Home /News /videos /

इस जन्माष्टमी पर मुस्लिम कारीगरों के हाथ के बने मुकुट पहनेंगे भगवान श्री कृष्ण

इस जन्माष्टमी पर मुस्लिम कारीगरों के हाथ के बने मुकुट पहनेंगे भगवान श्री कृष्ण

भगवान

भगवान श्री कृष्ण के लिए मुकुट बनाते मुस्लिम कारीगर

आगरा को कला और साहित्य की नगरी के नाम से जाना जाता है लेकिन आगरा को मोहब्बत और सौहार्द की नगरी भी कहते हैं . यहां पर मुस्लिम कारीगर भगवान के लिये मुकुट से लेकर कई चीजें तैयार करते हैष

    आगरा को कला और साहित्य की नगरी के नाम से जाना जाता है लेकिन आगरा को मोहब्बत और सौहार्द की नगरी भी कहते हैं . यहां पर मुस्लिम कारीगर भगवान श्री कृष्ण के लिए मुकुट आभूषण बनाते हैं. आगरा के शहीद नगर में मुस्लिम कारीगर बड़ी संख्या में भगवान श्री कृष्ण के लिए मोर मुकुट, कपड़े, आभूषण ,बाजूबंद अपने हाथों से बना रहे हैं. जो मथुरा के कई प्रसिद्ध मंदिरों में भगवान श्री कृष्ण के सिर का ताज बनें हैं.

    जरी की कारीगरी से बने मुकुट बनेंगे भगवान कृष्ण की सर का ताज

    आगरा शहीद नगर के तेलीपाड़ा में आगरा स्मार्ट सिटी के माइक्रो स्किल डेवलपमेंट प्रोजेक्टर की तरफ से इन छोटे कारीगरों को काम दिया जा रहा है . जिसके तहत भगवान श्री कृष्ण के सर का ताज बनने वाले मुकुट कपड़े मुस्लिम भाइयों के द्वारा तैयार किए जा रहे हैं. इस प्रोजेक्टर के कोऑर्डिनेटर नीरज बताते हैं कि यह सब आगरा स्मार्ट सिटी के तहत कराया जा रहा है . हमें मथुरा से भी ऑर्डर मिले हैं कितने कारीगर अंतिम रूप देने के लिए बड़ी मेहनत कर रहे हैं .यहां से बनाए गए मुकुट मथुरा में भगवान श्रीकृष्ण व बांके बिहारी के सर का ताज बनेंगे.

    कारीगर कर रहे है कई मुश्किलों का सामना.
    जरी की कढ़ाई करने के लिए यहां कई मुस्लिम कारीगर है. आसपास के इलाके में ज्यादातर घरों में जरी की कढ़ाई का काम किया जाता है. यह कढ़ाई बेहद कठिन है. इसमें बहुत ही महीन हाथों से काम होता है. जिस वजह से इन कारीगरों की आंखों की रोशनी पर भी असर पड़ता है . इन कारीगरों ने अपने बुजुर्गों से इस कारीगरी को सीखा था.लेकिन अब यह अपनी आने वाली पीढ़ियों को इस काम को नहीं सिखा रहे हैं क्योंकि इस काम के प्रति सरकार भी इन लोगों का सहयोग नहीं करती है.  इस वजह से अब यह कला धीरे-धीरे खत्म हो रही है. इस कारीगरी में मेहनत व खर्चा दोनों है लेकिन मेहनत का पूरा हर्जाना नहीं मिल पाता है जिस वजह से धीरे-धीरे आसपास के इलाके की कारीगर इस काम को छोड़कर दूसरा काम अपना रहे हैं.

    Tags: Janmashtami, Lord krishna

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर