपन से सेना में अधिकारी बनना चाह रहे थे. उनका सपना साकार हुआ है. वे देश की सुरक्षा के लिए अपने कर्तव्यों का पालन हमेशा करेंगे. फिलहाल सैन्य अधिकारी देश की सुरक्षा को लेकर काफी सजग, चौकस और सचेत है ऐसे में उनके देश प्रेम का जोश और जज्बा युवाओं को प्रेरणा दे रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज