Home /News /videos /

lucknow know why 2 species of turtles became extinct in the gomti river 8 species are under threat

लखनऊ:-जानिए आखिर क्यों गोमती नदी में विलुप्त हुई कछुओं की 2 प्रजातियां,8 प्रजातियां पर मंडरा रहा खतरा

X

गोमती नदी तस्करों के लिए बड़ा अड्डा बन चुकी है.यहां से तस्कर कछुओं की तस्करी करके उत्तर प्रदेश के बाहर राज्यों में उनको लेकर जाते हैं और मोटे दामों पर बेचते हैं.यही वजह है कि तस्करी के चलते गोमती नदी से पिछले 22 सालों के दौरान 2 प्रजातियां तो विलुप्त हो चुकी हैं और वर्तमा?

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट:-अंजलि सिंह राजपूत,लखनऊ

    गोमती नदी तस्करों के लिए बड़ा अड्डा बन चुकी है.यहां से तस्कर कछुओं की तस्करी करके उत्तर प्रदेश के बाहर राज्यों में उनको लेकर जाते हैं और मोटे दामों पर बेचते हैं.यही वजह है कि तस्करी के चलते गोमती नदी से पिछले 22 सालों के दौरान 2 प्रजातियां तो विलुप्त हो चुकी हैं और वर्तमान में बची 8 प्रजातियां पर खतरा मंडरा रहा है.उत्तर प्रदेश में कछुओं की कुल 15 प्रजातियां पाई जाती हैं.वही पूरे देश में 29 प्रजातियां मौजूद हैं.इन प्रजातियों में सबसे ज्यादा इंडियन टेंट टर्टल और इंडियन रुफ्ड टर्टल की तादाद है.पिछले एक साल के दौरान सबसे ज्यादा इंडियन टेंट टर्टल की तस्करी के मामले सामने आए हैं.आंकड़ों के अनुसार सितंबर 2021 में लखनऊ से 266 कछुओं को गोमती नदी से तस्कर तस्करी करके हैदराबाद लेकर जा रहे थे जिन्हें पकड़ लिया गया था.नवंबर 2021 को लखनऊ से 250 कछुए तस्कर इंदौर लेकर जा रहे थे इनको भी पकड़ लिया गया था. गोमती नदी से 200 कछुए लेकर तस्कर हरदोई जा रहे थे.इसके अलावा फरवरी 2022 में 318 और अप्रैल 2022 में 160 गोमती नदी से कछुआ तस्कर लेकर जा रहे थे इन सभी को पकड़ लिया गया था.

    अंधविश्वास के चलते हो रही तस्करी

    टर्टल सर्वाइवर अलायंस इंडिया के निदेशक डा.शैलेंद्र सिंह ने बताया कि 1999 में जब गोमती नदी का सर्वे किया गया था तब इसमेंकछुओं कुल 10 प्रजातियां पाई गई थीं.इसके बाद 2003 में सर्वे किया गया था तब 9 प्रजातियां पाई गई.फिर जब 2015 और 16 में सर्वे किया गया तो महज 8 प्रजातियां ही पाई गई थी.कछुओं की संख्या लगातार गोमती में खत्म हो रही है, क्योंकि तस्कर बहुत आसानी से गोमती नदी से कछुओं को पकड़ कर तस्करी कर उत्तर प्रदेश के बाहर के राज्यों में बेचने चले जाते हैं.पिछले एक साल के दौरान 4 ऐसे मामले सामने आए जिसमें गोमती नदी से तस्करों को लेकर दूसरे राज्यों में बेचने जा रहे थे.उन्होंने बताया कि जब तस्करों से पूछा गया कि वो क्यों इनकी तस्करी करते हैं तो तस्करों ने बताया कि अंधविश्वास के चलते एक्वेरियम में रखने के लिए कछुओं को मंगाया जाता है.

    ये प्रजातियां हैं विलुप्त होने के कगार पर
    स्पॉटेड पाउंड टर्टल और इंडियन सॉफ्टशेल टर्टल के अलावा इंडियन पीकॉक सॉफ्टशेल टर्टल,इंडियन रुफड टर्टल क्रिटिकली एंडेंजर्ड हैं.वहीं क्राउंड रिवर टर्टल, इंडियन फ्लैपशेल टर्टल, नैरो हेडेड सॉफ्टशेल टर्टल, इंडियन टेंट टर्टल है इनकी संख्या भी तेजी से घट रही है.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर